Submit your post

Follow Us

केजरीवाल के पास वैलेंटाइन डे को याद करने की 3 बड़ी वजहें हैं

14 फरवरी यानी वैलेंटाइन्स डे. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के लिए ये दिन कुछ खास नहीं रहा है. तीन मौकों पर इस दिन उनके साथ कुछ ना कुछ घटा है, जो ज्यादातर अच्छा नहीं रहा है. आइए देखते हैं केजरीवाल का वैलेंटाइन डे कनेक्शन:

1. 14 फरवरी 2014: मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा:

14 जनवरी 2014. अरविंद केजरीवाल 49 दिन से दिल्ली के मुख्यमंत्री थे. लेकिन फिर वैलेंटाइन्स डे पर उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया. उन्होंने ये कदम जन लोकपाल बिल पास ना करा पाने के कारण उठाया था. जन लोकपाल बिल एक ऐसी संस्था थी जो सरकारी अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच और दोषी पाए जाने पर कार्रवाई करता. दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और उनके साथियों ने अन्ना हजारे के नेतृत्व में लोकपाल के लिए आंदोलन चलाया था. 2013 में आंदोलन की लहर में दिल्ली विधानसभा के चुनाव हुए केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने 70 में से 28 सीटें जीतीं. इस चुनाव में केजरीवाल ने 3 बार से दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को हराया था. बीजेपी 31 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनी. केजरीवाल को सरकार बनाने का मौका मिला. कांग्रेस ने केजरीवाल की सरकार को समर्थन दिया. लेकिन जब विधानसभा में लोकपाल बिल पास नहीं करा पाए तो केजरीवाल ने इस्तीफ़ा दे दिया.

सरकार ना चला पाने के चलते केजरीवाल ने इस्तीफ़ा दे दिया था.
सरकार ना चला पाने के चलते केजरीवाल ने इस्तीफ़ा दे दिया था.

2. 14 फरवरी 2015: मुख्यमंत्री पद की शपथ:

14 फरवरी 2015. इस तारीख से ठीक एक साल पहले केजरीवाल ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दिया था. दोबारा चुनाव हुए और इस बार केजरीवाल को 70 में से 67 सीटें मिलीं. बची हुई तीन सीटें भाजपा के खाते में गईं. मुख्यमंत्री की शपथ के लिए तारीख तय हुई 14 फरवरी. जगह थी दिल्ली का रामलीला मैदान. वही मैदान जहां भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन चलाया गया था. ये वाला वैलेंटाइन केजरीवाल के लिए अच्छा रहा था. इसके बाद उनके लिए वैलेंटाइन पर टेंशन बढ़ने वाली थी.

रामलीला मैदान में शपथ लेते अरविंद केजरीवाल.
रामलीला मैदान में शपथ समारोह के दौरान अरविंद केजरीवाल.

3. 14 फरवरी 2019: उपराज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच लड़ाई का फैसला:

दिल्ली में राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच लड़ाई बहुत पुरानी है. नजीब जंग से शुरू हुई इस बहस में अब अनिल बैजल भी शामिल हो गए हैं. ताजा मामला था अधिकारियों की नियुक्ति को लेकर. केजरीवाल का आरोप है कि LG केंद्र के इशारे पर काम करते हैं. उनकी सरकार में अडंगा डाल रहे हैं. केजरीवाल ने ये भी कहा कि उन्हें अफसरों की नियुक्ति और तबादले की पावर नहीं है. 14 फरवरी को अपने फैसले में जस्टिस सीकरी और जस्टिस भूषण की बेंच ने कहा कि दिल्ली की एंटी करप्शन ब्रांच पर केंद्र का कंट्रोल है. ACB के साथ-साथ कमीशन ऑफ़ इन्क्वायरी भी केंद्र के अधीन आती है. 14 फरवरी 2019 को जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस ए के सीकरी की बेंच ने फैसला दिया जो ना केजरीवाल के पक्ष में कहा जा सकता है और ना ही उनके खिलाफ. इस मुद्दे को हालांकि अब बड़ी बेंच को सौंपा जाएगा जहां उम्मीद है कि बहुमत से इसका फैसला किया जाएगा. फ़िलहाल केजरीवाल को कोर्ट का ये फैसला ‘असंवैधानिक’ और ‘अलोकतांत्रिक’ लग रहा है. 14 फरवरी को इतना सब होने के बाद केजरीवाल चाहेंगे कि वो 13 फरवरी को सोएं और 15 फरवरी को उठें.


वीडियो देखें: 14 फरवरी को भगत सिंह को फांसी नहीं हुई, लेकिन ये तारीख उनसे जुड़ी है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.