Submit your post

Follow Us

टुच्ची-टुच्ची बातों में धार्मिक भावनाएं आहत न किया कीजिए

धर्म. मज़हब. रिलीजन. आज की तारीख में भारत का सबसे हॉट टॉपिक. जितनी जागृत हम लोगों की धार्मिक चेतना है, उतनी अवेयरनेस अगर सामाजिक मुद्दों पर हो जाए तो कितना भला हो. लेकिन नहीं होती. टुच्ची-टुच्ची बातों पर हमारी धार्मिक भावना आहत हो जाती है. इतनी ज़्यादा मात्रा में कि लगता है आहत होना भारत का राष्ट्रीय टाइमपास है.

आहत होने की इस मात्रा को थोड़ा सा कम करने की सुप्रीम कोर्ट ने ठानी है. बात-बात पर ठेस लगने वाली धार्मिक भावनाओं से कोर्ट कह रहा है कि हल्का हाथ रखो. हर छोटी-मोटी बात पर केस ना ठोक दिया करो. और भी ज़रूरी काम हैं दुनिया में. कोर्ट ने कहा है कि अनजाने में या लापरवाही से हुआ धर्म का अपमान गुनाह नहीं माना जाएगा. इससे क़ानून का दुरूपयोग ही होगा.

supreme court of india

इंडियन पीनल कोड़ की धारा 295-ए के तहत धार्मिक भावनाएं दुखाने पर तीन साल की जेल की सज़ा है. सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि जान-बूझकर धर्म का अपमान करने में और गलती से हुई टिप्पणी में अंतर है. जस्टिस दीपक मिश्रा, ए एम खानविलकर और एम एम शांतनागोद की बेंच ने कहा कि लापरवाही से या गैरइरादतन ढंग से धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना जुर्म नहीं है.

सुप्रीम कोर्ट महेंद्र सिंह धोनी की याचिका पर सुनवाई कर रहा था. 2013  में एक बिज़नेस मैगजीन में धोनी की विष्णु के रूप में तस्वीर छपी थी, जिसके बाद उन पर केस दर्ज हुआ था. कोर्ट ने कहा कि केस में धोनी ने जानबूझकर या दुर्भावना के साथ यह काम नहीं किया था.

कोर्ट का ये कथन एक अच्छी पहल है. इससे बिना बात ठोके जाते केसेस में कमी आएगी. इंसान कई बार महज़ लापरवाही में कुछ न कुछ ऐसा बोल देता है जो धार्मिकता की सीमाओं का अतिक्रमण होता है. उसका इरादा धर्म का या धार्मिकों का अपमान करना नहीं होता. इसके बावजूद पंगा पड़ जाता है. फिर वही कोर्ट-कचहरी, धार्मिकों की धमकियां, गाली-गलौच वगैरह. जबकि कुछ चीज़ों को नज़रअंदाज़ कर देना चाहिए. अगर बोली गई हर बात पर पकड़ होने लगी, तो फ्रीडम ऑफ़ एक्सप्रेशन का क्या अर्थ रहा?

हां अगर कोई जानबूझकर धर्म का अपमान करता है तो उसके खिलाफ़ कार्रवाई होनी ही चाहिए. गलत इंटेंशन से की गई कोई भी हरकत सज़ा की हक़दार है. आइए देखते हैं IPC की धारा 295A क्या कहती है:

  • आरोपी ने भारत के किसी भी धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान या अपमान का प्रयास किया हो.
  • ये अपमान जानबूझकर और दुर्भावना रख कर किया गया हो.
  • ये अपमान शाब्दिक हो, या कह के या लिखित रूप में हो, या फिर इशारों में हो या किसी भी दृश्य रूप में हो.
  • ये एक गैर-ज़मानती अपराध है.
  • पुलिस 295A के तहत आरोपी को गिरफ्तार कर सकती है.

कोर्ट का कहना है कि गंभीर हालातों में ही किसी को 295A के तहत सज़ा दी जाए. गौरतलब है कि इस सेक्शन के तहत कई सारे सेलिब्रिटीज को कोर्ट केस झेलना पड़ रहा है. 2016 में स्टैंड-अप कॉमेडियन कीकू शारदा को डेरा सच्चा सौदा के मुखिया गुरमीत राम रहीम सिंह की मिमिक्री करने के लिए केस का सामना करना पड़ा था.

2014 में सलमान ख़ान भी फंस गए थे. एक मॉडल अरबी शब्द लिखी टी-शर्ट पहन कर रैम्प पर चली थी. इससे मुस्लिम भावनाएं आहत हो गई थी. सलमान का कनेक्शन सिर्फ इतना था कि उस फैशन शो को उनके एनजीओ बीइंग ह्यूमन ने ऑर्गनाइज़ किया था.

