Submit your post

Follow Us

किसी बेटे को ऐसे दिन न देखने पड़ें, जैसे इस करोड़पति बाप के बेटे ने देखे

हिंदी फिल्मों में आपने कई सारी ऐसी कहानियां देखी होंगी, जिनमें बच्चा अपने अमीर मां-बाप से बिछड़ जाता है. फिर बहुत ही गरीबी में जीता है. फिर बड़ा होकर किसी तरह अपने परिवार से दोबारा मिलता है. लेकिन ये सब होने में कई साल लग जाते हैं. 5-6 साल का बच्चा 22-23 साल का हो जाता है. अब इसी तरह का एक मामला असल में सामने आया है. बस एक छोटा सा फर्क है. लड़का गुम हुआ, लेकिन एक महीने बाद मिल गया. और गुम होने वाले लड़के की उम्र 19 साल थी.

लड़का गुजरात का रहने वाला था. और पुलिस को वो शिमला की सड़कों पर सोता हुआ मिला. शिमला में वो सड़क के किनारे बने होटलों में छोटा-मोटा काम करके किसी तरह गुजारा कर रहा था.

गुजरात का लड़का शिमला पहुंचा कैसे?

TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, लड़के का नाम द्वारकेश ठक्कर है. इंजीनियरिंग कर रहा है. वडोदरा के पाद्रा कस्बे में परिवार के साथ रहता है. पिता तेल व्यापारी हैं. लाखों की प्रॉपर्टी है. 14 अक्टूबर के दिन द्वारकेश अपने घर से निकला. ये कहकर कि वो कॉलेज जा रहा है. लेकिन फिर वापस नहीं लौटा.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, द्वारकेश को कॉलेज जाना और पढ़ाई पसंद नहीं थी. इसलिए वो उस दिन कॉलेज ने जाकर वडोदरा रेलवे स्टेशन पहुंचा. वहां से दिल्ली गया और फिर गायब हो गया. उसके घरवालों ने पुलिस में शिकायत की. पुलिस ने सीसीटीवी के जरिए उसे खोजने की कोशिश की. अब क्योंकि द्वारकेश अपना मोबाइल घर में ही छोड़कर गया था, इसलिए उसे खोजना बहुत मुश्किल था. केवल इतना ही पता चल पा रहा था कि वो वडोदरा रेलवे स्टेशन गया था.

हफ्तों तक उसे खोजने के बाद भी उसका कोई पता नहीं चल रहा था. द्वारकेश के घरवाले निराश होने लगे थे. लेकिन 4 नवंबर के दिन एक उम्मीद मिली. जब पाद्रा पुलिस को शिमला के एक होटल के मैनेजर ने कॉल किया.

क्यों आया था कॉल?

द्वारकेश वडोदरा से शिमला पहुंच गया था. जहां वो सड़कों के किनारे बने होटलों में बर्तन धोकर किसी तरह गुजारा कर रहा था. 4 नवंबर के दिन वो शिमला के एक होटल पहुंचा. काम मांगने के लिए. मैनेजर को थोड़ा शक हुआ. उसने द्वारकेश से बात की. उसकी आईडी मांगी. आईडी से मैनेजर को ये पता चला कि वो पाद्रा से है. मैनेजर ने फिर चुपके से वहां के पुलिस स्टेशन में कॉल किया. लड़के के बारे में बताया. फिर उसके आईडी कार्ड की तस्वीर भी भेजी.

पाद्रा पुलिस ने आईडी देखकर द्वारकेश को पहचान लिया. 4 नवंबर के दिन पुलिस थाने के दो पुलसकर्मी अपने परिवार के साथ शिमला में ही थे. छुट्टियां मनाने गए थे. अधिकारियों ने उन दोनों को कॉल किया और द्वारकेश को खोजने का निर्देश दिया. जब दोनों पुलिसकर्मी होटल पहंचे, तब तक द्वारकेश वहां से जा चुका था. लेकिन मैनेजर ने द्वारकेश से ये जान लिया था कि वो सड़क किनारे के होटलों में छोटा-मोटा काम करता है. ये बात मैनेजर ने पुलिसवालों को बता दी. फिर रात में ही द्वारकेश को खोजना शुरू किया गया. सड़क किनारे के होटलों में वहां के टैक्सी ड्राइवर्स को, सबको उसकी तस्वीर दी गई.

आधी रात को एक टैक्सी ड्राइवर ने दोनों पुलिसवालों को कॉल किया. बताया कि उसने द्वारकेश को सड़क पर सोते देखा है. पुलिस वहां पहुंची और द्वारकेश को अपने आईडी कार्ड दिखाए. तुरंत उसके घरवालों को कॉल किया गया. घरवाले भी जितनी जल्दी हो सका, वहां पहुंच गए. द्वारकेश से जब ये पूछा गया कि उसने घर क्यों छोड़ा था, तब उसने बताया कि उसे कॉलेज जाना और पढ़ना पसंद नहीं है, वो इन सबसे भागना चाहता था. इसलिए उसने घर छोड़ा था. खैर, इस वक्त वो अपने परिवार के साथ है. उसका परिवार बेहद खुश है.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.

यूपी: औरैया में दो ट्रक टकराने से 24 मज़दूर मारे गए, योगी ने कई पुलिसवालों को सस्पेंड किया

पीएम मोदी ने घटना पर शोक जताया है.

घर-घर खाना पहुंचाने वाली ये कंपनी 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रही है

राहत वाली बात ये है कि छह महीने तक आधी सैलरी मिलती रहेगी.

बंगाल में हफ्तेभर से क्या बवाल चल रहा है, जिसमें 129 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं

‘तुम कोरोना फैला रहे हो’ कहकर हमला किया, हिंसा भड़की.

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज में से पहले दिन वित्त मंत्री ने क्या-क्या ऐलान किया?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की डिटेल दी.

पीएम मोदी ने जिस Y2K क्राइसिस का ज़िक्र किया, वो क्या था?

पीएम ने 12 मई को देश को संबोधित किया.