Submit your post

Follow Us

स्टेशन के बाहर घंटों रुकी रही ट्रेन, दो दिन से भूखे मज़दूर पटरी पर सोकर विरोध जताने पर मजबूर

प्रवासी मज़दूरों को घर पहुंचाने के लिए सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला तो दी हैं, लेकिन उनकी हालत क्या है, सब जान चुके हैं. ट्रेनें चार-चार, पांच-पांच दिन देरी से चल रही हैं. 30 घंटे का सफर तय करने में पांच दिन लग जा रहे हैं. ऐसे में कई इलाकों से मज़दूरों के विरोध प्रदर्शन की खबरें भी आने लगी हैं. कुछ लोग रेलवे ट्रैक पर सोकर विरोध जता रहे हैं, तो कुछ लोग खाली ट्रेनों को रोककर.

बिहार के समस्तीपुर में भी 26 मई को मज़दूरों का गुस्सा देखने को मिला. ‘आज तक’ से जुड़े जहांगीर आलम ने बताया कि एक ट्रेन समस्तीपुर के आउटर सिग्नल पर 20 घंटे देरी से पहुंची और रुक गई. दो दिन से भूखे-प्यासे मजदूर मज़दूर गुस्से में थे. उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया. कईयों ने गुस्से में अपनी शर्ट उतार दी. कुछ पटरी पर लेट गए.

Shramik Special Trains 2
समस्तीपुर स्टेशन के आउटर में विरोध करते लोग. अप-लाइन के ट्रैक में लोगों ने पटरियां रख दी थीं. (फोटो- जहांगीर आलम)

इसी दौरान अप-लाइन से खाली डिब्बों को लेकर एक ट्रेन गुज़र रही थी. मज़दूरों ने उसे रोकने के लिए रेलवे लाइन के किनारे रखी पटरी को उठाकर ट्रैक पर रख दिया. ऐसे में उस खाली ट्रेन को भी रुकना पड़ गया. गर्मी बहुत है, ट्रेनें घंटों लेट हो रही हैं, ऐसे में मज़दूरों को खाने-पीने की भी दिक्कत हो रही है. इन सब से वो गुस्साए हुए थे. कई घंटों तक हंगामा करने के बाद आखिरकार उनकी ट्रेन को खोला गया. मज़दूर उसमें सवार हुए और ट्रेन आगे बढ़ गई. उसके बाद इलाके की पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से ट्रैक पर रखी पटरियों को हटाया और अप-लाइन को खाली किया.

Shramik Special Trains 1
श्रमिक स्पेशल ट्रेन जाने के बाद पटरी को रेलवे ट्रैक से हटाते लोग. (फोटो- जहांगीर आलम)

स्टेशन पर ट्रेन का कन्फ्यूज़न

बिहार के समस्तीपुर स्टेशन से कई श्रमिक स्पेशल ट्रेनें गुज़र रही हैं. जहांगीर आलम ने बताया कि इनमें से करीब 45 ट्रेनें कई घंटों की देरी से चल रही हैं. इसी लेट-लतीफी के चक्कर में 26 मई को स्टेशन पर भयंकर कन्फ्यूज़न हो गया. दरअसल, रेलवे अधिकारियों को भी ट्रेन के सही वक्त की जानकारी नहीं मिल पा रही है. ऐसे में उन्हें पता चला कि 06155 मद्रास-दरभंगा श्रमिक स्पेशल ट्रेन समस्तीपुर से गुज़रने वाली है. जो कि 27 घंटे लेट थी. उसमें बैठे मज़दूर भूखे-प्यासे थे, इसलिए उनके लिए पहले से ही स्टेशन पर खाने के पैकेट और पानी का इंतज़ाम करके रखा गया था. इसी बीच एक ट्रेन प्लेटफॉर्म नंबर-1 से गुज़री. लोगों ने उसमें सवार मज़दूरों को फूड पैकेट और पानी बांटना शुरू कर दिया, बाद में पता चला कि वो भिवानी से पूर्णिया जाने वाली ट्रेन थी. लेकिन फूड पैकेट तो बंट चुके थे. फिर जब दरभंगा जाने वाली ट्रेन असल में आई तो फूड पैकेट की कमी हो गई.

Shramik Special Trains 4
समस्तीपुर स्टेशन में ट्रेन में सवार मज़दूरों को खाना देते रेलवे कर्मचारी. (फोटो- जहांगीर आलम)

ट्रेन में सवार लोग और बच्चे हाथ बाहर निकालकर खाना मांग रहे थे. खाने के लिए लोग ट्रेन से बाहर भी उतर गए थे. उन्होंने झुंड बना लिया था. प्लेटफॉर्म पर मौजूद रेलवे कर्मचारियों के पास जितने पैकेट थे, उन्होंने दे दिए. बाद में फिर चूड़ा-मूंगफली और बिस्किट के पैकेट बांटे गए, क्योंकि फूड पैकेट खत्म हो गए थे. मज़दूर भी काफी सारे पैकेट ले रहे थे, क्योंकि उन्हें भी पता नहीं था कि आगे कब उन्हें खाना और पानी मिलेगा.

Shramik Special Trains 3
समस्तीपुर स्टेशन में खाना मांगते बच्चे. (फोटो- जहांगीर आलम)

क्यों इतनी भसड़ मची हुई है?

ये जानने के लिए समस्तीपुर मंडल के सुरक्षा आयुक्त अंशुमान त्रिपाठी से जहांगीर आलम ने बात की. अंशुमान ने बताया कि देश के कई हिस्सों से बिहार और बंगाल के लिए एकसाथ श्रमिक ट्रेनें चली हैं. चूंकि रास्ता काफी हद तक कॉमन है, ऐसे में इन ट्रेनों का बंच बन जा रहा है. इसलिए ये लेट हो रही हैं. उन्होंने कहा कि ट्रेन में सवार लोग भूखे-प्यासे हैं, इसलिए कई जगहों पर विरोध कर रहे हैं. उनका कहना है कि स्टेशन पर आने वाली ट्रेनों में सवार लोगों को वो खाना-पानी मुहैया करा सकें, ये उनकी कोशिश है और वो इस पर काम कर रहे हैं.


वीडियो देखें: श्रमिक स्पेशल ट्रेन कानपुर स्टेशन पर रुकी, तो खाने की ट्रॉली देखते ही दो कोच के मज़दूर आपस में भिड़ गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

दोनों ओर के सैनिकों ने मोर्चा संभाला.

पाताल लोक वेब सीरीज में फोटो से छेड़छाड़ पर BJP विधायक ने की अनुष्का से माफी की मांग

प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा पर रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की.

कानपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकी और खाने को लेकर आपस में भिड़ गए प्रवासी मज़दूर

दो कोचों के मज़दूर आपस में झगड़ पड़े. कुछ को खाना मिला, बाकी जमीन पर गिर गया.