Submit your post

Follow Us

शरद पवार ने गौमांस को लेकर सावरकर को एक विवेकवान व्यक्ति क्यों कहा?

हिंदू महासभा के नेता रहे विनायक दामोदर सावरकर (VD Savarkar) पर चल रही बहस के बीच NCP के अध्यक्ष शरद पवार का एक बयान सामने आया है. शरद पवार ने कहा है कि सावरकर वैज्ञानिक चेतना से लैस व्यक्ति थे और उन्होंने हिंदू धर्म को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा. पवार ने ये दावा भी किया कि सावरकर उन पहली हस्तियों में शामिल थे, जिन्होंने दलितों के संबंध में मंदिरों में सुधार की वकालत की. रविवार 05 दिसंबर को नासिक में अखिल भारतीय मराठी साहित्य सम्मेलन को संबोधित करते हुए NCP सुप्रीमो ने ये बातें कही हैं. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक शरद पवार ने कहा,

“सावरकर ने गाय के मांस और दूध की उपयोगिता का समर्थन किया था. वो विवेकवान व्यक्ति थे. इस विषय पर वो साइंटिफिक तरीके से जो बात किया करते थे, उसे खारिज नहीं किया जा सकता.”

‘सावरकर का सम्मान हर कोई करता है’

इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए शरद पवार ने सावरकर को लेकर बीजेपी के ऊपर गैरजरूरी विवाद खड़ा करने का आरोप भी लगाया. उन्होंने कहा कि सावरकर ने रत्नागिरी में एक छोटा सा मंदिर बनाया था और पूजा पाठ के लिए दलित समुदाय से आने वाले एक पुजारी को नियुक्त किया था. पवार का कहना था,

“सावरकर ने ऐसा इसलिए किया ताकि सामाजिक समरसता का संदेश दिया जा सके. उन दिनों दलितों को ये तक मंजूरी नहीं थी कि वे मंदिरों में प्रवेश कर सकें. किसी मंदिर में उन्हें पुजारी बनाने की बात तो कोई सोच भी नहीं सकता था.”

इस दौरान एनसीपी के मुखिया ने यह भी कहा कि वीर सावरकर का आज़ादी की लड़ाई में जो योगदान था, उस पर कोई बहस हो ही नहीं सकती. उनके त्याग पर कोई डिबेट है ही नहीं. पवार के मुताबिक

“सावरकर ने आजादी की चेतना देश के आखिरी आदमी तक पहुंचाने के लिए जो लेखन किया, वो अमर है. मराठी भाषा इसे कभी नहीं भूल पाएगी. महाराष्ट्र और मराठी मानुष में हर कोई उनका सम्मान करता है.”

BJP सम्मेलन में शामिल नहीं हुई

शरद पवार का यह बयान महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के उस बयान के एक दिन बाद आया है जिसमें फडणवीस ने कहा था कि बीजेपी का अखिल भारतीय मराठी साहित्य सम्मेलन से कोई लेना देना नहीं है, क्योंकि इस प्रोग्राम में कहीं भी दामोदर सावरकर का जिक्र नहीं है. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, फडणवीस ने कहा था,

“साहित्य सम्मेलन के आयोजनकर्ताओं ने जानबूझकर सावरकर का जिक्र नहीं किया है. जहां सावरकर का अपमान हो रहा है, वहां हम क्यों जाएं?”

फडणवीस के इस बयान के बाद इस सम्मेलन में बीजेपी की तरफ से कोई भी नेता शामिल नहीं हुआ. हालांकि, इसके आयोजनकर्ताओं ने देवेंद्र फडणवीस को न्योता भी नहीं दिया था. साल 1938 में विनायक दामोदर सावरकर ने अखिल भारतीय मराठी साहित्य सम्मेलन की अध्यक्षता की थी.


वीडियो- सावरकर के पोते ने महात्मा गांधी को लेकर ये क्या कह दिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

गोरखपुर कचहरी में युवक की हत्या करने वाले के बारे में पुलिस ने क्या बताया?

मृतक व्यक्ति पर नाबालिग से बलात्कार का आरोप था.

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5जी नेटवर्क कैसे बन गया हवाई जहाज़ के लिए खतरा?

5G के रोल आउट को लेकर दिक्कतें चालू.

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

गाड़ी का इंश्योरेंस कराने वालों को दिल्ली हाई कोर्ट का ये आदेश जान लेना चाहिए

बीमा कंपनी गाड़ी चोरी या दुर्घटनाग्रस्त होने का बहाना बनाए तो ये आदेश दिखा देना.

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

राजस्थान पुलिस अलवर गैंगरेप की जांच सड़क हादसे के ऐंगल से क्यों कर रही है?

दबी जुबान में क्या कह रही है पुलिस?

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

बजट में FD को लेकर बैंकों की ये बात मानी गई तो आप और सरकार दोनों की मौज आ जाएगी!

जानेंगे बैंक FD में क्यों घट रही है लोगों की दिलचस्पी.

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

कांग्रेस को मौलाना तौकीर रजा का समर्थन, BJP ने हिंदुओं को धमकाने वाला वीडियो शेयर कर दिया

तौकीर रजा कांग्रेस पर आरोप लगा चुके हैं कि उसने मुसलमानों पर आतंकी का टैग लगाया.

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

देवास-एंट्रिक्स डील क्या थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने 'जहरीला फ्रॉड' कहा और मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़?

जानिए UPA के समय हुई इस डील ने कैसे देश को शर्मसार किया.

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

'तुझे यहीं पिटना है क्या', हेट स्पीच पर सवाल से पत्रकार पर बुरी तरह भड़के यति नरसिंहानंद

बीबीसी का आरोप, टीम के साथ नरसिंहानंद के समर्थकों ने गाली-गलौज और धक्का-मुक्की की.

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

इंदौर: महिला का दावा, पति ने दोस्तों के साथ मिल गैंगरेप किया, प्राइवेट पार्ट को सिगरेट से दागा

मुख्य आरोपी के साथ उसके दोस्तों को पुलिस ने पकड़ लिया है.

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

BJP और उत्तराखंड सरकार ने हरक सिंह रावत को अचानक क्यों निकाल दिया?

पार्टी के इस कदम से आहत हरक सिंह रावत मीडिया के सामने भावुक हो गए.