Submit your post

Follow Us

'चीन और इस्लामिक देश करीब आ रहे हैं', बिपिन रावत के बयान को विदेश मंत्रालय ने नकारा!

भारतीय विदेश मंत्रालय ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) के उस बयान से किनारा कर लिया है, जिसमें उन्होंने चीन और इस्लामिक देशों के बीच कथित तौर पर बढ़ती नजदीकियों का जिक्र किया था. जनरलत बिपिन रावत ने कहा था कि चीन और इस्लामिक देशों की बढ़ती नजदीकी पश्चिमी देशों के साथ ‘सभ्यताओं के टकराव’ (Clash of Civilizations) को जन्म देती हुई नजर आ रही है. विदेश मंत्रालय के बयान के मुताबिक, ताजिकिस्तान में शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की मीटिंग के दौरान भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी (Wang Yi) को बताया कि भारत ने कभी भी किसी भी तरह के ‘सभ्यताओं के टकराव’ सिद्धांत में विश्वास नहीं किया.

‘चीन और भारत पर बहुत कुछ निर्भर’

एस जयशंकर और वांग यी के मुलाकात के संबंध में जारी किए गए अपने बयान में विदेश मंत्रालय ने यह भी कहा कि दोनों मंत्रियों ने हाल की वैश्विक परिघटनाओं पर अपने विचार साझा किए. यही नहीं, एस जयशंकर ने वांग यी से कहा कि एशिया के देशों की एकता भारत और चीन द्वारा पेश किए उदाहरण पर निर्भर करेगी. एस जयशंकर ने आगे कहा कि भारत और चीन को एक दूसरे के साथ योग्यता के आधार पर व्यवहार करना होगा और ऐसे रिश्ते कायम करने होंगे, जिनमें एक दूसरे के सम्मान की भावना हो.

इससे पहले 15 सितंबर को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने नई दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान बदलती हुई जियोपॉलिटिकल परिस्थितियों पर अपने विचार रखे थे. इसी दौरान उन्होंने चीन पर टिप्पणी की थी. कहा था,

“चीनी और इस्लामिक सभ्यता के बीच एक तरह की करीबी बढ़ती जा रही है. चीन अब ईरान से दोस्ती बढ़ा रहा है. वो तुर्की की तरफ रुख कर रहा है. आने वाले समय में चीन अफगानिस्तान में अपने पैर जमाएगा. क्या यह पश्चिमी सभ्यता के साथ टकराव को जन्म देगा? दुनिया में इस समय उथल-पुथल मची हुई है.”

जनरल बिपिन रावत ने यह भी कहा था कि चीन लगातार आक्रामक होता जा रहा है और भारत उसके साथ सीमा साझा करता है. उन्होंने कहा कि चीन जितनी तेजी से उभरा है, उसकी कल्पना नहीं की गई थी. जनरल बिपिन रावत ने यह भी कहा कि भारत को अब यह सोचने की जरूरत है कि वो चीन और पाकिस्तान जैसे आक्रामक पड़ोसियों से कैसे निपटेगा. एक पश्चिम की तरफ है और दूसरा उत्तर की तरफ.

एस जयशंकर और वांग यी की मुलाकात के दौरान LAC और पूर्वी लद्दाख के मुद्दे पर भी बात हुई. विदेश मंत्रालय के बयान के मुताबिक, एस जयशंकर ने कहा कि 14 जुलाई को हुई अंतिम मुलाकात के बाद दोनों पक्ष LAC और पूर्वी लद्दाख के बचे हुए मुद्दों को सुलझाने की दिशा में आगे बढ़े हैं और गोगरा इलाके में तो दोनों पक्षों के सैनिकों की वापसी पूरी भी हो गई है. हालांकि, विदेश मंत्री जयशंकर ने यह भी कहा कि अभी भी कुछ मुद्दों का हल निकाला जाना बाकी है. एस जयशंकर ने एक बार फिर से दोहराया कि बचे हुए मुद्दों का हल द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल्स के आधार पर ही निकाला जाएगा.

