Submit your post

Follow Us

19 साल पहले हुए फेक एनकाउंटर के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार पर लगाया 7 लाख का जुर्माना

उत्तर प्रदेश में साल 2002 में हुए एक फर्जी मुठभेड़ (Fake Encounter) के मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने राज्य सरकार पर सात लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. पुलिस ने एक युवक को एनकाउंटर में मार दिया था. यह रकम मृतक के पिता को मिलेगी, जो अपने बेटे को न्याय दिलाने के लिए पिछले लगभग दो दशक से भटक रहे थे. फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कुछ कड़ी टिप्पणियां भी की हैं. जस्टिस विनीत शरण और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की बेंच ने कहा,

“इस पूरे मामले में जिस ढिलाई के साथ सरकार पेश आई है, वो अपने आप में बताता है कि राज्य मशीनरी कैसे अपने पुलिसकर्मियों को बचा रही थी. मशीनरी के व्यवहार के कारण ही मृतक के पिता को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा. हम आमतौर पर इस तरह की याचिकाओं पर जल्दी सुनवाई नहीं करते, लेकिन इस बार हमें लगा कि याचिकाकर्ता को न्याय मिलना चाहिए, जिसके लिए वो लगभग दो दशक से भटक रहा है.”

इंडिया टुडे से जुड़े संजय शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक, इस पूरे मामले में पूरा प्रशासन दागी पुलिसवालों को 19 साल तक बचाता रहा. यह सब कुछ तब हुआ, जब सूबे की तमाम सरकारें कानून-व्यवस्था को पटरी पर लाने का वादा करती रहीं. चाहें फिर बात मायावती सरकार की हो, मुलायम सरकार की, अखिलेश सरकार की या फिर योगी सरकार की.

सैलरी पाते रहे आरोपी

रिपोर्ट के मुताबिक, यह फर्जी मुठभेड़ सिकंदराबाद के आढ़ा तिराहे के पास 3 अगस्त, 2002 को हुई थी. इसमें एक छात्र की हत्या कर दी गई थी. उस समय राज्य की मुख्यमंत्री मायावती थीं. लेकिन आरोपी पुलिसवालों को गिरफ्तार नहीं किया गया. वो आराम से घूमते रहे. सरकारी तनख्वाह पाते रहे. सरकार के खर्च पर ही अपने केस की पैरवी कराते रहे.

इस बीच पुलिस ने इस पूरे मामले में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर दी. हालांकि, एक निचली अदालत ने साल 2005 में इस क्लोजर रिपोर्ट को खारिज कर दिया. इसके बाद भी आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया. हालांकि, एक आरोपी की गिरफ्तारी पर ट्रायल कोर्ट ने ही रोक लगाई थी.

सिकंदरबाद में हुआ था Fake Encounter. उस समय मायावाती सूबे की मुख्यमंत्री थीं.
सिकंदरबाद में हुआ था Fake Encounter. उस समय मायावाती सूबे की मुख्यमंत्री थीं.

मामला हाईकोर्ट पहुंचा. हाई कोर्ट ने साल 2017 में आरोपियों की याचिका को खारिज कर दिया. लेकिन इसके बाद भी उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई. यही नहीं, 2018 में निचली अदालत की तरफ से आरोपी पुलिकर्मियों की तनख्वाह रोकने का आदेश दिया गया. सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक, इस आदेश के बाद भी केवल एक ही आरोपी की सैलरी रोकी गई.

सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि उसके आदेश के बाद इस साल एक सितंबर को पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया. एक आरोपी ने पहले ही सरेंडर कर दिया. हालांकि, चौथा आरोपी अभी भी फरार है. वहीं याचिकाकर्ता के वकील ने बताया कि चौथा आरोपी रिटायर हो चुका है और उसके सारे भुगतान किए जा चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर अपनी नाराजगी जताई.


वीडियो- साल 2021 के वो मौक़े जब UP Police की मौजूदगी में हुई मौत और दर्ज हुआ 302 का मुक़दमा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC का IPO: सरकार अब जो करने जा रही है उससे छोटे निवेशकों को फायदा है

LIC के IPO में बहुत कुछ बदलने जा रहा है. अगले हफ्ते आ सकता है अपडेटेड प्रॉस्पेक्टस.

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

RBI की इस पहल से सभी एटीएम से बिना कार्ड कैश निकलेगा!

अभी ये सुविधा कुछ ही बैंको तक सीमित है.

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

'शराबी' खिलाड़ी की जानलेवा हरकत की वजह से मरते-मरते बचे थे युजवेंद्र चहल, अब किया खुलासा

2013 की बात है जब चहल मुंबई इंडियन्स की तरफ से खेलते थे.

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

आकार पटेल के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी करने वाली CBI अब उनसे माफी मांगेगी

कोर्ट ने आकार पटेल को बड़ी राहत दी है.