Submit your post

Follow Us

नशीले पदार्थों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने अब कौनसा बड़ा फैसला दिया है?

सुप्रीम कोर्ट ने 22 अप्रैल को एक फैसला सुनाया. यह फैसला नारकोटिक्स ड्रग्स साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (NDPS) एक्ट से जुड़ा है. कोर्ट ने कहा कि इस कानून के तहत प्रतिबंधित नशीले पदार्थ की शुद्धता नहीं, बल्कि उसकी क्वांटिटी के आधार पर सजा तय होगी.

जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस इन्दिरा बनर्जी और जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने ये फैसला सुनाया. साथ ही 2008 के ई. माइकल राज बनाम इंटेलिजेंस ऑफिसर, नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो के मामले में दिए गए फैसले को रद्द कर दिया. इस फैसले में कहा गया था कि NDPS एक्ट के तहत प्रतिबंधित नशीले पदार्थ में इसकी शुद्धता मायने रहेगी. बाकी के पदार्थ के वजन को बाहर रखा जा सकता है. 2008 के फैसले में कोर्ट ने कहा था कि जब्त किए गए नशीले पदार्थ के वजन के आधार पर सजा देना गलत है.

जस्टिस अरूण मिश्रा, जस्टिस इन्दिरा बनर्जी और जस्टिस एम आर शाह की पीठ ने ये फैसला सुनाया. (सांकेतिक फोटो)
जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस इन्दिरा बनर्जी और जस्टिस एम आर शाह की पीठ ने ये फैसला सुनाया. (सांकेतिक फोटो)

फैसला देते हुए जस्टिस शाह ने एडिशनल सॉलिसिटर जनरल अमन लेखी की उस दलील को माना, जिसमें कहा गया था कि 2008 के फैसले के बाद सजा देना मुश्किल हो गया है. लेखी ने दलील दी कि पांच ग्राम शुद्ध हेरोइन को 100 ग्राम स्ट्रील लेवल हेरोइन में बदला जा सकता है. अगर 0.25 ग्राम का एक डोज बनता है, तो 100 ग्राम स्ट्रीट लेवल हेरोइन को 400 ग्राम में बदला जा सकता है.अगर शुद्धता देखी जाए, तो इसमें सिर्फ छह महीने की कैद होगी.

बेंच ने कहा,

इस स्तर पर यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अवैध दवाओं को शायद ही कभी शुद्ध रूप में बेचा जाता है. वे हमेशा मिलावटी या अन्य पदार्थ के साथ बेची जाती हैं. कैफीन को हेरोइन के साथ मिलाया जाता है, इससे हेरोइन कम दर पर वाष्पित हो जाती है. हेरोइन का उदाहरण लें, यह एक शक्तिशाली और अवैध ड्रग के रूप में जानी जाती है.

कोर्ट ने आगे कहा,

इसे आसानी से विभिन्न पदार्थों में मिक्स किया जा सकता है. इसका मतलब है कि दवा विक्रेता अन्य दवाओं या गैर-नशीले पदार्थों को दवा में मिला देते हैं, ताकि वे कम खर्च पर अधिक बेच सकें. ब्राउन-शुगर/ स्मैक आमतौर पर पाउडर के रूप में उपलब्ध कराई जाती है, जिनमें लगभग 20% हेरोइन होती है. हेरोइन को चॉक पाउडर, जिंक ऑक्साइड जैसे अन्य पदार्थों के साथ मिलाया जाता है. इनसे दवा, ब्राउन-शुगर की अशुद्धियां सस्ती होती हैं, लेकिन अधिक खतरनाक होती हैं.

इन उदाहरणों का हवाला देते हुए अदालत ने कहा कि यहां तक ​​कि नशीली दवाओं या नशीले पदार्थों का मिश्रण भी अधिक खतरनाक है.

