Submit your post

Follow Us

पंजाब में कांग्रेस के मंत्री-विधायक चीफ सेक्रेटरी को हटाने की मांग क्यों कर रहे हैं?

पंजाब में राजनीति और ब्यूरोक्रेसी आपस में भिड़े हुए हैं. पंजाब सरकार के चीफ सेक्रेटरी करन अवतार सिंह से फाइनेंशियल कमिश्नर, टैक्सेशन का अतिरिक्त चार्ज छीन लिया गया, लेकिन अभी भी उनके सामने मुश्किल है. पंजाब के तमाम मंत्री, सांसद और विधायक लगातार ट्वीट कर उन्हें घेर रहे हैं. नेताओं की मांग है कि करन अवतार सिंह को चीफ सेक्रेटरी पद से हटाया जाए.

पंजाब के गिद्दड़बाहा से कांग्रेस विधायक अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने 13 मई को ट्वीट कर आरोप लगाया कि चीफ सेक्रेटरी ने 600 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान किया है. इसके लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को जांच बिठानी चाहिए.

सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने भी कहा कि पारदर्शिता के लिए सीएम को राजस्व नुकसान पर जांच करवानी चाहिए. इसके अलावा मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा, विधायक संगत सिंह गिलजियां, जोगिंदर पाल और यूथ कांग्रेस के महासचिव अमरप्रीत लाली ने भी चीफ सेक्रेटरी के ख़िलाफ़ जांच की मांग की. राजा सिंह वड़िंग के समर्थन में ये लोग उनका ट्वीट खूब रीट्वीट कर रहे हैं.

लेकिन ये विवाद शुरू क्यों हुआ?

एक्साइज पॉलिसी पर शनिवार, 9 मई को प्री-कैबिनेट मीटिंग हुई. इस मीटिंग में शराब बिक्री की नीतियों में बदलाव को लेकर चर्चा होनी थी. प्री-कैबिनेट मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैबिनेट मीटिंग भी तय थी. एनडीटीवी  के मुताबिक, प्री-कैबिनेट मीटिंग में चीफ सेक्रेटरी करन अवतार सिंह की मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और कई मंत्रियों से तनातनी हो गई. बहस हुई. माहौल गड़बड़ा गया. वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल मीटिंग से वॉकआउट कर गए, जिसके बाद सभी मंत्री मीटिंग छोड़कर बाहर आ गए.

झगड़े की वजह?

ट्रिब्यून की ख़बर के मुताबिक, राज्य में तीन साल के कांग्रेस शासन में करीब 1800 करोड़ रुपए का राजस्व घाटा हुआ है. रिपोर्ट में कहा गया कि मीटिंग में झगड़े की शुरुआत तब हुई, जब मंत्रियों ने चीफ सेक्रेटरी पर आरोप लगाए कि वो नुकसान का हिसाब-किताब नहीं रख रहे हैं. इस पर चीफ सेक्रेटरी ने आरोप लगाया कि राजस्व का नुकसान शराब कारोबार की वजह से हो रहा है और कांग्रेस के कई नेता अवैध शराब के कारोबार में शामिल हैं.

मीटिंग का कोई नतीजा नहीं निकला और इसे सोमवार, 11 मई तक के लिए टाल दिया गया. मंत्रियों ने चीफ सेक्रेटरी के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की. बादल और चन्नी ने कहा कि वो ऐसी किसी भी मीटिंग में शामिल नहीं होंगे, जिसमें चीफ सेक्रेटरी होंगे. एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, सोमवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में मनप्रीत बादल ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से कहा कि चीफ सेक्रेटरी का व्यवहार बर्दाश्त से बाहर है. मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मंत्री अपनी बात ऑन रिकॉर्ड लेकर आएं, ताकि कार्रवाई हो सके.

विधायक ने सेक्रेटरी पर गंभीर आरोप लगाए

इस बीच विधायक अमरिंदर राजा सिंह वड़िंग चीफ सेक्रेटरी पर काफी हमलावर रहे. उन्होंने आरोप जड़ दिया कि चीफ सेक्रेटरी की शराब कारोबारियों से साठ-गांठ है. उन्होंने 11 मई को लगातार कई ट्वीट किए, जिनमें चीफ सेक्रेटरी पर ‘कन्फ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट’ समेत कई आरोप लगाए. कहा कि उनके व्यापारिक हित हैं. आरोप लगाया कि चीफ सेक्रेटरी के बेटे हरमन सिंह का कपूरथला हमीरा डिस्टिलरी में बिजनेस इंटरेस्ट है. इसके बाद उन्होंने धड़ाधड़ ट्वीट किए. पंजाब कांग्रेस प्रमुख सुनील जाखड़ भी मंत्रियों के समर्थन में उतर आए. उन्होंने चीफ सेक्रेटरी से पद छोड़ने की मांग की.

