Submit your post

Follow Us

आर्यन खान को फिर नहीं मिली बेल, जेल भेजा गया

मैजिस्ट्रेट कोर्ट ने आर्यन खान और अन्य आरोपियों की जमानत याचिका खारिज कर दी है. 08 अक्टूबर को दोपहर 12:30 बजे से कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई शुरू की थी. NCB ने पक्ष रखा था कि ऐसे मामलों पर सुनवाई करने का अधिकार सिर्फ स्पेशल कोर्ट के पास है. मैजिस्ट्रेट कोर्ट के पास नहीं. कोर्ट ने आर्यन के साथ अरबाज़ मर्चेंट और मुनमुन धमेचा की जमानत याचिका भी रिजेक्ट कर दी.

आर्यन आज कोर्ट में मौजूद नहीं थे. उन्हें और अन्य आरोपियों को NCB की एक टीम जेजे हॉस्पिटल लेकर गई थी. उनका मेडिकल टेस्ट कराने के लिए. जिसके बाद छह मेल आरोपियों को आर्थर रोड जेल ले जाया गया. वहीं दो महिला आरोपियों को भायखला जेल भेजा गया. इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक आर्यन और उनके साथ पांच लोगों को बैरक नंबर एक में रखा गया है. जो कि स्पेशल क्वारंटीन बैरक है. उन्हें कोविड के कोई सिम्प्टम नहीं हैं और उनकी रिपोर्ट भी नेगेटिव आ चुकी है. इसलिए उन्हें सिर्फ अगले पांच दिनों तक ही क्वारंटीन किया जाएगा. बता दें कि आर्यन के पास बेल के लिए सिर्फ शाम छह बजे तक का ही समय था. क्योंकि उसके बाद जेल के दरवाज़े बंद हो जाते हैं.

इससे पहले कोर्ट ने आर्यन को 07 अक्टूबर तक NCB कस्टडी में भेजा था. कल उनका कस्टडी पीरियड खत्म होने होने के बाद कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई. जहां कोर्ट ने आर्यन और अन्य 7 आरोपियों को बेल नहीं दी. साथ ही उन्हें अगले 14 दिनों के लिए जूडीशियल कस्टडी यानी न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. यहां बता दें कि ये आठों आरोपी जेल नहीं गए. उन्हें अपनी रात NCB दफ्तर में बितानी पड़ी. इसकी वजह थी कि उनके पास कोविड की नेगेटिव रिपोर्ट नहीं थी. आर्यन के वकील सतीष मानशिंदे ने बेल की अर्जी लगाई थी. जिसपर ASG अनिल सिंह ने कहा था कि बेल पर सुनवाई स्पेशल NDPS कोर्ट में ही होगी. वो कोर्ट, जहां नार्कोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सब्स्टेंसेज़ एक्ट से जुड़े केसों की सुनवाई होती है.

07 अक्टूबर की सुनवाई में NCB ने कोर्ट में 11 अक्टूबर तक आर्यन की कस्टडी की मांग की थी. उनका कहना था कि आर्यन खान ड्रग्स केस में कुछ और लोग अरेस्ट किए जा सकते हैं. जिन्हें आर्यन के सामने ले जाकर पूछताछ की जाएगी. हालांकि, चीफ मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट आरएम नेरलिकर ने NCB की बात मानने से इनकार कर दिया. मैजिस्ट्रेट ने अपने ऑर्डर में कहा कि NCB के पास पूछताछ के लिए पर्याप्त समय और मौका था. इसलिए अब आरोपियों को जूडीशियिल कस्टडी में भेजा जाएगा.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक NCB ने अब तक इस केस में 17 लोगों को अरेस्ट किया है. जिनमें से दो नए गिरफ्तार लोगों को कोर्ट के सामने पेश किया गया था. इनमें से एक नाम था अचित कुमार. NCB के प्रॉसीक्यूटर अद्वैत सेठना ने कोर्ट को बताया कि अचित किसी तरह आर्यन से जुड़े हुए हैं. और आर्यन के बयान के आधार पर ही अचित की गिरफ्तारी हुई है. प्रॉसीक्यूटर ने ये भी बताया कि अचित एक ड्रग सप्लायर हैं. जिनके पास से 2.6 ग्राम गांजा भी बरामद हुआ है. इस पूरे मामले में एक विदेशी शख्स को भी जोड़ा जा रहा है. जिसे इंटरनेशनल ट्रैफिकिंग से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है.

कल कोर्ट में सुनवाई के दौरान आर्यन ने क्रूज़ शिप पर जाने वाली रात का पूरा घटनाक्रम बताया. उन्होंने बताया कि उनके प्रतीक नाम के एक दोस्त ने उन्हें ऑर्गनाइज़र्स से कनेक्ट करवाया. प्रतीक ने कहा कि उन्हें VVIP के तौर पर इंवाइट किया जाएगा. वो क्रूज़ पर सिर्फ ग्लैमर का तड़का एड करने की मंशा से गए थे. आर्यन के वकील मानशिंदे ने अपने क्लाइंट की ओर से स्टेटमेंट सबमिट किया था. जिसमें आगे बताया गया कि प्रतीक अरबाज़ मर्चेंट के भी दोस्त हैं. इसलिए उन्होंने अरबाज़ को भी इंवाइट कर लिया. जब आर्यन टर्मिनल पर पहुंचे तो उन्हें वहां अरबाज़ मिले. अरबाज़ को वो पहले से जानते थे, इसलिए साथ ही शिप पर जाने लगे. मगर उसी दौरान NCB के लोगों ने उन्हें रोक लिया. उनसे पूछा कि क्या वो ड्रग्स लेते हैं. आर्यन के मना करने पर उन्होंने उनका बैग चेक करना शुरू कर दिया. साथ ही उनकी तलाशी भी ली गई. लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिला.

आर्यन के मुताबिक NCB अधिकारियों ने उनका मोबाईल ले लिया. और उससे तमाम डेटा डाउनलोड कर लिया. कोर्ट ने पूरे मामले की सुनवाई के बाद NCB को 09 अक्टूबर तक अचित कुमार की कस्टडी में भेज दिया था. साथ ही आर्यन और उनके साथ गिरफ्तार हुए 7 अन्य लोगों की NCB कस्टडी की मांग रिजेक्ट कर दी थी.


वीडियो: आर्यन खान को ड्रग्स मामले में कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.