Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

शायद एक वायरल पोस्ट को देखकर अमित शाह कार्यकर्ताओं के सामने झूठ बोल आए!

3.82 K
शेयर्स

11 जनवरी, 2019. राजधानी दिल्ली का रामलीला मैदान. पूरी बीजेपी और केंद्र सरकार दो दिनों के लिए इसी रामलीला मैदान में है. 11 जनवरी और 12 जनवरी को. बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के लिए. सारे बड़े नेता मौजूद थे. भाषण देने के लिए आए अमित शाह. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष. नेताओं और कार्यकर्ताओं को मोटिवेट कर रहे थे. 2019 के चुनाव के लिए तैयार कर रहे थे. राहुल-सोनिया से लेकर सारे विपक्षी नेताओं की बखिया उधेड़ रहे थे. लेकिन बीजेपी अध्यक्ष से एक मिस्टेक हो गई. हो सकता है गलती से हुई हो. लेकिन संभावना इस बात की ज्यादा है कि इसकी वजह वायरल पोस्ट हो. या फिर अखबार की एक कतरन, जो खूब वायरल हुई.

feature-Aly-copy_080119-065003

एक वायरल पोस्ट में दावा किया गया था

मोदी के 4.5 साल का शासन
61 आम लोग मरे
200 जवान शहीद ओर
1701 आतंकी मारे

और

मनमोहन सिंह का 10 साल का शासन
1788 आम लोग मरे
1177 जवान शहीद ओर सिर्फ
241 आतंकी मारे

अब देश बताये कौन है देश का असली सुरक्षा कवच और रक्षक जिस पर भारत भरोसा करे.

ये वायरल मैसेज की लाइन है. और इसी को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी दोहरा दिया रामलीला मैदान से. कार्यकर्ताओं से कहा कि हमारी सरकार में दोगुने से ज्यादा आतंकियों का सफाया हुआ है.

अब बीजेपी अध्यक्ष बोल रहे हैं, तो कार्यकर्ताओं को तो भरोसा करना ही था. लेकिन हम नहीं कर पाए. इसकी वजह ये थी कि कुछ ही दिन पहले हमारे पास ऐसा मैसेज आया था. हमने इसकी पड़ताल की थी और पाया था कि ये मैसेज गलत है. कैसे गलत है, वो हम आपको बता दे रहे हैं.

नरेश अग्रवाल ने राज्यसभा में सवाल पूछा था.
नरेश अग्रवाल ने राज्यसभा में सवाल पूछा था.

20 दिसंबर, 2017 को समाजवादी पार्टी से पूर्व राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल ने गृह मंत्रालय से 3 सवाल पूछे थे. पहले सवाल में पूछा गया था कि क्या ये सच है कि नई सरकार के आने के बाद कश्मीर घाटी में शहीद होने वाले सुरक्षाबलों के जवानों की संख्या बढ़ गई है. दूसरे सवाल में पूछा कि अगर ये सच है तो ऐसा क्यों है. और तीसरे सवाल में कश्मीर घाटी में हुई सभी आतंकी घटनाओं और उनमें शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों की संख्या पूछी गई थी. इन सवालों के जवाब में गृह मंत्रालय ने साल 2004 (जिसमें मई तक अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी) से 14 दिसंबर, 2017 तक के आंकड़े दिए थे. और ये सारे आंकड़े दो डॉक्यूमेंट्स की शक्ल में गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर मौजूद हैं.

ये आंकड़े बताते हैं कि सबसे ज्यादा आतंकी घटनाएं 2004 में हुईं थीं. इनकी संख्या थी 2565. आतंकी मारे गए थे 976. इसके बाद 2013 तक संख्या लगातार कम होती रही. 2013 में सिर्फ 67 आतंकी मारे गए. लेकिन इसके बाद फिर बढ़ोतरी शुरू हो गई. 2014 में 110 आतंकी, 2015 में 108 आतंकी, 2016 में 150 आतंकी और 2017 में 206 आतंकी मारे गए थे. पूरी लिस्ट देख लीजिए.

गृहमंत्रालय की वेबसाइट का स्क्रीन शॉट, जिसमें आतंकियों के मारे जाने का जिक्र है.

