Submit your post

Follow Us

पैदल घर जा रहे मज़दूरों से राहुल गांधी की क्या बात हुई थी? अब राहुल ने खुद बताया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी. पिछले दिनों 16 मई को दिल्ली के सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास कुछ मज़दूरों से मिले थे. उनसे बातचीत की थी. तस्वीरें घूमीं. राजनीति हुई. 23 मई की सुबह उन्होंने एक वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर शेयर किया्. इसे मज़दूरों के पलायन पर डॉक्यूमेंट्री बताया गया है. करीब 16 मिनट के इस वीडियो के ज्यादातर हिस्से में मज़दूरों से उनकी उस बातचीत को दिखाया गया है. अंत में गाड़ियों से मज़दूरों को घर पहुंचाने के फुटेज भी हैं और ये मज़दूर घर पहुंचकर राहुल गांधी को धन्यवाद दे रहे हैं.

वीडियो मज़दूरों के पलायन के दर्द को दिखाता हुआ शुरू होता है. इसके बाद राहुल गांधी का वॉइसओवर आता है. फिर वो बातचीत आती है.

क्या बातचीत हुई?

राहुल गांधी इस वीडियो में पूछते हैं कि कितना चले हैं? एक शख्स जवाब देता है 100 किलोमीटर. एक महिला कहती है कि अमीर आदमी को दिक्कत नहीं है. तीन दिन से हम भूखे हैं. बच्चा साथ में है. एक और महिला कहती है कि जितना कमाया था, सब खत्म हो गया है, इसलिए अब पैदल ही निकल पड़े. एक महिला कहती है कि अब लौटकर वापस नहीं आएंगे.

वीडियो शेयर करते हुए राहुल ने लिखा,

अब मेरे यूट्यूब चैनल पर, उन अनसंग हीरोज और हमारे प्रवासी भाइयों और बहनों से बातचीत जिन्होंने पिछले कुछ हफ्तों में बहुत सख्ती, हिंसा और अन्याय सहा है.

मेरा लेटेस्ट वीडियोज देखने के लिए मेरा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें.

‘घर जाने का समय नहीं दिया गया’

बातचीत के दौरान एक शख्स बताता है कि वो हरियाणा से आ रहा है. कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करता था. जहां रहते थे वहां 2500 रुपए किराया देना होता था. हरियाणा से ट्रेन चलने के सवाल पर एक महिला कहती है कि तीन-तीन हजार रुपए रिजर्वेशन के मांग रहे हैं, हमारे पास इतने रुपए नहीं हैं. मज़दूरों का ये समूह उत्तर प्रदेश जा रहा था. राहुल गांधी कहते हैं कि क्या लॉकडाउन के लिए समय देना चाहिए था? इस पर मज़दूर कहते हैं कि हां अगर समय मिलता तो हम घर निकल जाते. पहले लगा एक दिन का है, फिर 21 दिन का. फिर बढ़ता ही चला गया.

राहुल ने मज़दूरों के खाते में पैसे देने की मांग की 

वीडियो शेयर करने से पहले राहुल गांधी ने इसकी जानकारी अपने ट्विटर अकाउंट पर दी थी. जिस दिन वो मज़दूरों से मिले थे, उस दिन मीडिया से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्होंने कहा था कि मज़दूरों को अभी कैश की ज़रूरत है. उन्होंने सरकार से ‘न्याय’ योजना को कुछ समय तक लागू करने की मांग की थी.

निर्मला सीतारमण ने घेरा था

राहुल गांधी के मज़दूरों से मिलने को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि उन्होंने मज़दूरों का समय खराब किया. उन्हें मज़दूरों का सामान उठाकर उनके साथ चलना चाहिए था. राज्यों को जहां कांग्रेस की सरकार है, उनसे क्यों नहीं कहते कि और ट्रेनें मंगाए और मज़दूरों को घर लेकर आएं. उन्होंने कहा कि मैं सोनिया गांधी जी से हाथ जोड़कर मांग करती हूं कि हमसे बात करें और प्रवासी मज़दूरों को लेकर ज़िम्मेदारी समझें.


राहुल गांधी मज़दूरों से मिलने गए, तो लोगों ने उन्हें उनके जूते के दाम बता दिए!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दुनिया का सबसे तेज़ इंटरनेट, एक सेकेंड में 1000 एचडी मूवी डाउनलोड का दावा

ऑस्ट्रेलिया की तीन यूनिवर्सिटी के टेक रिसर्चर्स ने मिलकर ये कनेक्शन तैयार किया है.

केंद्र से अक्सर लड़ने वाली ममता बनर्जी की पीएम मोदी ने किस बात पर तारीफ की?

पश्चिम बंगाल दौरे पर पीएम मोदी ने 'अमपन' को लेकर एक हज़ार करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया.

रिज़र्व बैंक ने एक बार फिर रेपो रेट घटाया, EMI से तीन महीने और छुटकारा

मार्च और अप्रैल महीने में रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट घटाया था.

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.