Submit your post

Follow Us

भारतीय डिप्लोमेट्स को फंसाने की साज़िश कर रहा पाक, डिप्लोमेटिक इम्युनिटी काम आई

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में है भारतीय उच्चायोग यानी हाई कमीशन. यहां के दो अधिकारी 15 जून की सुबह से लापता थे. डिप्लोमेटिक मसला था. लिहाज़ा हड़कंप मच गया. बाद में पता चला कि वे लापता नहीं, बल्कि गिरफ्तार थे. लापता होने और गिरफ्तारी के बाद 12 घंटे के भीतर ही उनसे जुड़ी तीसरी ख़बर आ गई. दोनों अधिकारियों को 15 जून की शाम को रिहा कर दिया गया. दोनों हाई कमीशन पहुंच गए हैं.

झूठे आरोप में फंसाने की साज़िश

अब सवाल कि दोनों अधिकारियों को क्यों गिरफ्तार किया गया था? इंडिया टुडे रिपोर्टर गीत मोहन और गौरव सावंत की जानकारी के मुताबिक- पाकिस्तान दोनों अधिकारियों को झूठे आरोप में फंसाने की साज़िश कर रहा था. उन पर 10 हज़ार पाकिस्तान रुपए की फेक करेंसी रखने के आरोप लगाए गए. एफआईआर तक कर दी गई.

लेकिन दोनों डिप्लोमेट्स के पास पाकिस्तान में डिप्लोमेटिक इम्युनिटी है. इसलिए पाकिस्तान उन पर कोई एक्शन नहीं ले सका और रिहा करना पड़ा. दोनों को पीटे जाने की बात भी सामने आ रही है. लिहाज़ा दोनों का मेडिकल कराया जाएगा. हाई कमीशन की बीएमडब्ल्यू गाड़ी की भी टूट-फूट हुई है. इस पर पाक का कहना है कि भीड़ ने दोनों अधिकारियों पर हमला किया था, उसी में गाड़ी को नुकसान पहुंचा होगा.

दोनों देशों के बीच हाल ही में डिप्लोमेट्स से जुड़े कुछ और मसले सामने आए हैं.

भारत ने दो पाकिस्तानी अफसरों को वापस भेजा था

1 जून, 2020 को भारत सरकार ने पाकिस्तान हाई कमीशन के दो वीजा सहायकों को हिरासत में लिया था. दोनों पर जासूसी करने के आरोप लगे थे. दोनों कर्मचारियों को ‘पर्सोना नॉन ग्राटा’ घोषित कर दिया था, क्योंकि वे एक डिप्लोमेटिक मिशन के तहत भारत में थे, और अपने स्टेटस के खिलाफ गतिविधियों में संलिप्त थे. इन्हें 24 घंटे के अंदर देश छोड़कर जाने के लिए कहा गया था. इसके साथ ही पाकिस्तान हाई कमीशन के एक ड्राइवर को भी भारत छोड़ने के आदेश दिए गए थे. ‘पर्सोना नॉन ग्राटा’ का मतलब है कोई ऐसा विदेशी शख्स, जिसके किसी देश में आने या रहने पर वहां की सरकार ने रोक लगा दी हो.

पाक ने भारतीय अफसर को डराने की कोशिश की थी

भारत ने जब पाकिस्तान के लिए जासूसी कर रहे पाकिस्तान के अधिकारियों को वापस भेजा, तो पाकिस्तान ने इसका कड़ा विरोध किया था. हाल ही में इंडियन हाई कमीशन के एक भारतीय अफसर को ISI से जुड़े आदमी ने परेशान किया था. गौरव अहलूवालिया जब अपनी कार से जा रहे थे, तब कार का पीछा करते हुए उन्हें डराने की कोशिश की गई थी.


पाकिस्तान के दो अधिकारियों को बचाने वाली डिप्लोमेटिक इम्युनिटी क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूनिवर्सिटी-कॉलेजों में लग रहे 'थैंक्यू मोदी' के बैनर पर बवाल क्यों हो रहा है?

यूनिवर्सिटी-कॉलेजों में लग रहे 'थैंक्यू मोदी' के बैनर पर बवाल क्यों हो रहा है?

क्या यूनिवर्सिटीज़ और कॉलेजों को सरकारी प्रचार के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है?

ये किन दो नेताओं को चुनाव से ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दे दिया है?

ये किन दो नेताओं को चुनाव से ठीक पहले योगी आदित्यनाथ ने बड़ा काम दे दिया है?

कौन हैं रामबाबू हरित और जसवंत सैनी?

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

अयोध्याः 20 लाख की जमीन मेयर के भतीजे ने ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए सवाल

ट्रस्ट द्वारा खरीदी जा रही जमीनों के दो और सौदे विवादों के घेरे में.

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगे रेप के आरोप का पूरा मामला है क्या?

आरोप लगाने वाली महिला के खिलाफ प्रिंस ने भी फरवरी में दर्ज कराई थी FIR.

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

किसान आंदोलन में शामिल लोगों पर आरोप- पहले ग्रामीण को शराब पिलाई, फिर जिंदा जला दिया!

बहादुरगढ़ की घटना, पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया है.

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

CBSE ने सुप्रीम कोर्ट में बताया, 12वीं के मार्क्स देने का 30:30:40 फॉर्मूला क्या है

31 जुलाई से पहले फाइनल रिजल्ट जारी करने की जानकारी भी दी है.

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

योगी सरकार के संपत्ति रजिस्ट्री को लेकर लगने वाले स्टाम्प शुल्क के नए नियम में क्या है?

नए नियम के बाद विवादों में कमी आएगी?

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

हरिद्वार कुंभ के दौरान बांटी गयी 1 लाख फ़र्ज़ी कोरोना रिपोर्ट? जानिए क्या है कहानी

अख़बार का दावा, सरकारी जांच में हुआ ख़ुलासा

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी