Submit your post

Follow Us

कोरोना संकट में #POSTPONE_SSC_CHSL ट्रेंड कराने वालों की व्यथा सुन लीजिए

कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार और राज्य सरकारें 10वीं और 12 वीं के एग्जाम को लेकर फैसला ले चुकी हैं. 12वीं की परीक्षाएं टाली गई हैं और 10वीं की कैंसल ही कर दी गई हैं. लेकिन, दूसरी तरफ प्रतियोगी परीक्षा के स्टूडेंट्स पर किसी भी तरह की नरमी देखने को नहीं मिली है. SSC CHSL एग्जाम 12 अप्रैल से शुरू हो चुका है और 27 अप्रैल तक चलेगा. तय शेड्यूल के हिसाब से इस परीक्षा में करीब 30 लाख छात्रों को भाग लेना था. हालांकि सोशल मीडिया पर स्टूडेंट एग्जाम शुरू होने से पहले ही मुहिम चला रहे हैं. लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं है. इस बीच ऐसे कई केसेज जानने में आए हैं, जिनमें स्टूडेंट के एग्जाम देकर आने के बाद बीमार पड़ने की बात कही गई है. इसके बाद SSC स्टूडेंट्स ने इस सोशल मीडिया मुहिम को और तेज कर दिया है.

SSC एग्जाम देने गए, कोरोना लेकर लौटे

SSC CHSL की परीक्षा स्टाफ सेलेक्शन कमीशन यानी SSC करवाता है. यह परीक्षा कंबाइंड हायर सेकेंडरी लेवल की है. इसमें सेलेक्ट होने के बाद केंद्र सरकार के मंत्रालयों में जूनियर पदों पर भर्ती होती है. SSC CHSL Tier-1 की परीक्षा 12 अप्रैल से शुरू हो चुकी है और 27 अप्रैल तक चलेगी. Tier-2 और Tier-3 की परीक्षा की डेट अब तक नहीं बताई गई है. छात्र इसी परीक्षा को टालने की मांग कर रहे हैं. कोरोना के खतरे को देखते हुए उन्होंने ट्विटर पर#ssc_jawabdo, #sscchslpostpone, #postpone_chsl2020 और #postponesscchsl जैसे हैशटैग के साथ मुहिम चलाई हुई है. उन्होंने ट्वीट में कमीशन के अधिकारियों को टैग भी किया है. वे उनसे परीक्षा को टालने की मांग कर रहे हैं. हालांकि फिलहाल उनकी सुनवाई होती दिख नहीं रही.

दिल्ली के रहने वाले सौरभ कुमार का सेंटर नोएडा सेक्टर 62 में पड़ा है. वह 16 अप्रैल को एग्जाम दे चुके हैं. बाद में उन्हें कुछ दिन हल्के से लक्षण लगे तो उन्होंने अपने डॉक्टर दोस्त से इस बारे में राय ली. उसने उन्हें कोरोना जांच कराने को कहा है. हमने जब सोमवार (19 अप्रैल) की दोपहर उन्हें फोन मिलाया तो वह कोरोना टेस्ट कराने के लिए सुबह से लाइन में लगे हुए थे. उन्होंने बताया,

’16 तारीख को एग्जाम टलवाने के लिए मैंने सैकड़ों बार SSC के लैंडलाइन नंबरों पर फोन किए. उन्हें कई मेल भी लिखे लेकिन किसी ने कोई रेस्पॉन्स नहीं दिया. मैं एग्जाम तो दे आया हूं. अब देखता हूं कि कहीं कोरोना पॉजिटिव तो नहीं हो गया. इसके लिए कोरोना टेस्ट कराने में लगा हूं. मेरे कुछ दोस्त ऐसे हैं जो बीमार होने की वजह से एग्जाम नहीं दे पाए. अच्छा होता कि एग्जाम की तारीख आगे बढ़ा देते.’

दिल्ली में रह कर प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी करने वाली विनीता का भी ऐसा ही कुछ कहना है. वह कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से अपना एग्जाम नहीं दे पाईं. उन्होंने लल्लनटॉप को बताया,

‘मैं 5 तारीख से ही कोरोना के लक्षणों से ग्रसित थी. मुझे तेज बुखार के साथ सांस लेने में भी तकलीफ हो रही थी. लेकिन कमजोरी काफी ज्यादा थी. ऐसे में 12 अप्रैल को एग्जाम देने की हिम्मत नहीं जुटा पाई. मैंने SSC की वेबसाइट पर जाकर ऐसी हालत में अपना एग्जाम आगे बढ़वाने के विकल्प भी देखे लेकिन वहां ऐसा कुछ नहीं मिला. अच्छा होता कि ऐसे बुरे हालात में एग्जाम टाल ही दिए जाते.’