क्या है ‘सभ्यताओं का टकराव’?

साल 1993 में अमेरिका के पॉलिटिकल साइंटिस्ट सैमुअल पी हंटिंगटन ने एक निबंध लिखा. शीत युद्ध के खत्म होने के तुरंत बाद लिखे गए इस निबंध का शीर्षक था- ‘सभ्यताओं का टकराव’. इस निबंध में हंटिंगटन ने बताया कि शीत युद्ध के बाद लोगों की सांस्कृतिक और धार्मिक पहचान दुनियाभर में नए संघर्षों का कारण बनेगी. उन्होंने ईसाई और इस्लाम धर्म पर खास ध्यान दिया. इस निबंध में कहा गया कि कई कारणों की वजह से इस्लामिक और ईसाई सभ्यता में संघर्ष होना अवश्यंभावी है. इसी निबंध में हंटिंगटन ने चीनी सभ्यता के इस्लामिक सभ्यता के साथ मिलने और फिर अपने साझा दुश्मन यानी ईसाई सभ्यता के साथ संघर्ष की बात कही.

साल 1996 में हंटिंगटन ने अपने निबंध को किताब की शक्ल दे दी. उनके इस सभ्यताओं के संघर्ष के सिद्धांत की आलोचना भी हुई. विश्व के महान बुद्धिजीवियों में से एक नॉम चॉम्स्की ने इस सिद्धांत को अमेरिकी आक्रामकता को जायज ठहराने का एक बहाना बताया.


 

वीडियो-  तालिबान से लेकर चीन तक भारत की विदेश नीति उलझ गई है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मनोज पाटिल सुसाइड अटेम्प्ट केस: साहिल खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, कहा नकली स्टेरॉयड्स का रैकेट

कहानी में एक और किरदार सामने आया है, राज फौजदार.

राजस्थान में अब सब-इंस्पेक्टर परीक्षा का पेपर लीक, वॉट्सऐप बना जरिया

पुलिस ने बीकानेर, जयपुर, पाली और उदयपुर से 17 लोगों को गिरफ्तार किया है.

क्या पाकिस्तान यूपी चुनाव में आतंकी हमले कराने की तैयारी में है?

दिल्ली पुलिस ने 6 संदिग्धों को गिरफ्तार कर कई दावे किए हैं.

नसीरुद्दीन शाह ने योगी आदित्यनाथ के 'अब्बा जान' वाले बयान पर बड़ी बात कह दी है!

नसीर ने ये भी कहा कि कई मुस्लिम अपने पिता को बाबा भी कहते हैं.

AIMIM के पूर्व नेता पर FIR, दोस्त के साथ हलाला कराने की कोशिश का आरोप

पूर्व पत्नी ने लगाया रेप के प्रयास का आरोप, AIMIM नेता ने कहा- बेबुनियाद.

75 साल बाद नर्सिंग के पाठ्यक्रम में किए गए बड़े बदलाव हैं क्या?

ये बदलाव जनवरी 2022 से लागू होंगे.

पश्चिम बंगाल के पूर्व CM बुद्धदेव भट्टाचार्य की साली बेघर हैं, फुटपाथ पर सोती हैं

इरा बसु वायरोलॉजी में PhD हैं और 30 साल से भी ज्यादा समय तक पढ़ाया है.

'माओवादी' बताकर CRPF ने 8 आदिवासियों का एनकाउंटर किया था, 8 साल बाद ये 'एक भूल' साबित हुई है

यहां तक कि CRPF कान्स्टेबल की मौत भी फ्रेंडली फायर में हुई थी!

अक्षय कुमार की मां का निधन

अपने जन्मदिन से सिर्फ एक दिन पहले अक्षय को मिला गहरा सदमा.

अफगानिस्तान: तालिबान ने नई सरकार की घोषणा की, किसे बनाया मुखिया?

नई अफगानिस्तान सरकार का लीडर यूएन की आतंकियों की लिस्ट में शामिल है.