Submit your post

Follow Us

यूपी : पत्रकार ने पुलिस को लेटर लिखकर अपनी जान को ख़तरा बताया, अगले दिन मौत

यूपी में एक पत्रकार की संदिग्ध मौत का मामला सामने आने से प्रशासन में खलबली मच गई है. रविवार 13 जून. प्रतापगढ़ के कटरा मेदनीगंज में पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव सड़क पर बेहोशी की हालत में पड़े मिले. वह अर्धनग्न अवस्था में थे और उनके सिर पर चोट के निशान भी थे. साथी पत्रकारों को जानकारी मिली. मौक़े पर सुलभ को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. साथियों और परिजनों के मुताबिक़ ये हत्या का मामला है, लेकिन पुलिस, फ़िलहाल, इसे एक्सीडेंट का मामला मानकर चल रही है.

हत्या की आशंका इसलिए भी जतायी जा रही है क्योंकि अपनी मृत्यु से ठीक एक दिन पहले यानी 12 जून को सुलभ ने जिले के पुलिस अधिकारियों को चिट्ठी लिख कर अपनी जान को खतरा होने की बात कही थी.

पूरा मामला

आजतक में प्रकाशित ख़बर के मुताबिक, सुलभ श्रीवास्तव ने 12 जून को एडीजी प्रयागराज को चिट्ठी लिखी थी. उन्होंने इसमें लिखा था कि 9 जून को सुलभ के चैनल के वेब पोर्टल पर अवैध शराब के कारोबार में लिप्त माफियाओं के संबंध में खबर चलाई गई थी. इस कवरेज के लिए उन्हें धमकी मिली थी. उन्होंने आशंका जताई थी कि उनका लगातार पीछा किया जा रहा है. उन्होंने शराब माफिया से खतरे की बात का जिक्र करते हुए अपने और परिवार के लिए सुरक्षा की गुहार लगाई थी.

इस चिट्ठी को लिखने के अगले ही दिन यानी 13 जून की देर शाम को सुलभ लालगंज कोतवाली क्षेत्र में एटीएस द्वारा अवैध असलहा कारखाने पर छपामारी का कवरेज करने गए थे. जानकारी के मुताबिक़, वहां से लौटते समय रात करीब साढ़े 10 बजे नगर कोतवाली क्षेत्र के सुखपाल नगर के पास संदिग्ध परिस्थितियों में वह बाइक समेत सड़क पर पड़े मिले. जानकारी मिलते ही उनके साथी पत्रकार मनीष ओझा मौके पर पहुंचे. सुलभ को एंबुलेंस से जिला अस्पताल ले जाया गया. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस का क्या कहना है?

एक तरफ जहां पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव का परिवार उनका हत्या की आशंका जता रहा है. वहीं पुलिस इसे एक्सीडेंट की घटना मान रही है. जिले के अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी प्रतापगढ़ सुरेन्द्र द्विवेदी का कहना है,

“लालगंज से प्रतापगढ़ से आते वक्त कटरा चौराहे के पास सुलभ का मोटरसाइकल से गिरकर एक्सिडेंट हुआ. वहां पर मौजूद मजदूरों ने उन्हें किनारे किया. मोबाइल से नंबर देख कर उनके करीबियों और एंबुलेंस को बुलाया गया. एंबुलेंस से वह अस्पताल ले जाए गए. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. प्रथम दृष्टया यह पाया गया है कि वह मोटरसाइकल से अकेले आ रहे थे. सड़क के किनारे हैंडपंप और खम्भे से टकरा कर उनकी मौत हुई है. घटना के जुड़े विभिन्न पहलुओं के बारे में भी गहराई से जांच की जा रही है.”

अब जांच का विषय है कि जब पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव ने अपनी जान पर खतरा होने की बात पुलिस को बताई थी तो पुलिस ने उस पर क्या एक्शन लिया. इस पर अभी पुलिस का स्पष्टिकरण नहीं आया है. पुलिस अभी इसे एक्सीडेंट का मामला मानकर चल रही है, ऐसे में मर्डर के एंगल से जांच कैसे होती है, ये भी देखने वाली बात है.


वीडियो – UP में कोरोना कवरेज कर रहे पत्रकार को SDM और MLA के सामने किसने और क्यों पीटा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

क्या शरीर में वाकई चुंबकीय शक्ति पैदा हो जाती है?

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

मामला इतना बढ़ गया कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को दखल देना पड़ा है.

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

करणी सेना के नेता धमकी दे रहे- जो भी हमें रोकेंगे, उन्हें ठोक देंगे.

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

अमेज़न प्राइम वीडियो की हेड को लेटर लिख दी है खुली चेतावनी.