Submit your post

Follow Us

अकाल को लेकर वर्ल्ड फूड प्रोग्राम की चेतावनी डराने वाली है!

वर्ल्ड फूड प्रोग्राम के चीफ डेविड बीसले मानते हैं कि साल 2021 में दुनिया को भीषण अकाल जैसे हालातों का सामना करना पड़ सकता है. ‘द असोसिएटिड प्रेस’ को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि वर्ल्ड फूड प्रोग्राम से जुड़े लोग अपनी जान को खतरे में डाल कर भूखे लोगों को खाना खिलाने का काम करते हैं, लेकिन लगता है कि आने वाले वक्त में इससे बुरे हालात भी देखने को मिल सकते हैं.

आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम को साल 2020 के नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है. नोबेल समिति ने अक्टूबर में वर्ल्ड फूड प्रोग्राम (WFP) को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए चुन कर दुनिया का ध्यान उन लोगों की ओर आकर्षित करने की कोशिश की, जो भुखमरी या इस तरह के हालातों का सामना कर रहे हैं.

क्या कहा बीसले ने?

बीसले ने कहा कि साल 2021 में 15 बिलियन डॉलर्स (11,18,06,85,00,00 रुपयों) की जरूरत भूख से लड़ने के लिए पड़ सकती है. साल 2020 में कोरोना, लॉकडाउन, शटडाउन के कारण जो हालात पैदा हुए हैं उनसे निपटना बड़ी चुनौती होगा. निम्न और मध्यम आय वाले देशों में हालात खराब हो रहे हैं. खराब बात ये है कि जितना पैसा हमारे पास 2020 में था उतना पैसा साल 2021 में शायद नहीं होगा.

कोविड के कारण बिगड़े हालात

ऐसा माना जा रहा है कि कोविड-19 महामारी के कारण दुनिया में भुखमरी के शिकार लोगों की संख्या बढ़ सकती है. जुलाई 2020 में संयुक्त राष्ट्र ने एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें बताया गया था कि कोरोना वायरस के कारण ग्लोबल मंदी का खतरा है. ऐसी स्थिति में 100 मिलियन से अधिक लोगों के सामने भुखमरी का संकट पैदा हो सकता है.

साल 1901 में नोबेल शांति पुरस्कार की स्थापना हुई थी. उसके बाद से WFP 28वां संगठन है जिसे नोबेल दिया गया है. ऐसा 12वीं बार है जब संयुक्त राष्ट्र के किसी संगठन को नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया है. WFP की स्थापना 1961 में की गई थी और इसका मुख्यालय इटली के रोम में स्थित है. WFP के कार्यकारी बोर्ड में 36 सदस्य देश होते हैं. इसके कार्यकारी निदेशक का कार्यकाल पांच सालों का होता है.

साल 2019 में WFP ने 97 मिलियन लोगों को मदद पहुंचाई. इस दौरान संस्था ने 4.4 टन खाना बांटा और इसके लिए 91 देशों से 1.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर्स की खरीदारी की. आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र ने साल 2030 तक दुनिया से भुखमरी को खत्म करने का लक्ष्य निर्धारित किया हुआ है.


वीडियो- चीन ने सोचा न होगा, ट्रंप आखिरी वक्त में ऐसा कदम उठायेंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

क्रैश हुए हेलिकॉप्टर में कुल 14 लोग मौजूद थे

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'