‘पीके’ के वक़्त आमिर ख़ान को भी इसकी आंच महसूस हुई थी. भगवान शंकर की वेशभूषा वाले किरदार का ‘पीके’ में होना उनके जी का जंजाल बन गया था. उनके खिलाफ़ पुलिस केस रजिस्टर्ड हो गया था.  सेम चीज़ अक्षय के साथ भी हुई. फिल्म ‘ओह माय गॉड’ में कृष्ण बनने पर उनके खिलाफ़ अजमेर में एफआईआर की गई थी. शाहरुख ख़ान भी इसकी चपेट में आ चुके हैं. ‘स्टूडेंट ऑफ़ द ईयर’ में एक गाना था, ‘राधा ऑन द डांस फ्लोर’. उसकी वजह से शाहरुख और उनकी पत्नी गौरी पर केस हुआ. रीज़न ये कि वो उस फिल्म के को-प्रोड्यूसर थे.

वैसे ही भारत में धर्म बेहद नाज़ुक चीज़ बन के रह गई है. गाय को डंडा मारने से या हज़रत मुहम्मद साहब के नाम के साथ पैगंबर ना लिखने भर से लोग आहत होने लगे हैं. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट का एक सेंसिबल स्टैंड लेना बेहद सुकून की बात है. उम्मीद है इससे माहौल कुछ तो बदलेगा.


ये भी पढ़ें:

वो 9 लोग जो पिछले तीन साल से पीएम मोदी के सारे काम देख रहे हैं

देश के 10 सबसे ताकतवर लोगों की लिस्ट, कई नाम चौंकाने वाले हैं

UPSC टॉपर इरा सिंघल: असिस्टेंट कलेक्टर At दिल्ली

लांडे, शिवदीप लांडे नाम है हमारा

सबका हो जाता है, हिंदी वालों का ही UPSC में नहीं होता!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"

सुब्रमण्यन स्वामी Air India-Tata डील के खिलाफ HC पहुंचे, 'टाटा के पक्ष में धांधली' का आरोप

सुब्रमण्यन स्वामी Air India-Tata डील के खिलाफ HC पहुंचे, 'टाटा के पक्ष में धांधली' का आरोप

स्वामी की याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट 6 जनवरी को सुनाएगा फैसला

कपड़े महंगे होंगे या नहीं? जानिए सरकार ने क्या फैसला लिया है

कपड़े महंगे होंगे या नहीं? जानिए सरकार ने क्या फैसला लिया है

GST काउंसिल ने टेक्सटाइल पर टैक्स 12% करने का फैसला टाला

14 साल बाद इरफ़ान की वो फ़िल्म आ रही है, जिसकी शूटिंग के दौरान वो मरते-मरते बचे थे

14 साल बाद इरफ़ान की वो फ़िल्म आ रही है, जिसकी शूटिंग के दौरान वो मरते-मरते बचे थे

इरफान की आखिरी फिल्म आ रही है.

लुधियाना कोर्ट ब्लास्ट में किसका हाथ? खुफिया एजेंसी और CM चन्नी कर रहे अलग-अलग बात

लुधियाना कोर्ट ब्लास्ट में किसका हाथ? खुफिया एजेंसी और CM चन्नी कर रहे अलग-अलग बात

ब्लास्ट में हाई क्वालिटी विस्फोटक का इस्तेमाल होने की बात सामने आई है.

'स्पाइडरमैन: नो वे होम' ने पहले दिन करोड़ों की कमाई का वो जाला बुना कि बड़े-बड़े रिकॉर्ड फंस गए

'स्पाइडरमैन: नो वे होम' ने पहले दिन करोड़ों की कमाई का वो जाला बुना कि बड़े-बड़े रिकॉर्ड फंस गए

एक दिन में ही कई रिकॉर्ड टूट गए, अभी तो वीकेंड पड़ा है.

'स्पाइडर मैन : नो वे होम' का ऐसा भौकाल है कि एडवांस खिड़की पर रिकॉर्ड टूट गए

'स्पाइडर मैन : नो वे होम' का ऐसा भौकाल है कि एडवांस खिड़की पर रिकॉर्ड टूट गए

ब्लैक में टिकट खरीदने का ज़माना लौट आया है बॉस!

आतंकी हमले में जम्मू-कश्मीर के 14 पुलिसकर्मी घायल, 2 शहीद, PMO ने डिटेल्स मांगी

आतंकी हमले में जम्मू-कश्मीर के 14 पुलिसकर्मी घायल, 2 शहीद, PMO ने डिटेल्स मांगी

हमला श्रीनगर से जुड़े इलाके में हुआ है.

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

जानिए CDS बिपिन रावत के साथ हेलिकॉप्टर में कौन-कौन सवार था?

क्रैश हुए हेलिकॉप्टर में कुल 14 लोग मौजूद थे