Submit your post

Follow Us

क्या वाकई अब एक रुपए में मिलेंगे सैनिटरी पैड्स?

5
शेयर्स

सैनिटरी नैपकिन, यानी पैड्स अब एक रुपए में मिलेंगे. ये पैड्स आपको जन औषधि स्टोर्स में मिलेंगे. इन पैड्स की कीमत पहले ढाई रुपए थी, लेकिन अब एक रुपया हो गई है. 27 अगस्त के दिन से नई कीमतें लागू हो जाएंगी.

इन बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन्स का नाम ‘सुविधा’ है. रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने पीटीआई को एक इंटरव्यू दिया. कहा कि ‘सुविधा’ सैनिटरी पैड्स जन औषधि स्टोर्स में 27 अगस्त से एक रुपए में मिलेंगे.

अब तक चार पैड्स का एक पैकेट दस रुपए में आता था, अब चार रुपए में आएगा. मंडाविया ने 26 अगस्त के दिन एक इंटरव्यू दिया था, जिसमें कहा था-

‘हम ऑक्सो-बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन, जो 1 रुपए में मिलेंगे, उन्हें 27 अगस्त से लॉन्च कर रहे हैं. ये नैपकिन्स ‘सुविधा’ नाम के ब्रांड के तहत बिकेंगे. देश के 5500 जन औषधि केंद्रों में उपलब्ध रहेंगे. अभी सप्लायर्स प्रॉडक्शन कॉस्ट के आधार पर सैनिटरी नैपकिन्स सप्लाई कर रहे हैं. इसलिए हम नैपकिन्स की कीमत कम करने के लिए सब्सिडी देंगे.’

'पैडमैन' फिल्म का सीन.
‘पैडमैन’ फिल्म का सीन.

राज्य मंत्री ने कहा कि 2019 चुनाव के वक्त बीजेपी ने घोषणापत्र में वादा किया था, कि सैनिटरी पैड्स की कीमत कम कर दी जाएंगी. इनकी कीमत 60 फीसदी तक कम कर दी गई है. सरकार ने अपना वादा पूरा किया. सरकार ने सैनिटरी नैपकिन्स स्कीम का ऐलान मार्च 2018 में किया था. मई 2018 तक जन औषधि केंद्रों में ये नैपकिन्स उपलब्ध करवा दी गई थीं.

मंडाविया ने आगे कहा,

‘पिछले साल इन स्टोर्स से 2.2 करोड़ सैनिटरी नैपकिन्स बिके थे. अब इनके दाम कम होने के बाद हमें उम्मीद है कि पैड्स की बिक्री दोगुनी हो जाएगी. हम दाम कम करने के साथ ही क्वालिटी पर भी फोकस कर रहे हैं.’

रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया. फोटो- ट्विटर
रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया. फोटो- ट्विटर

क्या कहते हैं जन औषधि स्टोर्स वाले?

अब ऐलान हुआ है कि 27 अगस्त से 1 रुपए वाले सैनिटरी नैपकिन्स उपलब्ध होंगे, तो हमने सच्चाई जानने के लिए कुछ जन औषधि केंद्र में कॉल किया. एक स्टोर के मालिक ने बताया कि उन्हें इस तरह की योजना या ऐलान के बारे में कोई जानकारी नहीं है. उनके पास तो इस वक्त ढाई रुपए वाले नैपकिन्स भी नहीं है. उन्होंने बताया कि इन नैपकिन्स की सप्लाई ही बहुत कम होती है. ये जल्दी खत्म हो जाते हैं.

दूसरे स्टोर वाले ने बताया कि उन्हें एक कस्टमर का कॉल आया था. तभी उन्हें पता चला कि एक रुपए वाले सैनिटरी नैपकिन वाली स्कीम का ऐलान हुआ है. इसके पहले उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी.

जन औषधि परियोजना की वेबसाइट.
जन औषधि परियोजना की वेबसाइट.

तीसरे स्टोर वाले ने भी हमें यही जवाब दिया, कि उन्हें इस तरह की स्कीम की जानकारी नहीं मिली है. हमारे फोन कॉल के जरिए ही पता चला है कि ‘सुविधा’ सैनिटरी नैपकिन एक रुपए का हो गया है. उन्होंने बताया कि अभी स्टॉक में ढाई रुपए वाले नैपकिन ही हैं, लेकिन वो कोशिश करेंगे कि जल्द से जल्द एक रुपए वाले नैपकिन लाए जा सके.

खैर, ऐलान तो हो गया है. अब इन केंद्रों तक ये पैड्स कब पहुचेंगे, ये पता नहीं.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?