ये तो रही सरकारी लिस्ट. अब साउथ एशिया टेररिज्म पोर्टल को भी देख लीजिए. इसमें साल 2004 से साल 2018 तक भारत में हुई सभी आतंकी घटनाओं और उनमें शहीद हुए सैनिकों और मारे गए आतंकियों और आम नागरिकों का डेटा है.

ये रही साउथ एशिया टेररिज्म पोर्टल की रिपोर्ट.

और अब अगर इसी केंद्र सरकार की बात मानें तो यूपीए के पहले कार्यकाल में 2004 से 2009 तक 3,295 आतंकी मारे गए. दूसरे कार्यकाल यानि कि 2009 से 2014 तक 710 आतंकी मारे गए. 2014 से 2018 तक 581 आतंकी मारे गए. अब अगर किसी के लिए 710 का दोगुना 581 होता है, तब तो कोई बात नहीं. लेकिन गणित की थोड़ी सी भी समझ रखने वाले के लिए तो 710 का दोगुना 1420 होता है. इसलिए ये दावा तो गलत ही है कि मोदी सरकार में मनमोहन सरकार की तुलना में दोगुने आतंकी मारे गए. हां एक चीज है. और वो ये कि यूपीए के पहले  कार्यकाल की तुलना में मोदी सरकार के इस कार्यकाल में जवान कम शहीद हुए हैं और ये एक उपलब्धि है. हालांकि उपलब्धि मनमोहन सरकार की भी रही थी, जब दूसरे कार्यकाल में शहीद होने वाले जवानों की संख्या कम हो गई थी. 2004 से 2009 तक 806 जवान, 2009 से 2014 तक 249 जवान और 2014 से 2018 तक 248 जवान शहीद हुए थे.

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Amit Shah calimed that terrorists gunned down data increased by 218 percent during Modi government than Manmohan government

टॉप खबर

EVM 'हैकर' पर कपिल सिब्बल ने बाद में क्या कहा, जो खुद वहां मौजूद थे?

EVM बनाने वाली कंपनी ने भी इस मामले में बहुत कुछ कहा है.

लंदन में हुई प्रेस कांफ्रेंस में EVM 'हैकर' ने किये ये दावे, पढ़िए पूरी रिपोर्ट

वाईफ़ाई, ब्लूटूथ या वायरलेस डिवाइस से नहीं हो सकती है ईवीएम हैक.

क्या कांग्रेस मध्य प्रदेश में बीजेपी के नेताओं को मरवा रही है?

लगातार राजनीतिक हत्याओं के दावों में कितना सच और कितना झूठ?

ममता बनर्जी की रैली राहुल के प्रधानमंत्री बनने की उम्मीदों पर पानी फेरेगी!

राहुल गांधी और मायावती ममता बनर्जी से दूर क्यों भाग रहे हैं?

रिजॉर्ट पॉलिटिक्स के चक्कर में जेडीएस-कांग्रेस की सरकार गिरने वाली है?

क्या है बीजेपी का'ऑपरेशन लोटस' जो कर्नाटक में सरकार के लिए खतरा बन रहा है.

भारतीय सेना कम करने वाली है अपने एक लाख सैनिक

आर्मी चीफ के इन 4 तरीकों से बदलने वाली है भारतीय सेना की सूरत.

1200 पेज की चार्जशीट में कन्हैया कुमार, उमर खालिद के खिलाफ ये सुबूत!

फरवरी 2016 में जेएनयू कैंपस में नारेबाजी का मामला.

ये दो चिट्ठियां देखकर मोदी खुश होंगे और राहुल गांधी के पसीने छूट जाएंगे!

कर्नाटक में तीनों पार्टियां अपने-अपने विधायकों की गठरी बांध रही हैं.

क्या मोदी के दांव की वजह से आलोक वर्मा को मजबूर होकर इस्तीफ़ा देना पड़ा?

PM मोदी ने CBI डायरेक्टर पद से हटाकर यूं ही आलोक वर्मा को फायर सर्विस में नहीं भेजा था...

CBI में और भसड़ मची, कोर्ट ने नंबर 2 अस्थाना की गिरफ्तारी पर लगी रोक हटाई

CBI डायरेक्टर को हटाने के बाद भी मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं.