Submit your post

Follow Us

क्या है धांसू साउथ कोरियन फिल्म 'ब्लाइंड' की कहानी, जो अब हिंदी में बनने जा रही है

लॉकडाउन की वजह से सब बंद है. फिल्म इंडस्ट्री भी. शूटिंग, रिलीज़ सब. लेकिन प्लान्स तो बन ही सकते हैं. कभी तो सब खुलेगा. कभी तो काम शुरू होगा. और जब होगा तब क्या होगा इसकी प्लानिंग बॉलीवुड भी कर ही रहा है. इसी क्रम में एक खबर हाथ लगी है कि हिंदी में एक बेहतरीन साउथ कोरियन फिल्म का रीमेक बनने जा रहा है. ये अलग से बताने की ज़रूरत है नहीं कि आजकल साउथ कोरियन फिल्मों ने दुनिया भर में धूम मचा रखी है. हाल ही में ‘पैरासाइट’ तो ऑस्कर तक ले गई. साउथ कोरिया की थ्रिलर फ़िल्में बनाने में बहुत अच्छी रेप्युटेशन है. ऐसी ही एक धांसू थ्रिलर फिल्म अब हिंदी में बनेगी.

# कौन सी फिल्म है, कौन बना रहे?

फिल्म का नाम है ‘ब्लाइंड’. 2011 में आई थी. डायरेक्टर थे आन सांग हून. मेन कास्ट में शामिल थे एक्ट्रेस किम हा-नूल और एक्टर यू सुंग-हू. किम ने इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी जीता था. फिल्म बहुत पसंद की गई थी. चाइना और जापान में रीमेक तक बन चुका है. अब इंडिया में भी कदम रख रही है फिल्म.

'ब्लाइंड' का कोरियन पोस्टर.
‘ब्लाइंड’ का कोरियन पोस्टर.

बताया जा रहा है कि हिंदी में इसे शोम मखीजा डायरेक्ट करेंगे. शोम ने सुजॉय घोष की पिछले साल आई ‘बदला’ में बतौर एसोसिएट डायरेक्टर काम किया था. ‘ब्लाइंड’ के हिंदी रीमेक के क्रिएटिव प्रड्यूसर सुजॉय घोष ही बताए जा रहे हैं. मेन लीड में सोनम कपूर नज़र आएंगी. टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक़ सोनम ने एक मैगज़ीन को बताया कि लॉकडाउन के बाद वो ‘ब्लाइंड’ पर काम करेंगी.

# क्या है कहानी ‘ब्लाइंड’ की ?

यूनिवर्सिटी से लड़की मिसिंग है. दूसरी तरफ एक हिट एंड रन केस सामने आया है. लगने लगा है कि दोनों केस सेम हैं. पुलिस को गवाहों की तलाश है. एक गवाह मिलता है. एक दृष्टिहीन लड़की. पुलिस में भरती होना चाहती थी लेकिन एक भयानक एक्सीडेंट हो गया. उसके भाई की जान चली गई और उसकी आंखें. एक दिन ये लड़की पुलिस स्टेशन पहुंचती है. बताती है कि जिस एक्सीडेंट केस में पुलिस विटनेस तलाश रही है, उसके बारे में वो पुलिस की मदद कर सकती है. लड़की का कहना है कि वो एक टैक्सी है जिसने एक्सीडेंट किया. ज़ाहिर है पुलिस उस पर भरोसा नहीं करती.

एक्ट्रेस किम ने इस रोल के लिए अवॉर्ड हासिल किया.
एक्ट्रेस किम ने इस रोल के लिए अवॉर्ड हासिल किया.

तभी एक और गवाह सामने आता है. एक नौजवान लड़का. उसका दावा है कि जिस गाड़ी से एक्सीडेंट हुआ वो टैक्सी हो ही नहीं सकती. वो तो कोई विदेशी कार थी. दो गवाह. दो अलग बयान. किसकी बात सही है? किसने किया एक्सीडेंट? दृष्टिहीन लड़की का पीछा कौन कर रहा है? यूनिवर्सिटी से गायब लड़की का क्या एंगल है? क्या कोई सीरियल किलर शहर में घूम रहा है? ऐसे तमाम सवालों के जवाब हासिल करने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी बॉस.

फिलहाल तो आप ट्रेलर देख लीजिए:


बहरहाल, अब ये फिल्म हिंदी में आ रही है. रीमेक के मामले में बॉलीवुड का ट्रैक रिकॉर्ड कोई उम्दा नहीं है. कितनी ही शानदार फिल्मों का कबाड़ा कर चुकी है हिंदी सिनेमा इंडस्ट्री. ‘दी यूजुअल सस्पेक्ट्स’ को ‘चॉकलेट’ और ‘इटालियन जॉब’ को प्लेयर्स में बदलते देखना बड़ा कष्टकारी अनुभव था. उम्मीद करते हैं ‘ब्लाइंड’ के साथ ऐसा नहीं होगा.


वीडियो:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.