Submit your post

Follow Us

केरल में लेफ्ट के कार्यकर्ताओं ने 3 RSS के लोगों को घेर कर मारा

आरएसएस के तीन स्वयंसेवकों पर कोझिकोड में हमला हुआ है. इस हमले का आरोप सीपीएम के लोगों पर लगाया गया है. इन तीन घायलों में से एक की हालत चिंताजनक बताई गई है. इन तीनों के नाम सुधीश, बिनीश और राहुल हैं.

खबर के मुताबिक करीब 10 सीपीएम कार्यकर्ताओं ने इन तीनों को कोझीकोड के एक ग्रामीण इलाके में शनिवार को घेर लिया. और इनको बुरी तरह मारा गया. पुलिस का कहना है कि ये इन लोगों की आपसी रंजिश का मामला है. मगर इससे पहले गुरुवार को भी कोझीकोड के ही आरएसएस कार्यालय पर देशी बम से हमला किया गया था. जिसके कुछ ही देर बाद कम्युनिस्ट पार्टी के दफ्तर में आग लगा दी गई थी. इन दोनों घटनाओं से पहले संघ के एक विचारक ने केरल के मुख्यमंत्री का सिर काट कर लाने वाले को 1 करोड़ का इनाम देने का ऐलान किया था.

केरल में लेफ्ट पार्टियों और संघ के बीच हिंसा का लंबा इतिहास रहा है. और इसमें हर पार्टी के लोग बराबरी से शामिल हैं. केरल का कुन्नूर इलाका राजनीतिक हत्याओं के लिए कुख्यात है. पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक, 1991 से 2016 तक 104 राजनीतिक हत्याएं हो चुकी है. इनमें 42 सीपीएम के सदस्य थे और 41 भाजपा के.

2016 में लेफ्ट-एलडीएफ की सरकार बनने के बाद से 4 भाजपा और 3 सीपीएम कार्यकर्ताओं की हत्या हो चुकी है.
राज्य में दोनो पार्टियां एक दूसरे पर आरोप लगाती रहती हैं. मगर हत्याओं के इस सिलसिले में कोई कमी नहीं आई है. केरल देश में सबसे ज़्यादा साक्षरता दर वाला राज्य है. इसकी नैचुरल सुंदरता के लिए इसे भगवान का अपना देश भी कहा जाता है. ऐसे में इस तरह की हिंसा और कट्टरता केरल की अच्छी इमेज के लिए चिंता का विषय है.


ये भी पढ़ें :

आरएसएस के कार्यालय पर फेंका गया बम

कहानी कम्युनिस्टों और RSS के 50 साल की खूनी लड़ाई की

मोहन भागवत की इस बात से बीजेपी-विरोधी पार्टियां भी खुश हो जाएंगी

दो दिन तक लटकी रही लड़की की लाश, पुलिस देखती रही

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?