Submit your post

Follow Us

यूट्यूब सनसनी TVF पर बदनामी का दाग!

यूट्यूब चैनल ‘द वायरल फीवर’ (TVF) के सीईओ और चीफ अरुणाभ कुमार पर दो गुमनाम लड़कियों ने मोलेस्टेशन का आरोप लगाया है.

‘इंडियन फोलर’ नाम से एक लड़की ने ‘मीडियम डॉट कॉम’ पर एक आर्टिकल लिखा, जिसका टाइटल था, ‘द इंडियन उबर, दैट इज टीवीएफ’. इसी आर्टिकल पर कमेंट बॉक्स में एक और लड़की ने ऐसे ही आरोप लगाए.

हालांकि टीवीएफ ने इसी आर्टिकल पर कमेंट करके अपना ऑफिशियल रिस्पॉन्स दिया है. उन्होंने इसे ऊटपटांग और TVF और उसकी टीम की मानहानि करने वाला बताया है.

पहले ‘इंडियन फोलर’ नाम से जो लिखा गया, उसे हिंदी में पढ़िए.

2014 में मैं पहली बार अरुणाभ कुमार से मिली थी. मुझे याद है मैं यंग और बबली हुआ करती थी. मैं BKC के एक छोटे से कैफे में उससे मिली. पहली नजर में वो अच्छा लगा. एक चीज और अच्छी लगी कि वो भी मेरी तरह बिहार का रहने वाला था. इस जालिम मुंबई शहर में अपनी जगह बनाने की कोशिश में लगा.

बातचीत यहां से शुरू हुई कि मैं क्या करती हूं, कहां पली बढ़ी, वगैरह. तब मैं 22 साल की थी. डीयू के एक कॉलेज से नई नई पास आउट. प्रोडक्शन में फ्रीलांसर का काम खोजती हुई, क्योंकि उस वक्त कोई मुझे फुलटाइम जॉब नहीं देता.

999

बातचीत आगे बढ़ी तो एक सिरा और मिल गया. वो भी मेरे ही शहर से था. मुजफ्फरपुर. तो हम ‘मैं’ से ‘हम’ पर आ गए. बिहारियों के बोलने का खांटी अंदाज, ‘हमको बंबई में बहुत अकेलापन महसूस होता है.’ मुंबई शहर के बारे में उसने कहा. फिर उसने अपने स्ट्रगल के बारे में बताया. जिस तरह वो मेरे सामने पेश आया, मैं प्रभावित थी. ढाई साल पहले जब स्टार्टअप कूल होते थे, वो आदमी मुझे सुपरकूल लगा.

उसने मुझे ऑफर दिया, मैंने जॉइन कर लिया. भरोसा कीजिए, इससे अच्छा मेरे साथ कुछ नहीं हो सकता था. बिष्ट, सिंह, बिस्वा और अरुणाभ मिलकर शो चला रहे थे. बिष्ट रात रात तक काम करता था. मैं हमेशा सोचती थी कि इन सबके बीच अरुणाभ कहां हैं. जवाब मिलता था कि वो यंग टैलेंट खोज रहे हैं. लगभग तीन साल बाद मैं जानती हूं कि वो क्या खोज रहा था. वो अपने खिलौने खोज रहा था. हां ये मेरे अब्यूज और मोलेस्टेशन की कहानी है.

21वां दिन. मुझे पौने सात बजे अचानक अरुणाभ का बुलावा आ गया. मैं अपने घर के पास थी. उसने फौरन ऑफिस आने को कहा. मेरा कुछ काम अधूरा भी छूटा हुआ था. मैं तुरंत चली आई. तीन लोग ऑफिस में थे. जिनमें से दो मेरे आने के 5 मिनट के अंदर चले गए.

अरुणाभ अपनी कुर्सी पर कैजुअल तरीके से बैठा हुआ था. मैं उसके पास गई. उसने मुझे देखा और बोला, ‘चतुर्भुज स्थान का नाम सुनी हो?’

