Submit your post

Follow Us

मिया माल्कोवा की 'God, Sex and Truth' थिएटर में नहीं, यहां रिलीज़ होगी

मिया माल्कोवा. इंट्रो में बताना पड़े कि कौन हैं, तो यही बात हो जाएगी कि या तो लिखने वाला गलत या पढ़ने वाला. मुझे मालूम है कि आप इनसे परिचित हैं. फिर भी रवायत के चलते इंट्रो में हम ये लिखने को मजबूर हैं कि मिया माल्कोवा एक पॉर्नस्टार हैं और इनका रामगोपाल वर्मा द्वारा निर्देशित एक वीडियो (रामू इसे फिल्म नहीं कह रहे) आने को है. 11 तारीख को पोस्टर आया था, तब इंटरनेट पर एक बम फटा था. आज ट्रेलर आ गया है तो दूसरा फटा है. तीसरे (माने पूरे वीडियो) के फटने का तारीख और समय भी मुकर्रर है – 26 जनवरी, 2018 माने गणतंत्र दिवस. सुबह नौ बजे टू बी प्रिसाइस.

ये हम इसलिए जानते हैं कि हमने ट्रेलर देखा है. पूरा. रिव्यू भी किया है, जो आप यहां क्लिक कर के पढ़ सकते हैं. हां तो हम पूरे वीडियो के रिलीज़ की बात कर रहे थे. इसमें बस एक पेंच है. वो ये कि वीडियो का थिएट्रिकल रिलीज़ नहीं होने वाला. माने ये फिल्म की तरह सिनेमा में नहीं लगेगा. तो आप बड़े पर्दे पर ”A Philosophical Treatise of Mia Malkova” नहीं देख पाएंगे. तो कहां देख पाएंगे?

वीमियो पर.

अब ये वीमियो क्या बला है?

वीमियो एक वीडियो शेयररिंग साइट है (ऐप भी है इसका). इसपर आप वीडियो अपलोड, डाउनलोड और शेयर कर सकते हैं. कमेंट भी कर सकते हैं. अब आप कहेंगे कि यही सब करने के लिए तो यूट्यूब भी है, तो लिंक्डइन काहे के लिए है? तो ये समझिए कि वीमियो थोड़ा सीरियस टाइप का यूट्यूब है.

वीमियो वीडियो की दुनिया का लिंक्डइन है.

फेसबुक पर एंजेल प्रिया वाली प्रोफाइल की भरमार होती है, इफरात में कचरा होता है, लेकिन लिंक्डइन में कामकाजी प्रोफेशनल्स की करीने से मेंटेन की हुई प्रोफाइल होती हैं जिन्हें देखकर लोगों को नौकरी तक मिल जाती है. यही फर्क यूट्यूब और वीमियो में भी है. यूट्यूब पर ज़्यादातर एमेच्योर चैनल होते हैं, जिनपर किसी भी तरह के वीडियो अपलोड होते रहते हैं. लेकिन वीमियो पर ज़्यादातर चैनल प्रोफेशनल्स (कैमरापर्सन, ग्राफिक डिज़ाइनर, एडिटर वगैरह) के होते हैं. वो अपना काम वहां अपलोड करते हैं. उसपर गंभीर चर्चा वगैरह होती है कमेंट्स में. तो अगर आप एक बढ़िया ग्राफिक डिज़ाइनर ढूंढने जा रहे हैं, तो यूट्यूब की बनिस्बत वीमियो पर जाना बेहतर रहेगा.

वीमियो का इंटरफेस
वीमियो का इंटरफेस

जिसके हाथों बिका, उससे किस्मत तय हुई

वीमियो को 2004 में जेक लोडविक और ज़ैक क्लीन ने शुरू किया था. इसी के अगले साल यूट्यूब भी शुरू हुआ. दोनों में काफी समानताएं थीं. लेकिन इन दोनों की किस्मत ने अलग-अलग राह पकड़ी 2006 में. इस साल के अगस्त में वीमियो को आईएसी ने खरीद और नवंबर में यूट्यूब को गूगल ने खरीद लिया. आईएसी बड़ी कंपनी थी (और है भी), लेकिन गूगल ने बहुत रफ्तार से प्रगति की. इसका फायदा यूट्यूब को मिला और वो लोकप्रिय होता गया.

