Submit your post

Follow Us

राहुल गांधी की दादी का देहांत, उनकी जीवन कहानी थी बहुत निराली

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की दादी शोभा नेहरू का 25 अप्रैल 2017 को कसौली में निधन हो गया. शोभा, नेहरू परिवार की पहली विदेशी बहू थीं. मूल रूप से हंगरी की रहने वाली यहूदी थीं. उनकी शादी जवाहरलाल के चचेरे भाई ब्रिजलाल के बेटे ब्रज कुमार से हुई थी. ब्रज कुमार पहले डिप्लोमैट रहे और फिर गवर्नर. रिटायरमेंट के बाद उन्होंने कसौली में बंगला बनवाया. यहीं आखिरी सांस ली. और अब बीते दिन उनकी 109 साल की पत्नी ने भी देह छोड़ दी.

एक रेकॉर्ड था शोभा के नाम

शोभा दुनिया की सबसे बुजुर्ग यहूदी महिला थीं. अपनी जिंदगी में उन्होंने दो विश्वयुद्ध, भारत-पाकिस्तान का विभाजन और उसके बाद का नरसंहार भी देखा. हिमाचल प्रदेश के कसौली में उनकी आखिरी विदाई हिंदू रीति-रिवाजों से होगी. वह यहीं पर रहती थीं.

शोभा कसौली के जिस बंगले में वह रहती थीं, वह उनके पति ब्रज कुमार नेहरू ने उन्हें गिफ्ट किया था. ये साल 1987 था, जब ब्रज कुमार ने कसौली के लो मॉल रोड पर ये बंगला खरीदा था. राहुल गांधी अक्सर अपनी शोभा दादी से मिलने कसौली आया करते थे. आखिरी बार वह मई 2016 में उनसे मिलने कसौली पहुंचे थे. शोभा के पति ब्रज कुमार ने भी 2001 में कसौली में ही आखिरी सांसें ली थीं.

दुनिया की सबसे बुजुर्ग यहूदी महिला थीं शोभा
दुनिया की सबसे बुजुर्ग यहूदी महिला थीं शोभा

देश की आजादी से 12 साल पहले हुई थी शादी

शोभा नेहरू जवाहर लाल नेहरू के ताऊ के परिवार की बहू हैं. मोतीलाल नेहरू के बड़े भाई पं. नंदलाल नेहरू के बेटे थे ब्रजकुमार. नामी डिप्लोमैट ब्रजकुमार अमेरिका में राजदूत रहे. इसके साथ वो जम्मू-कश्मीर और गुजरात के राज्यपाल भी रहे. इन्हीं ब्रजकुमार की 1935 में शोभा नेहरू से शादी हुई थी. दोनों की मुलाकात ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई थी.

1908 में जन्मीं शोभा मूल रूप से हंगरी की रहने वाली थीं. उनका असली नाम मगडॉलना फ्रायडमैन था. उनके मां-बाप का नाम रेजिना और आरमिन फ्रायडमैन था. वो शोभा को प्यार से ‘डुंडी’ बुलाते थे. जिसका मतलब होता है गोलू-मोलू लड़की.

शोभा और ब्रजकुमार की शादी की फोटो
शोभा और ब्रजकुमार की शादी की फोटो

चर्चिल के बायोग्राफर का शोभा कनेक्शन

ब्रिटिश इतिहासकार मार्टिन गिल्बर्ट, जिन्होंने विंस्टन चर्चिल की जीवनी लिखी थी, खुद को शोभा नेहरू का ‘गोद लिया भतीजा’ मानते थे. गिल्बर्ट जब भारत पहुंचे तो बीमार पड़ गए थे. तब शोभा नेहरू ने ही उनका ख्याल रखा था. गिल्बर्ट ने बाद में एक किताब लिखी, ‘लेटर्स टू आंटी फोरी: यहूदी लोगों का 5000 साल का इतिहास’. इसमें गिल्बर्ट को शोभा को लिखे 141 लेटर्स का ब्यौरा है. फोरी शोभा का एक निकनेम था जो उन्हें उनके स्कूल में दिया गया था.

