Submit your post

Follow Us

TVF के मुखिया पर लगे आरोपों की एक कहानी ये भी

अरुणाभ कुमार. द वायरल फ़ीवर के मुखिया. वायरल फ़ीवर यानी तमाम वेब सीरीज़ बनाने वाले लोग. इन्हें ऐसे ही जाना जाता है. जब ये मार्केट में आये तो मालूम चला कि स्टार्ट-अप क्या होता है. इन्होंने भी बड़े ‘कूल’ वीडियो बनाये. खूब फ़ेमस हुए. एकदम से इनका ग्राफ़ ऊपर उठा और इतना उठा कि छत फोड़ के बाहर निकल गया.

रोडीज़ के स्पूफ़ से शुरुआत हुई और गैंग्स ऑफ़ सोशल मीडिया ने उन्हें कल्ट स्टेटस दे दिया. ये सब कुछ इतनी जल्दी हुआ कि लोगों को समझ भी नहीं आया. इनके वेब-सीरीज़ और स्पूफ़ बनाने की फील्ड में आने से पहले की भी कहानी है. कहते हैं कि इन्हें एक बड़े मीडिया हाउस ने फंड करने से मना कर दिया था और इन्होंने अपना ही चैनल शुरू करने की ठानी. वो चैनल ऑनलाइन बना. नाम रखा गया, TVF. द वायरल फ़ीवर.


वायरल फ़ीवर हमेशा चर्चा में रहा. उनका एक-एक स्पूफ सही अर्थों में वायरल हुआ. 2,332,232 सबस्क्राइबर्स के साथ वायरल फ़ीवर भयानक कमाऊ चैनल बना हुआ है. इंडिया में टी-सीरीज़ का यूट्यूब चैनल सबस्क्राइबर्स के मामले में सबसे बड़ा चैनल है. इसके पार एक करोड़ साठ लाख सबस्क्राइबर हैं. मगर वीडियोज की संख्या और सब्सक्राइबर का रेशियो देखा जाए तो ‘द वायरल फीवर’ देश का सबसे बड़ा यूट्यूब चैनल है. टी-सीरीज़ के बनाए 10,515 वीडियो में हर वीडियो पर औसतन 1,500 सब्स्क्राइबर हैं. और वायरल फ़ीवर के 198 वीडियो की वजह से उनके पास हर वीडियो पर 11,779 सब्स्क्राइबर हैं. 


फ़िलहाल, चर्चा इस बात की नहीं है. ये सब कुछ किनारे रखा हुआ है. उनका सारा काम, सारे फैन्स, सारे वीडियो, सारे मज़ाक, सारे जुमले, सब कुछ एक किनारे और कुछ छुपे हुए लोगों के लगाये आरोप एक तरफ हो गए हैं. उनका ग्राफ़ जिसने छत तोड़ी हुई थी, अब नीचे झांक रहा है.

बीते दो दिनों में एक के बाद एक अरुणाभ कुमार पर लग रहे मोलेस्टेशन के चार्जेज़ ने इन्हें नीचे घसीट लिया है. अरुणाभ के ख़िलाफ़ कई लड़कियों ने ये आरोप लगाये हैं कि बीते वक़्त में एक या कई मौकों पर अरुणाभ ने उनका सेक्शुअल हरासमेंट किया.  ये सभी आरोप ऑनलाइन लगाये गए हैं. इसमें से अभी तक एक भी केस में किसी भी तरह की पुलिस कम्प्लेंट नहीं की गई है.

इस पूरे मसले पर दुनिया अचानक दो भागों में बंट गई. जैसा कभी ‘सचिन बेहतर है या द्रविड़’ में बंट जाया करती थी. हालांकि आज भी ये ज़रूरी नहीं है कि अगर कोई वायरल फ़ीवर के खिलाफ़ है तो वो उन लड़कियों के पक्ष में ही है. वायरल फ़ीवर में काम करने वाले बड़े नाम बार-बार अनवरत तरीके से अरुणाभ का बचाव कर रहे हैं. वहीं जो एक बात उनके खिलाफ़ जा रही है और उन्हें लोगों के गुस्से का सामना कर पड़ रहा है वो है उनकी दी हुई सफ़ाई.

TVF response

इस सफ़ाई में जो दिक्कत नज़र आई वो उस हिस्से में जहां बिना किसी जांच के अरुणाभ पर लगाए आरोपों को खारिज कर दिया और साथ ही ये भी आहा गया कि आरोप लगाने वाले आर्टिकल लिखने वालों के खिलाफ़ कार्रवाई की जायेगी. इस हिस्से से लोगों को सबसे ज़्यादा नाराज़गी हुई और इसी ने मामले को ज़्यादा बड़ा किया. एक वक़्त पर ऐसा लगने लगा कि ट्विटराती के लिए लड़कियों के लगाए आरोपों से ज़्यादा वायरल फ़ीवर की सफाई ज़्यादा ज़रूरी थी.