वहीं, कानपुर की रहने वाली प्रियंका ने लल्लनटॉप को बताया,

’12 अप्रैल को एग्जाम देने के बाद मुझे काफी दिक्कतें आने लगी हैं. मुझे बुखार-जुकाम जैसे लक्षण आने लगे हैं. मेरा कोरोना टेस्ट अभी पेंडिंग है. मेरे पिताजी मुझे एग्जाम दिलाने के लिए सेंटर पर गए थे. उनकी भी तबियत काफी खराब है. एग्जाम सेंटर में इस बार टेंप्रेचर भी नहीं लिया गया. सोशल डिस्टेंसिंग का नियम-कायदा नहीं था. सेंटर के बाहर जो पैरेंट्स अपने बच्चों को एग्जाम दिलाने आए थे वह भी साथ ही खड़े थे. ऐसे में नियम-कायदा कम ही फॉलो हो रहा था.’

ऐसी ही परेशानी का शिकार मध्यप्रदेश के मंदसौर के रहने वाले यशवर्धन सिंह भी हैं. यशवर्धन का एग्जाम 26 तारीख को है. लेकिन वह पहले ही कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं. उन्होंने बताया,

‘मैं 9 तारीख से कोरोना पॉजिटिव हूं. मेरी वजह से मेरे माता-पिता भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं. ऐसे में मुझे ही सबका ख्याल रखना पड़ रहा है. पिताजी अस्पताल में भर्ती हैं. मुझे ही खाना बनाने से लेकर अस्पताल तक सारा कुछ देखना पड़ रहा है. मेरा सेंटर यहां से 200 किलोमीटर दूर इंदौर में पड़ा है. वहां तक कैसे जाऊंगा इसका मुझे पता नहीं है. वाहन भी नहीं चल रहे हैं. वहां जाकर कहां रुकूंगा कैसे एग्जाम के सेंटर पर पहुंचूंगा इसका मुझे कोई अंदाजा नहीं है.’

सोशल मीडिया पर मुहिम अब भी चालू

भले ही 12 अप्रैल से एसएससी सीएचएसएल का एग्जाम चल रहा है, लेकिन लोग इसे टलवाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं. एसएससी एग्जाम दे रहे स्टूडेंट्स के लिए गर्मजोशी से लड़ रहे टीचर रामो सर ने एक के बाद एक कई सवाल किए हैं. उन्होंने ट्विटर पर लिखा,

मैं कुछ सवाल SSC से पूछना चाहता हूं. क्या SSC का काम सिर्फ परीक्षा की तारीख देना है? क्या बदलती परिस्थिति का आंकलन SSC को नहीं करना चाहिए? जिन लोगों की परीक्षाएं छूट रही हैं, क्योंकि वह संक्रमित हैं या फिर वह दूर मिले सेंटर पर नहीं जा पा रहे लॉकडाउन या कर्फ्यू की वजह से, उनकी जिम्मेदारी किसकी है? सुबह एक स्टूडेंट से बात हुई. वह अस्पतालों की हालत और मौत के आंकड़ो को देख कर डर हुआ है. परसों उसकी परीक्षा है. क्या उसका डर वाजिब नहीं है?

शैलेश यादव का सेंटर प्रयागराज में पड़ा है. उन्होंने ट्विटर पर वीडियो डालकर एग्जाम को बढ़ाने की बात कही. उन्होंने ट्वीट किया,

‘पता चला है कि प्रयागराज में कई जगहों को कोरोना की वजह से सील कर दिया गया है. इस वक्त एसएससी को एग्जाम आगे बढ़ा देना चाहिए. रोज प्रयागराज में कई लोगों की मौतें हो रही हैं. मौजूदा हाल में एग्जाम को स्थगित कर देना चाहिए.’

 

एक और छात्रा मोहित अरोड़ा ने लिखा,

‘मैं 11 अप्रैल 2021 को कोविड पॉजिटिव आया हूं और होम आइसोलेशन में हूं. मैं पिछले 9-10 महीने से इस एग्जाम की तैयारी कर रहा था. लेकिन अब इस हालात में नहीं हूं कि बाहर जाकर एग्जाम दे सकूं. कृपया एग्जाम को आगे बढ़ा दें.’

ट्विटर पर यह मुहिम तेजी से चल रही है. रविवार को SSC एग्जाम को आगे बढ़वाने के लिए 5 लाख से ज्यादा ट्वीट किए गए. हालांकि सरकार और SSC की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. अब जब दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है, ऐसे में वक्त आ गया है कि SSC साफ करे कि एग्जाम अपने नियत समय पर ही होगा या नहीं.


वीडियो – #modi_rojgar_do ट्रेंड कराकर SCC के छात्रों ने PM मोदी को उनका पुराना वादा याद दिला दिया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.