Submit your post

Follow Us

सचिन की ये बातें सुनकर तो WTC Final में गदर काट देंगे ऋषभ पंत

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) का फाइनल बस कुछ घंटे दूर है. और इस फाइनल से पहले सचिन तेंडुलकर ने इंडियन विकेटकीपर ऋषभ पंत के लिए कमाल की बात कह दी है. तेंडुलकर ने कहा कि पंत एडम गिलक्रिस्ट की तरह कुछ ही घंटों में मैच बदलने की क्षमता रखते हैं. जिस तरह गिलक्रिस्ट विपक्ष पर चढ़ कर खेलते थे, वही शैली ऋषभ के खेल में भी देखने को मिलती है.

स्पोर्ट्स टुडे से बात करते हुए तेंदुलकर ने कहा,

‘अगर टेस्ट क्रिकेट की बात करें तो पंत के पास वो x-फैक्टर है. कोई भी विपक्षी टीम ऋषभ जैसे खिलाड़ी के सामने गेंदबाज़ी करना नहीं चाहती क्यूंकि उन्हें पता है कि यह खिलाड़ी कुछ ही देर में खेल का रुख़ बदल सकता है. जिस तरह ऋषभ पंत टेस्ट में खेलते हैं,मुझे उनमें गिलक्रिस्ट की छवि नज़र आती है. गिलक्रिस्ट भी इसी नंबर पर बैटिंग करने आते थे और अपनी क्षमताओं पर भरोसा दिखते थे.’

पूरी दुनिया का मानना है कि पिछले साल का ऑस्ट्रेलिया टूर निश्चित तौर पर ही ऋषभ पंत के इंटरनेशनल करियर का टर्निंग पॉइंट रहा. ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ चार मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मैच में पंत को ड्रॉप कर दिया गया था. T20I और वनडे टीम से वह पहले ही बाहर हो चुके थे.

IPL2020 के अपने प्रदर्शन के चलते वह अब टीम के फर्स्ट चॉइस गोलकीपर की रेस में काफी पीछे छूट चुके थे. लेकिन ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ पहले टेस्ट में जब टीम इंडिया महज़ 36 रनो पर सिमटी तो ऋषभ पंत की टीम में वापसी हुई. उसके बाद से पंत ने पीछे मुड़कर नहीं देखा.

सिडनी में हुए सीरीज के तीसरे टेस्ट में पंत की 97 रन की पारी और फिर ब्रिस्बेन टेस्ट में 89 नॉट आउट की बदौलत भारतीय टीम इतिहास रचने में कामयाब हुई. पंत ने अपनी फॉर्म को इंग्लैंड के खिलाफ हुई होम सीरीज में भी जारी रखा और अपना पहला घरेलू शतक भी जड़ दिया. साथ ही T20 और वन डे टीम में भी वापसी की.

#पुजारा बनाम पंत

सचिन तेंदुलकर ने ऋषभ पंत की बैटिंग स्टाइल को लेकर चली आ रही बहस पर भी पूर्ण विराम लगा दिया. तेंदुलकर ने कहा,

‘मुझे याद कि लोगों ने पंत के गैरजिम्मेदाराना शॉट्स को लेकर उनकी काफी आलोचनाएं की थीं.मैं नहीं चाहता कि ऋषभ की तुलना पुजारा से की जाए क्योंकि दोनों के खेलने और रन बनाने का तरीका बिलकुल अलग. हो सकता है कि ऋषभ एक बड़ा शॉट खेलते हुए आउट हो जाएं और पुजारा एक डिफेंसिव शॉट खेलते हुए.

लेकिन अंत में दोनों एक ही ड्रेसिंग रूम में बैठे होंगे, तो फ़र्क नहीं पड़ता कि आप कैसे आउट हुए. कोई आक्रामक रूप से शॉट्स खेलकर रन बनता है तो कोई खिलाड़ी डिफेंड करके रन बनता है. अंत में स्कोरबोर्ड ही मैटर करता है’

भारत और न्यूजीलैंड के बीच होने वाला वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल 18 जून से शुरू होगा. भारत की 15 सदस्यों वाली टीम में पंत का भी नाम है. उम्मीद है इस मैच में भी ऋषभ एक असरदार पारी खेलेंगे.


ये स्टोरी हमारे साथ इंटर्नशिप कर रहे प्रवीण नेहरा ने लिखी है.


ICC हॉल ऑफ फेम में पहुंचा वो क्रिकेटर, जिसने कब्रिस्तान से निकलकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना डाला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

क्या शरीर में वाकई चुंबकीय शक्ति पैदा हो जाती है?

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.