इस पूरे मसले पर टीवीएफ़ की एक बड़ी ऐक्ट्रेस और कास्टिंग डायरेक्टर निधि बिष्ट ने अपने पोस्ट में कहा कि वायरल फ़ीवर लड़कियों के लिए काम करने की बहुत ही सही जगह है और उनके लिए ये पूरी तरह से सेफ़ है. जब 24 घंटे पहले (उस वक़्त) पहला ब्लॉग आया तो मैंने उसे पूरी तरह से डिसमिस कर दिया क्यूंकि जिस लड़की का डिस्क्रिप्शन उस ब्लॉग में था, वैसी कोई लड़की टीवीएफ़ में काम ही नहीं करती थी. लेकिन चूंकि और भी ऐसे ही पोस्ट्स आ रहे हैं तो मैं भी उतनी ही शॉक्ड हूं जितने कि बाकी सभी हैं.

TVF Nidhi Bisht

इस पूरे मामले में बिस्वपति सरकार के स्टेटमेंट का इंतज़ार किया जा रहा था. बिस्वपति टीवीएफ़ के हेड राइटर हैं और एक बहुत बड़ा खंभा हैं जिनपर टीवीएफ़ टिका खड़ा है. बिस्वपति ने ऐसा दिखाया कि वो ज़्यादा टाइम खोटी करने के मूड में नहीं हैं. उन्होंने निधि बिष्ट का पोस्ट शेयर किया और कुछ ट्वीट किये. सबसे पहले ट्वीट में उनका कहना था कि आज के वक़्त में ख़बरों को सेंसेशनल बनाने पर ज़्यादा ज़ोर दिया जा रहा है और फैक्ट्स से मुंह मोड़ा जा रहा है. इसके आगे उनके कुछ ट्वीट्स और आये.

biswapati tweets

biswapati tweets2

इसके अलावा कुछ और ऐसे लोगों की बातें सुनने-पढ़ने को मिलीं जो कॉमेडी की फ़ील्ड में जुटे हुए हैं. स्टैंड अप कॉमेडियन हैं या ऐसे ही किसी ग्रुप का हिस्सा हैं जो लोगों को हंसाने के लिए और इसी माध्यम से उन्हें जागरूक बनाये रखने के लिए ज़िन्दा हैं. इस वक़्त ये ध्यान में रखना चाहिए कि समूची दुनिया में महिलाओं के इश्यूज और उनकी सिक्योरिटी के बारे में सभी कॉमेडियन्स बहुत खुलकर बातें कर रहे हैं. सौरभ पन्त ने क्या कहा:

sorabh pant

डेनियल फर्नान्डीज़ एक बहुत तेज़ी से पॉपुलर हुए कॉमेडियन हैं. इनकी यूएसपी यही है कि इन्होंने सबसे मेरिटल रेप और लड़कियों के इश्यूज़ पर मारक कॉमेडी की है. बेहद सर्कास्टिक हैं और अपनी इंटेलिजेंट कॉमेडी के लिए जाने जाते हैं.

DAN fernandese

अदिति मित्तल. इंडिया में कॉमेडी के सीन में एक बहुत बड़ा नाम. वुमेन सेंट्रिक कॉमेडी करती हैं और बेहद मारक हैं. इन्होंने भी कुछ अच्छे पॉइंट्स उठाये.

aditi

इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि टीवीएफ़ की सफ़ाई में जिस तरह से सामने आने वाली लड़कियों को धमकाया गया है वो बहुत अनफ़ेयर है और ऐसा कतई नहीं होना चाहिए था.

aditi tweets

कुल मिलाकर टीवीएफ़ को कायदे से घेरा गया है. अरुणाभ कुमार पर लगे आरोपों से ज़्यादा टीवीएफ़ की सफाई की बात हुई है. मांग ये है कि अरुणाभ के ख़िलाफ़ वायरल फ़ीवर जांच करे. उनकी खुद ही की एचआर टीम ये सुनिश्चित करे कि अरुणाभ सिर्फ़ इसलिए बिना जांच के यूं ही बच न निकलें क्यूंकि वो वायरल फ़ीवर के मुखिया हैं. इस क्रम में सबसे मारक और संक्षेप में जिसने बात कही है वो है कुनाल कामरा. कुनाल ने कहा कि किसी भी ऐसी जगह जहां आप काम करने जाते हैं, ‘आप सेक्सी हैं’ ये एक तारीफ़ नहीं हो सकती. खासकर उस आदमी के मुंह से जो उस कंपनी में ताकतवर पोज़ीशन पर है. जो आपके चेक साइन करता है.

