Submit your post

Follow Us

जो 'रामायण' की टीआरपी से खुश हैं, वो 'महाभारत' के बारे में जानकर बौखला जाएंगे

लॉकडाउन के दौरान ‘रामायण’ से लेकर ‘महाभारत’ समेत 80-90 के दशक के तमाम शोज़ का टीवी पर री-रन चल रहा है. ‘रामायण’ ने टीवी इंडस्ट्री के पिछले पांच सालों के सारे रिकॉर्ड्स तोड़ दिए. बार्क (BARC- Broadcasting Audience Research Council) ने ये सारी बातें अपनी नई रिपोर्ट में बताईं. 28 मार्च से ‘रामायण’ जब टीवी पर आया, तब इसकी रेटिंग नॉर्मल से काफी ऊपर चली गई थी. पहले एपिसोड की रेटिंग थी 3.4% और चौथे एपिसोड तो मामला 5.2% तक पहुंच गया. लेकिन अगर आप ‘महाभारत’ की टीआरपी के बारे में जानेंगे, तो हक्के-बक्के-भौंचक्के रह जाएंगे.

बी.आर. चोपड़ा की ‘महाभारत’ में युधिष्ठिर का रोल करने वाले गजेंद्र चौहान ने शो की रेटिंग से जुड़े कुछ खुलासे किए हैं. उन्होंने बताया कि ‘रामायण’ की टीआरपी देखकर जो लोग खुश हैं, उन्हें जानना चाहिए कि महाभारत के पहले एपिसोड की टीआरपी 79% और आखिरी एपिसोड की रेटिंग 99.6% थी. यानी ‘महाभारत’ दुनिया का सबसे ज़्यादा देखा जाने वाला टीवी शो था. इसके चलते उस शो का नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी शामिल किया जा चुका है. सिनेमा वेबसाइट कोईमोई से बात करते हुए गजेंद्र ने बताया-

'महाभारत' के एक सीन में पांडव और द्रौपदी.
‘महाभारत’ के एक सीन में श्रीकृष्ण, पांडव और द्रौपदी.

”शो को इतने ग्रैंड लेवल पर बनाया गया था कि उसकी टीआरपी पर कोई सवाल ही नहीं उठा सकता था. एक्टर्स से लेकर राइटर्स तक इतनी मेहनत और लगन से काम करते थे कि स्क्रीन पर सबकुछ कंविंसिंग लगता था. शो को देखते वक्त लोग उसके किरदारों से रिलेट कर पाते थे. उन्हें अपने घर में कोई युधिष्ठिर जैसा लगता, तो कोई शकुनी या दुर्योधन जैसा. महाभारत में जैसे किरदार हैं, हम सब वैसे लोगों से मिल चुके हैं. अगर टीआरपी की बात करें, तो वो हमेशा से काफी शानदार रहा.

जब 1987 में रामायण शुरू हुआ था, तब उसके पहले एपिसोड की टीआरपी 34 % और 1988 में आए आखिरी एपिसोड की रेटिंग 78% थी. वहीं जब महाभारत के पहले एपिसोड की रेटिंग 79% थी और 1990 में टीवी पर आने वाले आखिरी एपिसोड की टीआरपी 99.6 % रही थी. अपने इसी रिकॉर्ड की वजह से इस शो को गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी शामिल किया गया. ‘महाभारत’ से पहले हॉलीवुड के दो शोज़ की टीआरपी 80% के आसपास रही थी और उनका नाम था ‘डायनैस्टी’ और ‘डैलस’.”

वनवास के दौरान पांडवों के साथ द्रौपदी.
वनवास के दौरान पांडवों के साथ द्रौपदी.

जो आंकड़े गजेंद्र बता रहे हैं, उसके सामने अभी की टीवी रेटिंग तो कुछ हैं ही नहीं. उस दौर में रेटिंग्स के इतने ऊपर जाने की वजह ये भी रही होगी कि उस दौर में केबल टीवी नहीं थी. लोगों के पास और कुछ देखने का ऑप्शन नहीं था. पिछले वाक्य को पॉलिटिकल नहीं लॉजिकल एंगल से देखा जाए. गजेंद्र का ये भी मानना है कि अगर रवि चोपड़ा (बी.आर चोपड़ा के बेटे) ने वो शो नहीं बनाया होता, तो वो उतना शानदार कभी नहीं बनता. बकौल गजेंद्र रवि के बाद 4-5 लोगों ने महाभारत बनाने की कोशिश की लेकिन वो उस स्तर का शो नहीं बना पाए.


वीडियो देखें: दूरदर्शन पर ‘रामायण’ सीरियल को हिट कराने में मीम्स बनाने वालों का बड़ा हाथ है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सुशांत के साथ काम कर चुके मनोज बाजपेयी, राजकुमार राव और अनुष्का शर्मा ने क्या कहा?

सुशांत ने 11 फिल्मों में काम किया था.

सुशांत के सुसाइड से जुड़ी शुरुआती डिटेल्स आ गई हैं, सुबह 10 बजे तक सब ठीक था

किसे कॉल किया था? घर में कितने लोग थे? वगैरह.

कभी फिल्मी सितारों के पीछे नाचते थे सुशांत, फिर एकता कपूर ने कहा- मैं तुझे स्टार बनाऊंगी

सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्मों से पहले छोटे पर्दे पर काम किया था.

मुम्बई से लेकर सुशांत के पटना वाले घर तक हर तरफ भयानक सदमा है

सुशांत के पिता पटना में रहते हैं. सदमे में चले गए हैं.

13 जून की रात सुशांत के दोस्त उनके साथ उनके घर पर रुके थे

14 जून की सुबह जब कई बार बुलाने पर भी दरवाज़ा नहीं खुला, तो शक हुआ.

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या पर पीएम मोदी समेत राजनीति से जुड़े लोग क्या बोले?

कम उम्र में सुसाइड को लेकर तमाम लोग चौंक रहे हैं.

सुशांत सिंह राजपूत ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या की

हाल ही में उनकी पूर्व मैनेजर दिशा सालियान ने भी सुसाइड किया था.

कोरोना टेस्टिंग पर यूपी सरकार को घेरने वाले पूर्व IAS की पूरी कहानी जानिए!

सूर्यप्रताप सिंह, जिन पर FIR दर्ज हुई.

ज्योतिरादित्य सिंधिया की दूसरी कोरोना जांच रिपोर्ट में क्या निकला?

पिछले दिनों सिंधिया और उनकी मां को कोरोना पॉजिटिव पाया गया था.

WHO ने कोरोना पर राहत देने वाली बात की तो दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने कहा, “अरी मोरी मईया!”

पलटकर WHO से ही सबूत मांग रहे हैं लोग.