Submit your post

Follow Us

पहाड़ों पर सैलानियों की भारी भीड़, कोई सोशल डिस्टेंसिंग नहीं, बिना मास्क के घूम रहे कई लोग

भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर अपना प्रचंड रूप दिखाकर खत्म हो चुकी है. अब तीसरी लहर की संभावना को लेकर तमाम तरह की चर्चाएं हो रही हैं. लेकिन कुछ लोगों को ना तो इस खतरे की फिक्र है और ना ही वे इसकी चर्चा में दिलचस्पी रखते हैं. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं कि क्योंकि कोविड-19 महामारी की तीसरी लहर के खतरे के बावजूद लोगों ने घूमना-फिरना शुरू कर दिया है. वे बड़ी संख्या में पर्यटन के लिए निकल रहे हैं. दिल्ली और आसपास के इलाकों में गर्मी बढ़ने की खबरों के बीच उत्तराखंड और हिमाचल में सैलानियों की संख्या बढ़ती दिख रही है. इसे देख कई लोगों ने सवाल किया है कि क्या ये कोरोना की तीसरी लहर को दावत देना नहीं है.

Nainital New 2
नैनीताल में हर ओर पर्यटकों की भीड़ है. पार्किंग की समस्या भी पैदा हो गई है. फोटो- आजतक

पहाड़ों पर लगी पर्यटकों की भीड़

सोशल मीडिया पर पहाड़ी इलाकों में गए सैलानियों की तस्वीरें भरी पड़ी हैं. मनाली, नैनीताल और मसूरी की तस्वीरें खासी वायरल हो रही हैं. इनमें पर्यटकों की भीड़ देखी जा सकती है. ये देख कई सोशल मीडिया यूजर्स भड़के हुए हैं. वे लोगों से सावधानी बरतने की अपील कर रहे हैं.

हिमाचल प्रदेश के मनाली में इन दिनों पर्यटकों की भारी भीड़ है. पर्यटन सेक्टर के लिए ये बेशक खुशखबरी है. लेकिन चिंता की बात ये है कि वहां घूमने गए लोग ना तो सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रख रहे हैं और ना ही मास्क पहनने का. सवाल किया जा रहा है कि पुलिस और प्रशासन इस बारे में क्यों कुछ नहीं कर रहा है.

Manali
मनाली की ये तस्वीर 3 जुलाई की है. फोटो सोर्स- PTI

मनाली की तरह शिमला में भी सैलानियों की भारी भीड़ है. हालात सामान्य होते तो हम भी यही लिखते कि शिमला सैलानियों से गुलजार है. लेकिन कोरोना काल के मद्देनजर ये भीड़ चिंता का सबब बनी हुई है. आलम ये है कि शिमला आने-जाने के रास्तों पर कई जगह जाम की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में कोविड संक्रमण के नियंत्रण से जुड़े सरकारी प्रोटोकॉल का पालन कर रहे लोगों की चिंता बढ़ना स्वाभाविक है.

Shimla
शिमला में आने जाने वालों पर जाम की स्थिति है. फोटो सोर्स- PTI

उत्तराखंड के नैनीलात में भी पर्यटकों की भीड़ उमड़ी हुई है. यहां के स्थानीय होटल भरे हुए हैं. माल रोड पर लोग कोरोना की चिंता किए बना आराम से घूमते दिख रहे हैं. नैनीतल में पर्यटकों की भीड़ इतनी है कि कई जगहों पर पुलिस तैनात कर लोगों की गतिविधियों को रोकना पड़ा है.

Nainital
नैनीताल में भीड़ का आलम तस्वीर में दिख रहा है. फोटो सोर्स- @DevendraPincha, twitter

नैनीताल में यूं तो हर साल काफी संख्या में सैलानी पहुंचते हैं लेकिन इस बार कोरोना के कारण पर्यटन नहीं के बराबर था. और अब अचानक से काफी संख्या में वहां सैलानी पहुंच गए हैं. होटल मालिक इससे काफी खुश हैं लेकिन स्थानीय लोग कोविड प्रोटोकॉल को लेकर सवाल उठा रहे हैं.

Nainital New1
नैनीताल के माल रोड की एक तस्वीर जिसमें भीड़ का आलम देखा जा सकता है. फोटो- आजतक

सोशल मीडिया पर उमड़ा गुस्सा

एक ट्विटर यूजर ने पुलिस प्रशासन पर सवाल उठाते हुए लिखा,

“जिस तरह से कुल्लू मनाली में होटल फुल हैं, पर्यटकों की लंबी लाइनें लगी हैं, लगभग बाढ़ सी आ गई है, ना तो समाजिक दूरी है ना मास्क है! लेकिन हिमाचल पुलिस पर्यटकों से कुछ नहीं पूछेगी. हाँ आम गरीब हिमाचली दिहाड़ी लगाकर आएगा तो उसका बिना मास्क का चालान जरूर काटेगी. प्रशासन कर क्या रहा है?”

एक अन्य ट्विटर यूजर वेद प्रकाश शर्मा ने लिखा,

“कोरोना की रफ्तार जरा सुस्त क्या पड़ी, हमने सारे एहतियात ताख पर रख दिए. ये मनाली की तस्वीर है. जहां होटल में कमरे नहीं मिल रहे. ऐसा ही रहा तो जल्द ही फिर हॉस्पिटल में बेड भी नहीं मिलेंगे. और तीसरी लहर की तबाही शुरू हो जाएगी.”

डीडी न्यूज़ हिमाचल ने भी ट्विटर पर बताया,

“पिछले 30 घंटों के दौरान 7,357 वाहन शोघी बैरियर से हिमाचल प्रदेश के ज़िला शिमला में दाखिल हुए. शिमला में पर्यटक वाहनों की संख्या ज्यादा है. पुलिस ने पर्यटकों से उचित व्यवहार का पालन करने का आग्रह किया.”