मैं हैरान रह गई. जिन्हें न पता हो, चतुर्भुज स्थान मुजफ्फरपुर का रेडलाइट एरिया है. मैंने उसे कोई जवाब दिया. उसने आगे कहा, ‘हमको चतुर्भुज स्थान बहुत पसंद है. उधर कमर्शियल डील्स होती हैं. तुम भी तो कमर्शियल डील पर आई हो.’

मैं समझ गई थी कि वो बात कहां ले जा रहा है. मैंने कहा, ‘अरुणाभ आप बड़े भाई हैं. मेरी तबियत थोड़ी ठीक नहीं है. क्या करना है बताइए. हम करके घर जाएंगे.’ उसने अचानक मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा, ‘मैडम, थोड़ा रोल प्ले करें.’ मैं कांप गई. मैंने कभी ऐसा नहीं चाहा था. मैं वहां से भाग गई और खुद को टॉयलेट में बंद कर दिया. और रोई. वो चला गया. मैं सोचती रही कि वो मेरे पीछे क्यों पड़ा है? मैंने ऐसा क्या किया है कि मेरे साथ ऐसा हो रहा है. वो मेरी जिंदगी की सबसे लंबी रात थी.

इसके बाद ये रुटीन बन गया. ‘पिचर्स’ से ‘ट्रिपलिंग’ तक, मुझे मोलेस्ट किया गया. पार्टियों में अरुणाभ मुझे लिफ्ट करने की कोशिश करता या नशे में होने का बहाना करके मेरे ऊपर गिर पड़ता. एक उदाहरण ओला डील के समय की है. ओला टीम की उसके साथ मीटिंग थी और हम लोग नोट्स ले रहे थे. वो कुछ बोलकर मीटिंग से निकल गया और मुझे कुछ नोट्स के लिए बुलाया. मैं पहुंची तो उसने कहा कि ये ‘क्विकी’ का टाइम है. मैंने उसे कहा कि मैं पुलिस में जाऊंगी तो उसने कहा, ‘पुलिस तो मेरी पॉकेट में है.’

मैं वहां से चली गई. ये सोचकर कि कभी वापस नहीं आऊंगी. फिर मुझे लीगल वालों का फोन आया कि मैं कॉन्ट्रैक्ट से बंधी हूं. मेरी मां भी मुझसे कहती थीं कि उनसे लड़ाई मत करो. क्यों? क्योंकि 24 साल की एक लड़की एक पैसे वाले IIT के लड़के से नहीं लड़ सकती. उसने मेरे पापा को फोन किया और कहा कि मैं कहानियां बना रही हूं. इसका जो भी मतलब हो.

फिर दूसरी तरह के ईशूज शुरू हुए. मार्च 2016 की शुरुआत. मैं ऑफिस में थी. उससे लंबे समय से मिली नहीं थी, लेकिन उसने मुझे बख्शा नहीं था. वो मेरे पास आकर पूछता था कि मैं कैसी हूं. मैं अपने बॉसेस के पास जाती और कहती कि मैं उसे नहीं देखना चाहती. वे कहते कि फिर यहां से चली जाओ. मैंने (नवीन) कस्तूरिया को बताया कि मेरे साथ ये हुआ. तो वो हंसा और बोला, ‘दुनिया है. होता है.’ मैंने सोचा कि काश मैं खुद को खत्म मार पाती.

हद पार हुई ‘ट्रिपलिंग’ की प्रोडक्शन शुरू होने के समय. जब KRK आता था और अरुणाभ उसके सामने दलाल बन जाता था. उसने KRK को वादा किया कि वो हम में से दो लड़कियां उन्हें गिफ्ट करेगा. ये बात मुझे KRK ने ही बताई. बुरा आदमी नहीं है वो. इस मामले में ईमानदार था.

पिछले साल मैंने नौकरी छोड़ दी. जॉबलेस. माइंडलेस. मेरे पास कहने के लिए ज्यादा कुछ नहीं है. मैं बाकी लड़कियों की तरह स्ट्रॉन्ग नहीं हूं. मुझे बस अपनी लाइफ वापस चाहिए. मुझे नहीं लगता कि ये लोग मुझे ऐसा करने देंगे. उनकी लीगल टीम की तरफ से लगातार मुझे काम के रिमाइंडर आ रहे हैं. लगता है कि मुझे अब भी ट्रैक किया जा रहा है.

अरुणाभ, मैं जानती हूं कि तुम जानते हो कि मैं कौन हूं. लेकिन, *****. (गाली)


 

इसी आर्टिकल पर एक और लड़की ने कमेंट किया है. उसने लिखा, ‘मैं भी TVF की एक्स एम्प्लॉयी हूं और वहां काम करने के दौरान मेरे साथ भी ऐसा ही अनुभव रहा है. मुझे ठगा गया, मेरा शोषण किया गया और मुझे बहुत बुरे हालात में नौकरी छोड़नी पड़ी. मुझे उम्मीद है कि तुम्हारी जिंदगी अब ठीक होगी. वो जगह बिल्कुल औरतों के काम करने के लिए नहीं है.’

Comment1
उधर टीवीएफ ने इसी आर्टिकल पर अपना पक्ष भी लिखा है. उन्होंने आरोपों को पूरी तरह नकारा है और इसे ऊटपटांग बताया है.

TVF Response

लेकिन इन आरोपों पर सोशल मीडिया में चर्चा शुरू हो गई है. हालांकि इसी आर्टिकल पर मिले जुले कमेंट्स आए हैं. कुछ ने ये भी लिखा है कि इससे किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचना चाहिए. लोगों ने इशारों मे लिखा है कि कुछ लोग टीवीएफ से नफरत करते हैं और हो सकता है कि वो इसी वजह से बातें फैला रहे हों.

Comment2

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

धोनी के फेयरवेल मैच पर ऐसा 'लल्लनटॉप' आइडिया किसी ने सोचा भी नहीं होगा!

इरफान पठान ने निकाला कमाल का आइडिया.

अर्जुन पुरस्कार ना मिलने से नाराज़ साक्षी मलिक ने PM मोदी से पूछे बड़े सवाल

लगातार खुद के लिए अर्जुन पुरस्कार मांग रही हैं साक्षी.

अक्षय कुमार की 'सूर्यवंशी' और रणवीर सिंह की '83' की रिलीज पर तगड़ा अपडेट आया है

दोनों फिल्मों का काफी इंतजार किया जा रहा है.

केंद्र सरकार ने राज्यों से लॉकडाउन को लेकर अब क्या कहा है?

कई राज्यों में अलग-अलग तरह के लॉकडाउन लागू हैं.

सुरेश रैना बोले, अगर ये बैट्समैन होता तो पक्का जीत जाते 2019 विश्वकप!

धोनी तो नहीं जिता पाए लेकिन रैना को इस बैट्समैन से थी पूरी उम्मीद.

आयुष मंत्रालय के सचिव ने हिंदी को लेकर क्या कह दिया कि बवाल कट गया है?

एक्टर और राजनेता कमल हासन ने भी ट्वीट किया है.

कोरोना कब खत्म होगा, WHO ने बता दिया

इस सवाल का जवाब हर कोई चाहता है.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा- तबलीगी जमात के खिलाफ प्रोपेगैंडा चलाया गया, 'बलि का बकरा' बनाया गया

29 विदेशी तबलीगी जमात के सदस्यों समेत कई के खिलाफ दर्ज FIR कोर्ट ने रद्द की.

पीएम मोदी और रजनीकांत ने जंगल में जो किया था, अक्षय कुमार भी वही करने जा रहे हैं!

ऐसा करने वाले तीसरे भारतीय होंगे.

सुशांत सिंह की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट की जांच कर रहे AIIMS के डॉक्टर ने बड़ी बात कह दी

शीना बोरा मर्डर और जेसिका लाल मर्डर केस के फॉरेंसिक से जुड़े मसलों को हैंडल कर चुके हैं.