लेकिन वीमियो समय के साथ अपना काम करता रहा. 2007 में वीमियो ने हाई डेफिनेशन वीडियो सपोर्ट करना शुरू किया, यूट्यूब से पहले. वीमियो आज भी इंडी फिल्ममेकर्स और वीडियो प्रोफेशनल्स के बीच खासा चर्चित है. वो अपनी फिल्में और शो-रील वीमियो पर ही डालते हैं. यही प्रोफेशनल लोग वीमियो की पेड सर्विस भी सब्सक्राइब करते हैं. वीमियो प्लस, वीमियो प्रो और वीमियो बिज़नेस अकाउंट के लिए अलग-अलग एन्युअल फीस है. बढ़ती फीस के साथ ज़्यादा सुविधाएं मिलती हैं.

अब आप पूछेंगे कि ‘God, Sex and Truth’ मुफ्त में देखने का जुगाड़ है कि नहीं तो जवाब है – हां. वीमियो पर वीडियो देखने के लिए अकाउंट होना ज़रूरी नहीं है. और बनाना भी पड़े तो फ्री वाला भी बन जाता है.


 ट्रेलर रिव्यूः मिया माल्कोवा की ‘God, Sex and Truth’ का ट्रेलर चोरी से क्यों देखना पड़ता है?


ये भी पढ़ेंः

सनी लियोनी के बाद ये विदेशी पॉर्न स्टार आ रही हैं बॉलीवुड फिल्म में

बॉलीवुड में डेब्यू करने जा रहीं पॉर्न स्टार मिया माल्कोवा के बारे में 5 बातें

इस पॉर्न स्टार ने इंडियन के लिए निकाली है जॉब

वो पॉर्न स्टार जिसके वीडियो खूब वायरल हो रहे हैं, मगर पॉर्न वाले नहीं

पॉर्न देखने वाले सावधान, आपका दुश्मन मार्केट में आ चुका है

जिसे हमने पॉर्न कचरा समझा वो फिल्म कल्ट क्लासिक थी

Video:क्या पूर्व चुनाव आयुक्त ने कहा कि भाजपा EVM हैक कर के गुजरात चुनाव जीती?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना: सुपर स्प्रेडर क्या होते हैं और ये इतने खतरनाक क्यों हैं कि अहमदाबाद में सब कुछ बंद करना पड़ा

अहमदाबाद में 14 हजार सुपर स्प्रेडर होने की आशंका जताई जा रही है.

प्रवासी मजदूरों को लेकर यूपी और राजस्थान की पुलिस में पटका-पटकी हो गई है!

डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे तब मामला शांत हुआ.

मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी बोले-तबलीगी जमात की वजह से लॉकडाउन बढ़ाना पड़ा

ये भी कहा-तबलीग़ियों का गुनाह हिंदुस्तान के मुसलमानों का का गुनाह नहीं है.

कोरोना का नियम बदला, अब बिना टेस्ट ही घर भेजे जाएंगे कम बीमार मरीज

जानिए क्या है सरकार की नई गाइडलाइंस.

दवा बेची, समाजसेवा की, फिर पता चला ख़ुद ही कोरोना पॉज़िटिव हैं, अब जेल हो गई

बनारस के दवा व्यापारी ने कई लोगों को बांटा कोरोना.

क्या सोशल डिस्टेंसिंग से चूकने की इतनी बुरी सज़ा देगी पुलिस?

किसी एक पुलिसवाले का ऐसा करना बाकियों की मेहनत पर पानी फेर देता है.

उदयपुर में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 58 केस सामने आए

राजस्थान में मरीज़ों की संख्या तीन हज़ार से ऊपर पहुंच चुकी है.

सूरत: BJP कार्यकर्ता पर आरोप, घर पहुंचाने के नाम पर मजदूरों से पैसे लिए, टिकट मांगने पर पीटा!

एक अन्य वीडियो में BJP पार्षद के भाई टिकट के ज्यादा पैसे लेते दिखे.

जिस फ़ैक्टरी से निकली गैस ने तबाही मचाई, उसे क्लीयरेंस ही नहीं मिला था!

आबादी के बीच बना रहे थे स्टायरीन प्रोडक्ट.

रेड जोन में भी जल्द से जल्द लॉकडाउन खत्म करने के पक्ष में क्यों हैं मोंटेक सिंह अहलूवालिया?

बोले- लॉकडाउन की वजह से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीबों के लिए सरकार योजना लाए.