ट्विटर पर अक्षय नाम के यूजर ने शिमला रिज की तस्वीरें पोस्ट की हैं. इनमें काफी भीड़ देखी जा सकती है. कई लोगों ने मास्क नहीं लगाए हैं और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा है.

अब ये नैनीताल की तस्वीर देखिए. इनको पोस्ट किया है ट्विटर यूजर देवेंद्र ने. उन्होंने लिखा है,

“नैनीताल 4 जुलाई 2021. क्या हम वही गलती तो नहीं कर रहे जो कोरोना के पहले फेज के बाद की?”

देवेंद्र और अन्य लोगों की बातें महत्वपूर्ण हैं. हमें नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना वायरस की पहली लहर से उबरने के बाद जिस तरह लोगों ने हालात को बिल्कुल सामान्य समझकर व्यवहार किया, उसका प्रचंड दूसरी लहर के पैदा होने में बड़ा हाथ रहा. लेकिन दूसरी तरफ इससे भी इन्कार नहीं किया जा सकता कि इस स्वास्थ्य संकट ने जहां सरकार के सामने अर्थव्यवस्था का संकट खड़ा कर दिया, वहीं लोगों के लिए भी अपनी आजीविका को फिर से बहाल करना एक चुनौती बन गया. कोरोना काल में जिन क्षेत्रों पर सबसे ज्यादा बुरा असर पड़ा है, उनमें पर्यटन भी शामिल है.

लेकिन ये भी तो नहीं कहा जा सकता कि चूंकि दूसरी लहर खत्म हो गई है, इसलिए लोगों को पहले की तरह बाहर निकलना शुरू कर देना चाहिए, क्योंकि तीसरी लहर का खतरा सबके सिर पर मंडरा रहा है. ऐसे में लोगों को यही सलाह है कि जब तक बहुत जरूरी ना हो, वे घूमने-फिरने का प्रोग्राम बनाने से परहेज करें. कहीं जाएं तो मास्क जरूर पहनें और सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन करें.


वीडियो- कोरोना कवरेज: बिहार में लॉकडाउन के बावजूद शादियों में धड़ल्ले से जुट रही भीड़, कोई प्रोटोकॉल नहीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मद्रास हाई कोर्ट ने केंद्र से क्यों कहा- हिंदी में जवाब देना कानून का उल्लंघन?

मद्रास हाई कोर्ट ने केंद्र से क्यों कहा- हिंदी में जवाब देना कानून का उल्लंघन?

केंद्र सरकार के अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लेने तक की सलाह दे दी.

अफगानिस्तान: काबुल छोड़ने की कोशिश में प्लेन से गिरकर नेशनल फुटबॉलर की मौत

अफगानिस्तान: काबुल छोड़ने की कोशिश में प्लेन से गिरकर नेशनल फुटबॉलर की मौत

19 साल के जाकी अनावरी अफगानिस्तान के उभरते फुटबॉलर थे.

विकी कौशल की बहुप्रतीक्षित फ़िल्म 'दी इम्मोर्टल अश्वत्थामा'  के साथ बड़ा पंगा हो गया

विकी कौशल की बहुप्रतीक्षित फ़िल्म 'दी इम्मोर्टल अश्वत्थामा' के साथ बड़ा पंगा हो गया

'दी इम्मोर्टल अश्वत्थामा' का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे फैन्स को ये खबर ज़रूर पढ़नी चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम की सूची में शामिल ये जज देश की पहली महिला CJI हो सकती हैं?

सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम की सूची में शामिल ये जज देश की पहली महिला CJI हो सकती हैं?

CJI एनवी रमना की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने 9 जजों के नाम की सिफारिश की.

अमरीका में बजी फ़ोन की घंटी और अफ़ग़ानिस्तान से 120 भारतीय नागरिक बचकर इंडिया आ गए!

अमरीका में बजी फ़ोन की घंटी और अफ़ग़ानिस्तान से 120 भारतीय नागरिक बचकर इंडिया आ गए!

भारत की धरती पर उतरते ही यात्रियों ने लगाए भारत माता की जय के नारे.

काबुल से निकलने के लिए लगाई जान की बाजी, हवाई जहाज पर लटके लोग आसमान से गिरे!

काबुल से निकलने के लिए लगाई जान की बाजी, हवाई जहाज पर लटके लोग आसमान से गिरे!

वीडियो में देखिए काबुल एयरपोर्ट के रूह कंपाने वाले हालात.

स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से PM मोदी ने किस-किसका शुक्रिया अदा किया?

स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से PM मोदी ने किस-किसका शुक्रिया अदा किया?

100 लाख करोड़ की गतिशक्ति योजना लॉन्च होगी.

शौर्य चक्र से सम्मानित इन 6 जवानों की कहानियां हर किसी को सुननी चाहिए

शौर्य चक्र से सम्मानित इन 6 जवानों की कहानियां हर किसी को सुननी चाहिए

कैप्टन आशुतोष कुमार को मरणोपरांत शौर्य चक्र मिल रहा है.

पेट्रोल के दाम में भारी कटौती हो गई है!

पेट्रोल के दाम में भारी कटौती हो गई है!

कुछ पैसों की नहीं, पूरे 3 रुपये की कटौती हुई है!

तेज प्रताप यादव पत्रकारों को किस बात पर धमका रहे हैं?

तेज प्रताप यादव पत्रकारों को किस बात पर धमका रहे हैं?

पोस्टर वॉर के पीछे की कहानी क्या है?