प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो

नशीले पदार्थों को रखने और सेवन के बारे में कोर्ट ने कहा कि दोषी व्यक्ति सलाखों के पीछे होना चाहिए. निर्दोष बाहर होने चाहिए. कोर्ट ने कहा कि इस कानून के तहत मादक पदार्थों का धंधा करने की सजा एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, लेकिन इसकी रोकथाम ज्यादा महत्वपूर्ण है. इस कानून का मकसद अपराध के बाद दोषियों को दंड देने की बजाय, नशीले पदार्थों के गैरकानूनी धंधे की रोकथाम करना है.

इसके साथ ही कोर्ट ने केन्द्र सरकार की 18 नवंबर, 2009 की अधिसूचना को चुनौती देने वाली तमाम याचिकायें खारिज कर दीं. इस अधिसूचना में कहा गया था कि एक या एक से अधिक पदार्थों के मिश्रित होने वाले नशीले पदार्थ की मात्रा का निर्धारण करते समय दूसरे पदार्थों का वजन भी नशीले पदार्थ में शामिल किया जाएगा.


कश्मीरी फोटो जर्नलिस्ट मसरत जहरा पर UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया, पर क्यों?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

हाथरस पीड़ित परिवार से मिले राहुल गांधी और प्रियंका गांधी, योगी ने CBI जांच की सिफारिश की

हाथरस पीड़ित परिवार से मिले राहुल गांधी और प्रियंका गांधी, योगी ने CBI जांच की सिफारिश की

लगभग एक घंटे मुलाकात चली.

ट्विटर पर आकाश चोपड़ा से भिड़े जिमी नीशम ने बड़ी छिछली बात कर दी

ट्विटर पर आकाश चोपड़ा से भिड़े जिमी नीशम ने बड़ी छिछली बात कर दी

लेकिन चोपड़ा तो चोपड़ा हैं.

देखिए कैसे प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस की लाठी से बचाया

देखिए कैसे प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पुलिस की लाठी से बचाया

हाथरस के रास्ते DND पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया.

लॉकडाउन में लोन की किश्त रोकी थी तो ये ख़बर जान लीजिए

लॉकडाउन में लोन की किश्त रोकी थी तो ये ख़बर जान लीजिए

लोन पर ब्याज को लेकर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में बड़ी बात कह दी है.

बिहार: महागठबंधन में कौन कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगा, पता चल गया

बिहार: महागठबंधन में कौन कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगा, पता चल गया

महागठबंधन के नेताओं ने की घोषणा.

हाथरस: पीड़ित परिवार से मिले डीजीपी और अपर मुख्य सचिव, जानें क्या बातें हुईं

हाथरस: पीड़ित परिवार से मिले डीजीपी और अपर मुख्य सचिव, जानें क्या बातें हुईं

बताया, एसआईटी मामले की जांच पूरी करेगी.

AIIMS की रिपोर्ट-सुशांत सिंह की मौत हत्या नहीं, आत्महत्या है

AIIMS की रिपोर्ट-सुशांत सिंह की मौत हत्या नहीं, आत्महत्या है

एम्स के डॉक्टर सुधीर गुप्ता ने जांच के बाद मर्डर से जुड़े सभी एंगल, थ्योरीज़ को खारिज किया.

उद्घाटन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद की 'अटल टनल' की यात्रा, जानिए क्या है खासियत

उद्घाटन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने खुद की 'अटल टनल' की यात्रा, जानिए क्या है खासियत

मनाली से लेह जाने के लिए इस टनल को तैयार किया गया है

हाथरस: पीड़ित परिवार ने कहा- डीएम का कराओ नार्को टेस्ट, हम नहीं कराएंगे

हाथरस: पीड़ित परिवार ने कहा- डीएम का कराओ नार्को टेस्ट, हम नहीं कराएंगे

कहा - हमें नहीं पता उस रात पुलिस ने किसकी लाश जलाई.

हाथरस में बैठी अगड़ी जाति की पंचायत, फैसला- आरोपियों को गलत फंसाया जा रहा, उनके पक्ष में रहेंगे

हाथरस में बैठी अगड़ी जाति की पंचायत, फैसला- आरोपियों को गलत फंसाया जा रहा, उनके पक्ष में रहेंगे

कहा जा रहा कि 12 गांव के लोग इकट्ठा हुए.