मार्टिन गिल्बर्ट के साथ शोभा
मार्टिन गिल्बर्ट के साथ शोभा

हैंडीक्राफ्ट व्यापार में शोभा का योगदान

शोभा भारतीय संस्कृति को चौंकाने वाला मानती थीं. वह महात्मा गांधी से हुई मुलाकात को काफी लकी मानती थीं. गांधी ने उन्हें भारत के खूबसूरत हैंडीक्राफ्ट के बारे में ढेरों बातें बताईं. विभाजन के बाद बहुत सारी औरतें पश्चिमी पंजाब से दिल्ली लाई गई थीं. उनमें से ज्यादातर को सिलाई-कढ़ाई करनी आती थी. जवाहर लाल नेहरू उनके हुनर के इस्तेमाल से रोजगार के अच्छे विकल्प शुरू करना चाहते थे. शोभा ने कमलादेवी चट्टोपाध्याय के साथ मिलकर इस पर काम किया और इन रिफ्यूजी महिलाओं के लिए एक वेलफेयर ऑर्गनाइजेशन बनाया. यहीं से ऑल इंडिया हैंडीक्राफ्ट्स बोर्ड की नींव पड़ी.

अपने 109वें जन्मदिन पर शोभा
अपने 109वें जन्मदिन पर शोभा

जर्मन लोगों से हाथ भी नहीं मिलाती थीं

शोभा की इंदिरा के साथ गहरी दोस्ती अक्सर अखबारों में जगह पाती थी. जब इंदिरा के बेटे संजय गांधी विमान हादसे में गुजर गए तो उन्हें सहारा देने के लिए शोभा उनके साथ खड़ी रहीं. इंटरनेशनल मीडिया ने भी शोभा के इस पक्ष को कवर किया.

शोभा  हिंदू परिवार में ब्याही हुई यहूदी थीं. वो बहुत ज्यादा धार्मिक तो नहीं थीं, लेकिन यहूदी होने के नाते जर्मन लोगों के प्रति उनका व्यवहार कभी सहज नहीं हो पाया. गिल्बर्ट को एक बार उन्होंने बताया था कि आज तक किसी भी जर्मन से उन्होंने हाथ नहीं मिलाया. उनके पति के साथ जब वो अमेरिका में जर्मनी के राजदूत से मिलीं तो उनसे भी हाथ नहीं मिला सकीं.


ये भी पढ़ें:

नेहरू अगर ये झूठ न बोलते तो भारत-चीन युद्ध रुक जाता

बिटिया को सदमे से बचाने के लिए नेहरू ने नहीं की दूसरी शादी

नेहरू की बहन ने किया था एक मुसलमान से इश्क, जो गांधी को गवारा न हुआ?

जब इंदिरा की जिद पर नेहरू ने गिराई दुनिया की पहली डेमोक्रेटिक कम्युनिस्ट सरकार

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल के IPS अधिकारी को चेतावनी देने के चक्कर में सुवेंदु अधिकारी बड़ी बात कह गए.

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

विक्रोली में भी 6 की मौत, पीएम ने दुख जताया, मुआवजे की घोषणा की.

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

मुंबई के डीएन थाने में तीस साल की महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराई.

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

दानिश सिद्दीकी अपनी तस्वीरों के लिए फेमस थे, 2018 में Pulitzer अवार्ड भी मिला था.

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

बच्चा कुएं में गिरा, तो बड़ी संख्या में ग्रामीण कुएं की छत पर चढ़ गए थे.

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा,

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा, "मेरा गला घोंट दो"

इलाज के लिए पैसे नहीं हैं.

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

योगी सरकार के लिए क्या बोले PM?

कांवड़ यात्रा पर सुप्रीम कोर्ट ने दिखाई सख्ती, लेकिन यूपी सरकार पीछे हटने को तैयार नहीं?

कांवड़ यात्रा पर सुप्रीम कोर्ट ने दिखाई सख्ती, लेकिन यूपी सरकार पीछे हटने को तैयार नहीं?

योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री के बयान से तो कुछ ऐसा ही लग रहा.

पीएम मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में ऐसा क्या हुआ कि महाराष्ट्र बीजेपी में उथल-पुथल मच गई?

पीएम मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में ऐसा क्या हुआ कि महाराष्ट्र बीजेपी में उथल-पुथल मच गई?

क्या पंकजा मुंडे की नाराजगी महाराष्ट्र बीजेपी को भारी पड़ेगी?

पंजाबी सिंगर मनमीत सिंह का शव बरामद हुआ, भारी बारिश के बाद बह गए थे

पंजाबी सिंगर मनमीत सिंह का शव बरामद हुआ, भारी बारिश के बाद बह गए थे

एक नाला पार करते वक्त गिर गए थे मनमीत सिंह.