Submit your post

Follow Us

IIT के एग्ज़ाम में पूछा गया 'धोनी को टॉस जीतकर बैटिंग करनी चाहिए या फील्डिंग?'

170
शेयर्स

एग्जाम यानी कि परीक्षा. जो कुछ स्टूडेंट्स के लिए अग्नि परीक्षा से कम नहीं होती. एग्जाम का नाम आते ही हमारे जैसे क्लास के बैकबेंचर्स की हवा टाइट हो जाती थी. सवाल देखकर एसी कमरे  में भी पसीना निकल जाता था. खैर ये तो हुई हमारी बात. अब बात करते हैं उन स्टूडेंट्स की जिनका उदहारण दे-दे कर आपके माता पिता ने कभी न कभी आपको आपके निठल्लेपन का एहसास ज़रूर दिलाया होगा. यानी IIT और उसमें पढ़ने वालों की बात. खबर आई है आईआईटी मद्रास से जहां के एक प्रोफेसर सा’ब ने ऐसा सवाल पूछ लिया कि स्टूडेंट्स क्वेश्चन पढ़ के ही सन्न रह गए. आइए समझते हैं आखिर माजरा है क्या.

# सवाल का बवाल 

एग्जाम था ‘मैटेरियल एंड एनर्जी बैलेंस’ का लेकिन प्रोफेसर सा’ब के सवाल में ज़िक्र था धोनी और आईपीएल 2019 का.

आईपीएल 2019 में 7 मई को चेन्नई सुपरकिंग्स का चेपक स्टेडियम में क्वालिफायर-1 मैच है. 7 मई के मौसम के पूर्वानुमान के अनुसार, चेन्नई में 70% नमी रहने की उम्मीद है. खेल की शुरुआत में तापमान 39°C रहने का अनुमान है. दूसरी पारी की शुरुआत में तापमान 27 डिग्री सेल्सियस तक गिर सकता है. इस जानकारी के आधार पर अगर एमएस धोनी टॉस जीतते हैं, तो आप पहले बल्लेबाजी करने की सलाह देंगे या फील्डिंग की? तथ्य के साथ जवाब दें.

इस क्वेश्चन पेपर का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर वायरल हुआ. और ऐसा वायरल हुआ कि ICC तक ने ट्वीट कर के प्रोफेसर साहब की तारीफ कर डाली.

# ये प्रोफेसर सा’ब का नाम क्या है?

प्रोफेसर विग्नेश मुथुविजयन नाम है इनका. और सवाल था ‘psychometric चार्ट्स’ और ‘ड्यू पॉइंट कैलक्युलेशन के बारे में (नाम में कुछ गलती हो तो सॉरी रहेगा, इतना ही पढ़ा होता तो हम भी आईआईटी पढ़ने जाते)

उन्होंने आईपीएल को जोड़ा ताकि पढ़ाई रोचक और मज़ेदार लगे. ये तरीका उन्होंने अपने स्कूल टीचर्स से सीखा है. जो इन्हें एग्जाम में ऐसे ही पॉप कल्चर रेफ़्रेन्स वाला सवाल पूछते थे. इसी को कहते हैं गुरु गुड़ रह गया चेला चीनी हो गया.

# क्रिकेट के शौक़ीन हैं प्रोफेसर 

मीडिया को दिए अपने एक इंटरव्यू में विग्नेश मुथुविजयन बताते हैं कि वो क्रिकेट फैन हैं. वो हमेशा अपने बिज़ी शेड्यूल से टाइम निकालकर क्रिकेट मैच देखते हैं. लेकिन क्लास में वो क्रिकेट का कम और उन चीज़ों का ज़िक्र ज़्यादा करते हैं, जो स्टूडेंट्स को आम-तौर पर दिखाई देती है. उनका मेन मकसद रहता है अपने स्टूडेंट्स को अच्छे से टॉपिक समझाना.

# हर जगह होने चाहिए ऐसे प्रोफेसर?

आपको नहीं लगता देश के हर कॉलेज में ऐसे ही प्रोफेसर हों? और पढ़ाने का ढंग भी मज़ेदार हो. टीचर ऐसे ही इंट्रेस्टिंग ढंग से पढ़ाएं. क्लास के पीछे की सीटों पर बैठे हमारे जैसे स्टूडेंट्स उर्फ़ बैकबेंचर्स, जो प्रकाल लिए डेस्क पर पिकासो होने  का नमूना देते रहते हैं वो भी शायद अच्छे से पढ़ने लगें.

ये स्टोरी ‘दी लल्लनटॉप’ के साथ इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने की है.


Video: देखिए सरकार द्वारा खाता खुलवाए जाने पर क्यों नाराज है ये रिक्शाचालक?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आंध्र प्रदेश : 61 सवारियों को लेकर नाव गोदावरी नदी में डूब गयी

क्या था नाव के डूबने का कारण?

छात्राओं के कपड़ों में हाथ डालने और यौन शोषण के आरोपी प्रोफ़ेसर को BHU ने बुला लिया, अब बवाल हो गया

BHU ने कहा, प्रोफेसर के खिलाफ इससे ज्यादा कुछ नहीं कर सकती है यूनिवर्सिटी.

इसरो चेयरमैन को गले लगाकर मोदी क्या फुसफुसाए? पता चल गया

क्या चंद्रयान - 3 मिशन भी आने वाला है?

नासा ने बताया कि इसरो के चंद्रयान से कनेक्शन कहां फंसा हुआ है?

चंद्रयान को बस ये एक काम करना है.

इसरो के चंद्रयान को लेकर नासा ने ये बड़ी खबर दे दी है

चंद्रयान से सम्पर्क कैसे होगा?

राजस्थान में गैंगस्टर को साथियों ने जैसे छुड़ाया, वैसा तो बस साउथ की फिल्मों में होता है

पुलिस को नहीं पता था कि किसे पकड़ा है. जब गैंग ने हमला किया, तब कुछ पुलिसवाले सो रहे थे. कुछ नहा रहे थे.

नयी सरकार में निवेशकों के 12.5 लाख करोड़ रुपए डूब गए

ये नुकसान किस खाते में जाएगा?

पड़ताल : क्या जवाहरलाल नेहरू ने इसरो की स्थापना नहीं की?

चंद्रयान की यात्रा के बाद ये दावे सामने आने लगे हैं.

पता चल गया, कहां है अपना विक्रम लैंडर?

चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर ने भेजी फोटो, संपर्क करने की कोशिश जारी

चंद्रयान 2 : ISRO चीफ के. सिवन ने बताया कि लैंडर 'विक्रम' के साथ क्या हादसा हुआ?

विक्रम का ISRO से संपर्क टूटने के बाद पहली बार बोले हैं के. सिवन.