Submit your post

Follow Us

मोदी जिस बालाकोट स्ट्राइक के चलते रात भर नहीं सोए, सनी देओल उसे लेकर कहते हैं- ख़बर नहीं

5
शेयर्स

पहले एक बातचीत पढ़िए – 

रिपोर्टर अगले से – मोदी जी कैसे नेता हैं?

अगले का जवाब- पांच साल बहुत अच्छा काम किया है. बहुत ही अच्छे नेता हैं. मैं चाहता हूं आगे भी वो रहें. क्योंकि देश को इकठ्ठा रखना और जोड़ के रखना और आगे बढ़ते रहना (इसके लिए) हमें एक अच्छा नेतृत्व चाहिए. 

रिपोर्टर का सवाल- आपको लगता है कि बालाकोट स्ट्राइक हेल्प करेगी देश को जोड़ के रखने में?

अगले का जवाब- कौन… कौन स्ट्राइक्स?

रिपोर्टर का सवाल- बालाकोट स्ट्राइक्स, जो बालाकोट में हुईं.  

अगले का जवाब- देखिए मुझे इतनी इन चीज़ों के बारे में ख़बर नहीं है. मैं यही कहना चाहता हूं कि मैं यहां आया हूं. लड़ने आया हूं. जीत जाऊंगा फिर मैं आपके साथ जुड़ूंगा. बाक़ी बहुत सी बातों पर बात कर सकता हूं. फ़िलहाल मैं सिर्फ़ चाहता हूं कि जीतूं और अपने देश की सेवा करूं. 

अब सवाल दो हैं. एक तो ये कि यहां ‘अगला’ कौन है, जिसने ऐसा जवाब दिया? और दूसरा कि कहां लड़ने गया है ये बंदा?

तो दूसरे सवाल पर पहले आते हैं. आप गेस करो. क्लू यही है कि ‘लड़ने गया है’. इसका मतलब कहीं लड़ाई चल रही है. और यहीं भारत में ही चल रही है. अब कोई वॉर वग़ैरह तो चालू है नहीं अपने यहां. तो क्या लड़ रहा है? अरे चुनाव लड़ रहा है भाई. वो भी आज के टाइम में किसी वॉर से कम है क्या?

अब आते हैं पहले सवाल पर. कौन है ये अगला? क्लू ये है कि अगले का ढाई किलो का हाथ जब पड़ता है तो आदमी उठता नहीं, उठ जाता है.

बाबा का ढाई किलो का हाथ जब चड्ढा पर पड़ा तो वो उठा नहीं, उठ ही गया
बाबा का ढाई किलो का हाथ जब चड्ढा पर पड़ा तो वो उठा नहीं, उठ ही गया

बस समझ गए आप. साहब हैं सनी देओल. और चुनाव लड़ रहे हैं गुरदासपुर से. भाजपा के कैंडिडेट हैं. और पीएम मोदी का वो करिश्मा नहीं जानते जिसे बाकी के नेता पानी पी-पी के जनता के बीच राग भीमपलासी में गा रहे हैं. कोई पूछे कि सड़क नहीं बनी तो जवाब में बालाकोट स्ट्राइक. बिजली, पानी, अस्पताल, शिक्षा हर सवाल का एक ही जवाब ‘बालाकोट स्ट्राइक्स’. अब अगला इसके आगे क्या ही बात करेगा.

अब ऐसे में बड़ा सवाल यही है कि गुरदासपुर में दिन रात रोड शो कर रहे सनी क्या इतने ‘मासूम हैं?’ कि बॉर्डर के इलाके से चुनाव लड़ने पर भी बालाकोट के बारे में इन्हें पता तक नहीं है? अपने ‘एंटी पाकिस्तानी’ डायलॉग्स के लिए भयंकर फ़ेमस सनी देओल अपने रोड शो में वैसे नलका वलका तो उखाड़ रहे हैं (लिटरल नहीं). और चुनाव आयोग ने बालाकोट पर पीएम मोदी को क्लीन चिट भी दे ही दी है तो ऐसे में बालाकोट पर बोलने से डरने का भी कोई पॉइंट नहीं.

बहरहाल सनी ने मान लिया है कि ‘ज़्यादा कुछ पता नहीं है, जीतने के बाद सब जान जाऊंगा’. अब सनी को कौन समझाए कि जनरल नॉलेज के लिए सांसद बनने की क़तई ज़रूरत नहीं है. और सांसद का जीके ठीक हो ये भी कोई श्योरिटी नहीं है.


वीडियो देखें:  सोनीपत के जिस गांव में प्राइवेट स्कूल की इमारतें चमचमाती हैं, वहां के सरकारी स्कूल का ये हाल

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.