Submit your post

Follow Us

लॉकडाउन से बेरोजगार हुए मजदूर साइकिल से निकल पड़े 960 KM दूर अपने घर

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सरकार ने 21 दिनों के लिए पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया है. इस लॉकडाउन से सैकड़ों मजदूर बेरोजगार हो गए हैं. ये जहां हैं, वहीं फंस गए हैं. सरकारों की लाख अपील के बाद भी फैक्ट्री और दुकान मालिक मजदूरों को घर भेज रहे हैं. चंडीगढ़ में ज्यादातर मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार से ताल्लुक रखते हैं. उनके पास घर लौटने के लिए फिलहाल कोई साधन नहीं है क्योंकि ट्रेन और बस बंद हैं.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, मजदूर जब टैक्सी वालों तक पहुंचे तो उनसे गांव तक पहुंचाने के लिए प्रति व्यक्ति 4000 रुपये मांगे गए. इसके बाद मजदूरों के एक रास्ता खोजा. अपनी साइकिल और साइकिल रिक्शा से ही अपने गांव की ओर निकल पड़े. ये सभी उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के सरदारगढ़ गांव के रहने वाले हैं. चंडीगढ़ से इनका गांव करीब 960 किलोमीटर है.

जो लोग चंडीगढ़ में रह गए उन्होंने इंडिया टुडे को बताया कि रास्ते में उन्हें ठगी का शिकार भी होना पड़ा है. तीन दिन में उन्हें सिर्फ दो बार खाना मिल पाया है. ये लोग मुजफ्फरनगर में फंस गए हैं. मुजफ्फरनगर में फंसे इन मजदूरों में पान-सिगरेट की दुकान चलाने वाले दिव्यांग सोनू पांडे जैसे लोग भी शामिल हैं. ये सभी 20 मजदूर चंडीगढ़ के सेक्टर 17 में एक साथ काम करते थे, लेकिन चंडीगढ़ में अब सिर्फ 6 लोग रह गए हैं.

52 साल के राजेंद्र ग्रेजुएट हैं और चंडीगढ़ में रिक्शा चलाते हैं. राजेंद्र का रिक्शा एक हफ्ते से ठप है. ऐसे ही सुनील शुक्ला 40 साल के हैं. लॉकडाउन के बाद वह घर लौटना चाहते हैं लेकिन! 39 साल के अशोक कुमार भी वापस बलरामपुर लौटना चाहते हैं लेकिन टैक्सी वाले मुंह मांगा दाम बता रहे हैं. ऐसे में वह नहीं जा सकते. इंडिया टुडे से बात करते हुए अशोक ने कहा,

हम वापस अपने गांव जाना चाहते हैं. 21 दिन तक यहां पर कोई काम नहीं मिलने वाला है. टैक्सी वाले पहले 2000 रुपये सवारी मांग रहे थे और अब 4000 रुपये मांग रहे हैं. हमारे पास इतने पैसे नहीं है. प्रशासन को चाहिए कि हमारे जाने हमारे घर जाने की व्यवस्था करें.

इन मजदूरों के पास सिर्फ एक वक्त का राशन बचा है. चंडीगढ़ प्रशासन का दावा है कि शहर में खाने-पीने की सभी चीजें उपलब्ध है लेकिन दुकानें बंद हैं और लोगों को राशन नहीं मिल रहा. ऐसे में इन मजदूरों की दिक्कतें बढ़ गई है.


इनपुट: मंजीत सहगल | इंडिया टुडे


विडियो- क्या कोरोना को क्लोरोक्विन और हाईड्रौक्सीक्लोरोक्विन जैसी दवा ठीक कर सकती हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पबजी बैन, सोशल मीडिया ने कहा- ‘उनका’ वीडियो डिसलाइक करने का नतीजा है

पबजी बैन, सोशल मीडिया ने कहा- ‘उनका’ वीडियो डिसलाइक करने का नतीजा है

118 ऐप्स बैन कर दिए गए हैं.

चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पॉज़िटिव न्यूज़ आई है

चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए पॉज़िटिव न्यूज़ आई है

बड़े दिनों के बाद.

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

सेरो सर्वे की मानें, तो ठीक होने के बाद दोबारा हो सकता है कोरोना!

208 में से 97 लोगों में नहीं मिली एंटीबॉडी.

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

अवमानना वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को क्या सज़ा दी है?

प्रशांत भूषण के दो ट्वीट का मुद्दा था.

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

अनलॉक-4 की गाइडलाइंस जारी, मेट्रो चलेगी, जानिए स्कूल खोलने को लेकर क्या कहा गया है

धार्मिक और राजनीतिक कार्यक्रमों को लेकर क्या छूट मिली है?

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

NEET, JEE आगे बढ़ाने की मांग कर रहे छात्र ये पांच कारण बता रहे हैं

तय समय पर परीक्षा कराने के लिए 150 शिक्षाविदों ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी.

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.