12 मई को वापस लिया गया अतिरिक्त चार्ज

दबाव बनता देख 12 मई को करन अवतार सिंह से फाइनेंशियल टैक्सेशन का अतिरिक्त चार्ज वापस ले लिया गया. हालांकि वो अभी चीफ सेक्रेटरी पद पर हैं. उनकी जगह वेणु प्रसाद को फाइनेंशियल टैक्सेशन का अतिरिक्त चार्ज दिया गया. वेणु प्रसाद के पास प्रिंसिपल सेक्रेटरी (वॉटर रिसोर्स) के अलावा प्रिंसिपल सेक्रेटरी (माइन्स एंड ज्योलॉजी पावर) का अतिरिक्त कार्यभार भी है. हालांकि वो 20 मई तक कैजुअल लीव पर हैं, तो उनकी जगह आईएएस अधिकारी अनिरुद्ध तिवारी फाइनेंशियल कमिश्नर का काम देख रहे हैं. वहीं, पंजाब के आईएएस अफसरों के एसोसिएशन ने अभी तक मामले पर कुछ नहीं कहा है.

कांग्रेस सरकार में दो धड़े

माना जा रहा है कि इस मुद्दे पर सरकार में दो धड़े हो गए हैं. स्थानीय रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि कुछ विधायक चीफ सेक्रेटरी के समर्थन में भी हैं. उनका कहना है कि चीफ सेक्रेटरी का विरोध इसलिए हुआ, क्योंकि उन्होंने शराब के अवैध कारोबार पर सवाल उठाए. हालांकि खुलकर उनके समर्थन में विधायक नहीं बोल रहे हैं.

लुधियाना से कांग्रेस सांसद रणनीत सिंह बिट्टू ने मंत्रियों की आलोचना की. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान मंत्रियों और ब्यूरोक्रैट्स के बीच सहयोग मजबूत होना चाहिए, लेकिन मंत्रियों के प्री-कैबिनेट मीटिंग से बाहर आने से लगता है कि उन्हें रिजाइन कर देना चाहिए. दूसरे लोग जो काम के बोझ को हैंडल कर सकते हैं, वो उन्हें रिप्लेस कर सकते हैं.

इस बीच पंजाब सरकार ने एक्साइज पॉलिसी को मंजूरी दे दी है. इसके बाद शराब की दुकानें खुलने का रास्ता साफ हो गया है. अभी तक पॉलिसी की वजह से ठेके बंद थे. वहीं, शराब की होम डिलीवरी का फैसला लाइसेंसधारकों पर छोड़ दिया गया है. इस पर काफी विवाद भी हुआ था.


पंजाब के CM ने नांदेड़ से आए श्रद्धालुओं के टेस्ट के बारे में क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज में से पहले दिन वित्त मंत्री ने क्या-क्या ऐलान किया?

20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की डिटेल दी.

पीएम मोदी ने जिस Y2K क्राइसिस का ज़िक्र किया, वो क्या था?

पीएम ने 12 मई को देश को संबोधित किया.

अपने भाषण में नरेंद्र मोदी ने अगले लॉकडाउन के बारे में ये हिंट दे दिया है

मोदी के 34 मिनट के भाषण में काम की बात क्या थी?

ट्रेन के बाद अब फ़्लाइट शुरू होगी तो यात्रा के क्या नियम होंगे?

केबिन लगेज, जांच और बैठने की व्यवस्था को लेकर क्या नियम हैं?

गुजरात: CM बदलने की संभावना पर खबर चलाई, पुलिस ने राजद्रोह का केस लिख लिया

इस मामले में गुजरात सरकार की किरकिरी हो रही है.

किसी को सही-सही पता ही नहीं कि दिल्ली में कोरोना से कितनी मौतें हुईं!

सरकार और नगर निगम के आंकड़े अलग-अलग.

चीन से ठगे जाने के बाद इंडिया ने अपनी टेस्टिंग किट बनाई, कैसे काम करेगी?

किसने बनाई ये टेस्टिंग किट?