Kunal Kamra Tweet

इस पूरे मसले के दौरान एक घटना और हुई. ऑल इंडिया बकचोद के मेंबर रोहन जोशी खूब ट्वीट कर रहे थे. वो भी यही कह रहे थे कि वायरल फ़ीवर ने बिना जांच उन लड़कियों के कहे को कैसे किनारे कर दिया. और इसी दौरान एक लड़की का ब्लॉग उभरा जो कह रहा था कि रोहन जोशी ने उसके साथ काफी वक़्त पहले ऐसा ही कुछ किया था. रोहन जोशी ने आगे जो किया, वो असल में एक उदाहरण है कि टीवीएफ़ को किस तरह से इस पूरे मामले को हैंडल करना चाहिए था. रोहन ने तुरंत ही कहा कि उसने ये देखा है और जो भी ये कह रहा/रही है, वो ग़लत है. फिर भी वो पूरी तरह से किसी भी जांच के लिए तैयार हैं. रोहन जोशी ने मुंबई पुलिस को टैग किया और कहा कि वो चाहें तो एक फॉर्मल कम्प्लेंट लिख सकते हैं और उसकी जांच कर सकते हैं. वो इसके लिए पूरी तरह से ओपन हैं.

rohan joshi

रोहन जोशी जैसे जैसे इस बात के साथ आगे बढ़ रहे थे, ओरिजिनल ब्लॉग गायब हो गया. कहा जाने लगा कि रोहन ने वो पोस्ट डिलीट करवाया है लेकिन तभी उस ब्लॉग को लिखने वाले ने बताया कि उसने वो सब कुछ झूठ लिखा था. वो सिर्फ रोहन को ये यकीन दिलाना चाहता था कि ऑनलाइन लगाये गए आरोप झूठे भी हो सकते हैं.

rohan blog

पूरे मामले में हर आदमी ने अपनी अपनी पिक्चर बना ली है. हर किसी ने अपनी-अपनी साइडें पकड़ ली हैं. ऐसा लग रहा है कि हर किसी को मालूम है कि कौन सच्चा है और कौन झूठा. जो फैन्स हैं वो अरुणाभ के ख़िलाफ़ एक बात नहीं सुनने को तैयार हैं. कुछ लोग हैं जिनका मत सिर्फ़ कमज़ोर पक्ष के साथ है. द वायरल फ़ीवर क्या कर रहा है मालूम नहीं. बाकी जो है, वो तो चल ही रहा है.


 ये भी पढ़ें:

यूट्यूब सनसनी TVF पर बदनामी का दाग!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आधी रात को क्यों जलाई थी हाथरस विक्टिम की बॉडी, यूपी सरकार ने अब बताया है

आधी रात को क्यों जलाई थी हाथरस विक्टिम की बॉडी, यूपी सरकार ने अब बताया है

साथ ही ये भी बताया कि 14 सितंबर से अब तक क्या-क्या किया.

कंफर्म हो गया, अकेले चुनाव लड़ेगी चिराग पासवान की पार्टी

कंफर्म हो गया, अकेले चुनाव लड़ेगी चिराग पासवान की पार्टी

क्या ये चिराग पासवान के लिए ज़मीन तैयार करने की रणनीति है?

शिक्षा मंत्रालय की गाइडलाइंस, बताया 15 अक्‍टूबर से किन शर्तों पर खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

शिक्षा मंत्रालय की गाइडलाइंस, बताया 15 अक्‍टूबर से किन शर्तों पर खुलेंगे स्कूल-कॉलेज

स्टूडेंट्स, अभिभावकों की लिखित सहमति से ही स्कूल जा सकते हैं.

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

इस शर्त पर यूपी प्रशासन ने राहुल-प्रियंका को हाथरस जाने की अनुमति दी

कथित गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे हैं राहुल-प्रियंका.

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

हाथरस केस: एसपी और सीओ सस्पेंड, जानिए डीएम का क्या हुआ?

सभी पक्ष-विपक्ष वालों का पॉलीग्राफी टेस्ट भी होगा.

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

हाथरस केस: यूपी पुलिस को किसी को भी गांव में जाने से रोकने का बहाना मिल गया है!

खबर है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी पीड़ित परिवार से मिलने जाने वाले हैं.

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

सभी आरोपियों को बरी करते हुए कोर्ट ने कहा - इन्होंने बाबरी मस्जिद को बचाने की कोशिश की थी

आ गया है 28 साल पुराने मामले में फ़ैसला

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

हाथरस के कथित गैंगरेप मामले पर विराट कोहली ने क्या कहा?

अक्षय कुमार ने भी ट्वीट किया है.

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

सिर्फ़ 6 लोगों की इस मीटिंग के टलने को पी चिदंबरम ने 'अभूतपूर्व' क्यूं कह डाला?

तो क्या इस वक़्त देश के पास अर्थव्यवस्था सही करने का सिर्फ़ एक बटन बचा है?

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा-

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह नहीं रहे, पीएम मोदी ने कहा- "बातें याद रहेंगी"

जसवंत सिंह अटल सरकार के कद्दावर मंत्रियों में से थे.