Submit your post

Follow Us

दलितों के भारत बंद में हुई हिंसा पर पुलिस ने सबसे चौंकाने वाला खुलासा किया है

2 अप्रैल को हुए ‘भारत बंद’ के दौरान जमकर हिंसा हुई. कुल 10 लोग मारे गए. करोड़ों की सरकारी संपत्ति (जो कि असल में पब्लिक की होती है) का नुकसान हुआ. लोगों के बीच मेसेज गया कि ये सारी हिंसा दलित प्रदर्शनकारियों और दलित संगठनों की ओर से हुई. लेकिन ये पूरा सच नहीं था. जैसी खबरें आ रही हैं, उनसे लगता है कि दलित प्रदर्शनकारियों की आड़ लेकर कई और तरह के लोगों ने अपने मंसूबे पूरे किए. जैसे मुजफ्फरनगर. यहां ‘भारत बंद’ के दौरान हुई हिंसा में एक आदमी मारा गया था. इसका इल्जाम भी दलित प्रोटेस्टर्स पर लगा. लेकिन अब मालूम चला है कि इसके पीछे गैर-दलित अपराधियों का हाथ था. ये लोग प्रदर्शनकारियों के बीच में घुस गए और हिंसा-आगजनी की. उत्तर प्रदेश के डीजीपी मुख्यालय ने शुरुआती जांच के बाद ये जानकारी दी है.

कई जगहों पर पटरियां उखाड़ी गईं. ट्रेनें रोक दी गईं. प्रदर्शनकारियों की तरफ से पत्थरबाजी हुई. बसों में आग लगाई गई.
कई जगहों पर पटरियां उखाड़ी गईं. ट्रेनें रोक दी गईं. लोग घंटों तक फंसे रहे. सड़क जाम किए गए. प्रदर्शनकारियों की तरफ से पत्थरबाजी हुई. बसों में आग लगाई गई. करोड़ों की सरकारी संपत्ति बर्बाद हुई. कई लोग घायल हुए. कई जगहों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच भी झड़प हुई.

क्या हिंसा के पीछे कोई साजिश थी?
पुलिस ने घटना के समय के वीडियोज देखे. इनकी वजह से ही अपराधियों की शिनाख्त हो पाई. जैसा मुजफ्फरनगर में हुआ, वैसा क्या और भी कहीं हुआ? क्या गुंडों-बदमाशों ने भारत बंद का फायदा उठाया? पुलिस के मुताबिक, मुजफ्फरनगर वाली घटना के पीछे तो पक्की तौर पर गैर-दलित क्रिमिनल्स का ही हाथ था. जांच की जा रही है कि भारत बंद के दौरान राज्य में जो हिंसा हुई, उसके पीछे क्या कोई साजिश थी.

मायावती और जिग्नेश मेवानी जैसे दलित नेताओं ने बंद का साथ दिया. प्रदर्शनकारियों की मांगों के साथ सहमति जताई. लेकिन हिंसा का विरोध किया.
मायावती और जिग्नेश मेवानी जैसे दलित नेताओं ने बंद का साथ दिया. प्रदर्शनकारियों की मांगों के साथ सहमति जताई. लेकिन हिंसा का विरोध किया. मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी का कोई भी हिंसा में शामिल नहीं है. जबकि UP पुलिस ने BSP के एक नेता योगेश वर्मा को गिरफ्तार किया. पुलिस का कहना है कि वो हिंसा भड़काने की कोशिश कर रहे थे.

मुरैना में भी एक युवक की ऐसे ही हत्या हुई थी
भारत बंद के दौरान UP में कई जगहों पर बवाल हुआ था. सबसे ज्यादा हिंसा हुई पश्चिमी उत्तर प्रदेश में. UP अकेला नहीं था, जहां हिंसा हुई. मध्य प्रदेश की स्थिति तो सबसे बुरी थी. लेकिन यहां की भी एक घटना ऐसी है, जिसके पीछे दलित प्रदर्शनकारियों का हाथ नहीं था. ये वारदात थी मुरैना की. यहां एक युवक घर के बाहर खड़ा था. उसको गोली लगी और वो मर गया. जांच में सामने आया है कि इसका दलित प्रदर्शनकारियों से कोई लेना-देना नहीं है. बल्कि ये हत्या आपसी दुश्मनी में हुई, जिससे जुड़ा झगड़ा कुछ ही दिन पहले हुआ था.


ये भी पढ़ें: 

SC-ST ऐक्ट पर भारत बंद, देश के कई हिस्सों में हिंसा

क्या है SC-ST ऐक्ट, जिसके लिए पूरा भारत बंद कर रहे हैं दलित संगठन

मुझे लगा था दलित बर्तन को छूते हैं तो करंट आता होगा

ओबीसी रिजर्वेशन पर लालू यादव ने देश से झूठ बोला

गुजरात चुनावः ‘अमूल’ की कामयाबी के कसीदों में खेड़ा-आणंद इलाके की ये सच्चाई छुप जाती है

UP में एक दलित ने स्टैंप पेपर पर अंगूठा लगाकर विधायक पुत्र को अपने बेटे के कत्ल के आरोप से बरी कर दिया


क्या होता है महाभियोग जिसके जरिए सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को हटाया जा सकता है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी.

धोनी के 16 साल के क्रिकेट करियर की 16 अनसुनी बातें

धोनी ने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है.

धोनी के तुरंत बाद सुरेश रैना ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा

इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए रिटायरमेंट की बात बताई.

धोनी क्रिकेट से रिटायर, फैंस ने बताया, एक जनरेशन में एक बार आने वाला खिलाड़ी

एक इंस्टाग्राम पोस्ट करके विदा ले ली धोनी ने.