Submit your post

Follow Us

इतने विवादों के बाद आखिरकार अक्षय कुमार ने कैनडा की नागरिकता छोड़ ही दी

6 दिसंबर से हिंदुस्तान टाइम्स का सालाना इवेंट एचटी लीडरशिप समिट शुरू हुआ है. इस बार कॉनक्लेव का थीम है- बेहतर कल के लिए बातचीत (Conversations for a better tomorrow). इस समिट की शुरुआत हुई पीएम मोदी के भाषण से. उन्होंने कहा कि आर्टिकल 370 का हटना और अयोध्या विवाद का सुलटना देशवासियों के कल की बेहतरी के लिए उठाया गया कदम ही है. पिछली बार दीपिका-रणवीर के बाद इस साल अक्षय कुमार और करीना कपूर यहां पहुंचे थे. ज़ाहिर तौर पर अपनी फिल्म ‘गुड न्यूज़’ के प्रमोशन के लिए.

हिंदुस्तान टाइम्स से हुई बातचीत में अक्षय और करीना ने अपनी लाइफ और करियर से जुड़ी कई मज़ेदार बातें बताईं. लेकिन इसका हाइलाइट वो है, जो अक्षय ने अपनी नागरिकता के बारे में कहा है. अक्षय कुमार पर दिखावे की देशभक्ति करने के आरोप लगते रहे हैं. और ये चीज़ उनकी फिल्मों और एडवरटाइज़मेंट देखकर पता लगाना कोई मुश्किल काम नहीं है. चुनावों में वोट नहीं देने के बारे पूछने पर वो सवाल टालकर निकल जाते रहे हैं. क्योंकि वो इंडिया में वोट नहीं डाल सकते. अक्षय के पास कैनडा की नागरिकता है. इसलिए जब इंडिया में चुनाव आते हैं, हर एक्टर वोट डालने जाता है लेकिन अक्षय नज़र नहीं आते. ऐसे में उन्हें सोशल मीडिया पर खूब ट्रोल किया जाता है. एचटी लीडरशिप समिट का एक वीडियो आप यहां देख सकते हैं:

हालांकि अब अक्षय को इन दिक्कतों से दो-चार नहीं होना पड़ेगा. उन्होंने इसका ट्रोलप्रूफ इंतज़ाम कर लिया है. एचटी को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा-

” मैंने (इंडियन) पासपोर्ट के लिए अप्लाई कर दिया है. मैं एक भारतीय हूं. लेकिन बड़ा दुख होता है, जब मुझसे ये बात साबित करने को कही जाती है. मेरी पत्नी, मेरे बच्चे इंडियन हैं. मैं यहां टैक्स भरता हूं और मेरी लाइफ यहीं है.”

हर बार नागरिकता की वजह से विवादों में रहने के सवाल पर अक्षय ने बताया कि वो कैनडा के नागरिक बने कैसे. अक्षय कहते हैं-

”एक समय था, जब मेरी 14 फिल्में लगातार फ्लॉप हो गई थीं. मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूं. कैनडा में रहने वाले मेरे एक करीबी दोस्त ने कहा ‘यहां (कैनडा) आजा साथ में काम करेंगे’. मैंने कैनडा का पासपोर्ट बनवाने का प्रोसेस शुरू कर दिया. क्योंकि मुझे लग रहा था कि मेरा करियर खत्म हो चुका है और अब मुझे यहां काम नहीं मिलेगा. लेकिन मेरी 15वीं फिल्म चल गई, जिसके बाद मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. मेरे दिमाग में कभी पासपोर्ट बदलने का ख्याल ही नहीं आया.”

करीना कपूर के साथ एचटी समिट में हिस्सा लेते अक्षय कुमार.
करीना कपूर के साथ एचटी समिट में हिस्सा लेते अक्षय कुमार.

हीरो बनने का कब डिसाइड किया, इस सवाल के जवाब में अक्षय कहते हैं कि वो 7वीं में फेल हो गए थे. इसके लिए उनके पिताजी उन्हें पीट रहे थे. इसी समय उन्होंने कहा कि वो हीरो बनना चाहते हैं. अक्षय कुमार अपने एज ग्रुप के सबसे बिज़ी सुपरस्टार हैं. साल में उनकी चार फिल्में तो रिलीज़ होती ही हैं. इस साल अब तक उनकी ‘केसरी’, ‘मिशन मंगल’ और ‘हाउसफुल 4’ रिलीज़ हो चुकी हैं. चौथी फिल्म ‘गुड न्यूज़’ 27 दिसंबर को लग रही है. इतना बिज़ी रहने के बावजूद उनका कहना है कि वो साल में सिर्फ चार फिल्में शूट करते हैं. बाकी के 205 दिन फ्री रहते हैं. अगर चाहें, तो वो एक साल में आठ फिल्में भी कर सकते हैं.


वीडियो देखें: अक्षय कुमार ने सलमान खान से टकराव पर अपने इरादे ज़ाहिर कर दिए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

छह अस्पतालों ने इलाज करने से मना कर दिया, आठ दिन की बच्ची मौत हो गई

आगरा में 15 दिन में तीन ऐसे मामले देखे गए हैं, जब हॉस्पिटल ने इलाज करने से मना कर दिया.

इटली का दावा, कोरोना वायरस की वैक्सीन मिल गयी

चूहों से इंसानों तक वैक्सीन का सफ़र

इन राज्यों में शराब की होम डिलीवरी कैसे होगी, क्या हैं नियम और तरीके?

शराबियों ने सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ी, तो सरकार ने यह तरीका निकाला है.

हॉस्पिटल ने कह दिया कि दाढ़ी कटवाओ, अब डॉक्टर प्रोटेस्ट कर रहे हैं

काम से हटाए जाने के बाद ये लोग विरोध कर रहे हैं.

क्या कोरोना मरीजों से प्राइवेट अस्पताल मोटी फीस वसूल रहे हैं?

मुंबई से ऐसे कई मामले आए हैं.

पूरी दुनिया में पेट्रोल-डीजल पर सबसे ज्यादा टैक्स भारत में लिया जा रहा है

इस मामले में भारत ने फ्रांस और जर्मनी को पीछे छोड़ दिया है.

इज़रायल का दावा, कोरोना की दवा मिल गयी!

बस बड़े लेवल पर निर्माण का इंतज़ार.

कोरोनावायरस : आंकड़े की जांच हुई तो पश्चिम बंगाल का सच सामने आ गया!

पश्चिम बंगाल का कोरोना से जुड़ी मौतों का आंकड़ा छिपा रहा है?

दिल्ली में शराब पर सरकार की ‘स्पेशल फीस’

..ताकि ‘रहें सलामत पीने वाले’.

लद्दाख BJP अध्यक्ष ने छोड़ी पार्टी, कहा- लद्दाख के लोगों के बारे में न पार्टी सुन रही, न प्रशासन

चेरिंग दोरजे दो महीने पहले ही अध्यक्ष बनाए गए थे.