Submit your post

Follow Us

वैक्सीन लगवाने के बाद भी कुवैत नहीं जा पाने का डर, महाराष्ट्र में एक शख्स ने दे दी जान!

महाराष्ट्र में 47 साल के एक व्यक्ति ने अपने घर में पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली. वह कुवैत में काम करता था. लॉकडाउन के कारण देश लौटा था. वापस जाने के लिए उसने वैक्सीन भी लगवा ली थी. लेकिन परिवार का कहना है कि जबसे उसे पता चला कि उसने जो वैक्सीन लगवाई है, वो खाड़ी देश में मान्य नहीं है, तभी से वह परेशान था. उसे डर था कि वह वापस कुवैत नहीं जा पाएगा.

जो वैक्सीन लगवाई, उसे अप्रूवल नहीं

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, मरने वाले व्यक्ति का नाम सिराज मपकर था. महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के महाड शहर का रहने वाला था. कुवैत में एक ऑयल कंपनी में काम करता था. इसी साल मार्च में भारत लौटा था. सिराज को कोवैक्सीन लगी थी. सिराज के परिवार का दावा है कि कोवैक्सीन को कुवैत में अप्रूवल न मिलने की बात पता चलने के बाद से ही उसे डर बैठ गया था कि वो वापस नहीं जा पाएगा.

एक पुलिस अधिकारी ने कहा,

उसके परिवार के सदस्यों ने हमें बताया कि कुवैत वापस नहीं जाने के कारण वह परेशान था. उसे वीजा नहीं मिल पा रहा था, क्योंकि उसने जो टीका लिया था, उसे कुवैत में मंजूरी नहीं है. उसने कुवैत जाने के लिए कर्ज भी लिया था.

सिराज के भाई नासिर ने कहा,

चूंकि उन्हें (सिराज को) वापस जाना था, इसलिए उन्होंने टीके की दोनों खुराक ले ली थीं. लेकिन इस महीने की शुरुआत में उन्हें पता चला कि काम के लिए कुवैत वापस जाने के लिए उन्हें वीजा नहीं मिलेगा, तभी से वह बहुत परेशान थे.

1 अगस्त से कुवैत में खुलेगी एंट्री

कुवैत ने 1 अगस्त से लोगों को देश में आने की इजाजत दे दी है. लेकिन शर्त भी रखी है. बिजनेस अखबार मिंट की रिपोर्ट के मुताबिक, कुवैत में उन्हीं लोगों को अभी एंट्री मिलेगी, जिन्होंने खाड़ी देशों (Gulf state) की ओर से अप्रूव वैक्सीन लगवा रखी होगी. कुवैत टाइम्स की खबर के मुताबिक, कुवैती स्वास्थ्य मंत्रालय ने केवल ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका, फाइजर-बायोएनटेक, मॉडर्ना और जॉनसन एंड जॉनसन की वैक्सीन को ही मंजूरी दी है. इसके अलावा कुवैत की यात्रा करने वालों को उड़ान भरने से पहले RT-PCR टेस्ट कराना होगा. कुवैत पहुंचने के सात दिनों तक अनिवार्य रूप से क्वारंटीन रहना होगा.

कोरोना लॉकडाउन की वजह से कुवैत से हजारों लोग अपने-अपने देश लौट आए हैं. अब वे वापस जाने की उम्मीद लगाए बैठे हैं. भारत में भी ऐसे लोगों को काफी संख्या है. हालांकि उनके सामने सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या कुवैत सरकार भारत की कोरोना वैक्सीन को मान्यता देगी कि नहीं. कुवैत सरकार ने वैक्सीन की जो लिस्ट जारी की है, उसमें कोवैक्सीन का नाम नहीं है. कोवैक्सीन को भारतीय कंपनी भारत बायोटेक ने विकसित किया है. WHO इसे इमरजेंसी यूज की अनुमति देने से इनकार कर चुका है. एक दिन पहले ही कंपनी ने अपने थर्ड फेज के ट्रायल का डाटा सौंपा है. अब WHO के सामने फिर से दावा पेश किया जाएगा.

कोविशील्ड को मिलेगी मंजूरी?

कुवैत जाने वालों के सामने एक सवाल ये भी है कि क्या वह भारत में लगाई जा रही कोविशील्ड वैक्सीन को मंजूर करेगा कि नहीं? बता दें कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को ही भारत में कोविशील्ड के नाम से बेचा जा रहा है. कोविशील्ड को दुनिया के 90 से ज्यादा देश मान्यता दे चुके हैं. लेकिन कुवैत ने सीधे तौर पर कोविशील्ड का नाम लेकर मंजूरी नहीं दी है. इसलिए कोविशील्ड लगवाने वाले भारतीय भी चिंतित हैं. कुवैत टाइम्स से बातचीत में एक भारतीय ने कहा कि कुवैत में 1 अगस्त से एंट्री खुलने में अभी एक महीने से ज्यादा का समय है. उम्मीद है कि इस दौरान कुवैत सरकार कोविशील्ड को मंजूरी दे देगी. भारतीय दूतावास भी इसके प्रयास में जुटा है. 


दुनियादारी: कोविड डेल्टा वैरिएंट से ब्रिटेन में तेजी से बढ़ने लगे केस, वैक्सीन कितनी असरदार?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.