Submit your post

Follow Us

अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या ने वो किया है, जिसे बताते हुए लोग फालतू शर्मिंदा होते हैं

हमारे देश में मेंटल हेल्थ एक टैबू बन गया है. ‘श्श्श… इस पर बात मत करो, लोग क्या कहेंगे’, ‘अरे पता चला, फलाने तो साइकायट्रिस्ट के पास जाते हैं, लगता है पगला गये हैं’, जैसी बहुत-सी बातें आपने भी सुनी होंगी. भारत ऐसा देश है, जहां कुछ लोग किसी भी तरह की दिमागी बीमारी को पागल घोषित कर देते हैं. साइकायट्रिस्ट या काउंसलर की मदद लेने से ज़्यादा टोने-टोटके में विश्वास करते हैं. यहां मेंटल हेल्थ को समझाने के लिए अक्षय कुमार को ‘भूल-भुलैया’ और शाहरुख खान को ‘डियर ज़िंदगी’ जैसी फिल्में बनानी पड़ती हैं. इस टैबू को तोड़ते हुए अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या ने अपनी मेंटल हेल्थ पर खुलकर बात की है.

नव्या नवेली नंदा जो हाल ही में ग्रेजुएट हुई हैं, उन्होंने बताया कि बीते कुछ समय से वो एंग्जाइटी से जूझ रही थीं. उसके बाद उन्होंने थेरेपी ली. एक वीडियो में अपनी एंग्जाइटी को लेकर नव्या बड़ी सहजता के साथ बोलीं। उन्होंने एंग्जाइटी वाले दिनों के स्ट्रगल और उससे जुड़ी थेरेपी पर भी खुलकर बात की. नव्या ने बताया कि पहले वो इस थेरेपी को लेकर किसी से बात नहीं करती थीं. सिर्फ उनके परिवार को ही इस बारे में पता था. मगर अब वो इस बारे में खुलकर बात करती हैं.

नव्या ने अपनी एंग्जाइटी और थेरेपी को लेकर कहा,

‘ये चीज़ मेरे लिए बिल्कुल नई थी. मैं इसके बारे में बात करने से पहले इसको फील करना चाहती थी. ज़ाहिर है कि मेरे परिवार को इस बारे में मालूम था, मगर मेरे दोस्तों को नहीं. मैं कई बार ये फील करती थी कि अब इससे बुरा कुछ नहीं हो सकता. लेकिन अब मुझे पता है कि मैं वो फील क्यों करती थी. मुझे लगा ठीक है, चीज़ों को बदलना ज़रूरी है. मुझे इस पर बात करने की ज़रूरत है. अब मैं हफ्ते में एक बार इसी रुटीन पर हूं और सारी चीज़ें कंट्रोल में हैं. मुझे पता है, क्या चीज़ मुझे बार-बार परेशान कर रही थी.’

नव्या ने नेगेटिविटी पर कहा,

‘मेरी लाइफ में एक टाइम ऐसा था, जब मैं पॉजिटिव लोगों के साथ नहीं थी. जो चीज़ मैं सोचती थी, नेगेटिविटी उसे प्रभावित करती थी. सिर्फ अपने ही नहीं, दुनिया के बारे में भी ऐसे ही विचार आते थे. मैंने उन लोगों से बहुत सीखा, जो मेरे आस-पास थे और उन्होंने मुझे खुश रहने में मदद की.’

 

  नव्या के ग्रेजुएट होने पर उनकी मां श्वेता बच्चन ने ऐसे रिएक्ट किया-

 

नव्या बॉलीवुड में पहली ऐसी नहीं हैं, जिन्होंने अपनी मेंटल हेल्थ के बारे में बात की. इससे पहले दीपिका पादुकोण और ऋतिक रोशन भी मेंटल हेल्थ के बारे में खुलकर बात कर चुके हैं.

दीपिका ने भी बताया था, अपना डिप्रेशन वाला फेज़

दीपिका आज भले ही फेमस एक्ट्रेस हैं, मगर एक समय ऐसा भी था, जब ‘मस्तानी’ डिप्रेशन से जूझ रही थीं. उन्होंने बताया था कि साल 2014 में उन्हें पता चला कि वो डिप्रेशन में हैं. उन्हें कई बार नेगेटिव थॉट्स आया करते थे. वह लम्बे समय तक रोया करती थीं. मगर इसका फर्क कभी उनके प्रोफेशन पर नहीं पड़ा. जागरण डॉट कॉम के मुताबिक, दीपिका ने कहा था कि जब आप डिप्रेशन में होते हैं तो बिस्तर से उठना पसंद नहीं करते. डिप्रेशन के समय काम करना उनके लिए बहुत मुश्किल था. लेकिन अब सब ठीक है.


View this post on Instagram

👩🏽‍🏫 @worldeconomicforum @tlllfoundation #wef20 #crystalaward2020 #crystalawards

A post shared by Deepika Padukone (@deepikapadukone) on

पूरी गंभीरता से लें

अपने डिप्रेशन पर बात करते हुए दीपिका पादुकोण ने कहा था कि इसे सीरीयसली लिया जाना चाहिए. जब आपको छोटी-छोटी बात पर गुस्सा आने लगे, खालीपन फील हो तो आप अपनी मेंटल हेल्थ को गंभीरता से लें. किसी से अपने मन की बात कहें. अगर आप डिप्रेशन महसूस कर रहे हैं तो काउंसलर की मदद ज़रूर लें.

द लिव, लव एंड लाफ फाउंडेशन

दीपिका पादुकोण मेंटली हेल्थ को बहुत सीरियसली लेती हैं. डिप्रेशन से निकलने के बाद उन्होंने साल 2015 में ‘द लिव, लव एंड लाफ फाउंडेशन’ खोला. जिसमें लोगों को मानसिक बीमारी के बारे में जागरुक किया जाता है. इस फाउडेंशन में लोगों को जनरल प्रैक्टिशनर्स के सेशन करवाए जाते हैं. जिनमें भी स्ट्रेस या एंग्जायटी के लक्षण होते हैं उनकी मदद की जाती है.

 

 

 

View this post on Instagram

 

The famous post pack up shot with @avigowariker . #funshoots #hrx @hrxbrand A post shared by Hrithik Roshan (@hrithikroshan) on

ऋतिक रोशन ने भी डिप्रेशन पर की थी बात

एक्टर ऋतिक रोशन ने भी डिप्रेशन पर अपने विचार रखे थे. 2017 में उन्होंने बताया था कि पर्सनल लाइफ में  उन्होंने कई बार अप्स एंड डाउन्स देखें हैं. जिसके बीच डिप्रेशन में भी रहे हैं. ऋतिक ने ये भी कहा कि ऐसी बातों को कभी छिपाना नहीं चाहिए. मानसिक स्वास्थ्य के बारे में लोगों से सहजता से बात करनी चाहिए. ये कोई ऐसी चीज़ नहीं जिसका इलाज ना हो पाए.


 

वीडियो:

दी सिनेमा शो: ऋतिक रोशन ने ‘वॉर’ में काम करके 100 करोड़ से ज़्यादा कमा लिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पॉज़िटिव न्यूज़ आई है

चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पॉज़िटिव न्यूज़ आई है

बड़े दिनों के बाद.

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

208 में से 97 लोगों में नहीं मिली एंटीबॉडी.

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

प्रशांत भूषण के दो ट्वीट का मुद्दा था.

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

धार्मिक और राजनीतिक कार्यक्रमों को लेकर क्या छूट मिली है?

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.