Submit your post

Follow Us

एक और लीक: MP में सरकारी नौकरी का पर्चा 5-5 लाख में बिका है

2.06 K
शेयर्स

पहले SSC, फिर CBSE और अब FCI.

बरसात का मौसम खत्म हुए महीनों बीत गए हैं लेकिन ‘लीकेज’ है कि रुकने का नाम नहीं ले रही. क्योंकि इस लीकेज का पानी से कोई संबंध नहीं है. ये पेपर वाली लीकेज है जो कभी भी, कहीं भी हो सकती है. लेटेस्ट मामला रविवार को मध्य प्रदेश में आयोजित फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (FCI) की वॉचमैन भर्ती परीक्षा का पेपर लीक होने का है.

एफसीआई के वॉचमैन पद पर एमपी जोन के 217 पदों के लिए यह परीक्षा भोपाल, सागर, इंदौर, ग्वालियर, उज्जैन, सतना एवं जबलपुर में रविवार को होनी थी. 700 कैंडिडेट्स इस परीक्षा में शामिल हुए थे. लेकिन रविवार का सूरज निकलता, उससे पहले ही, माने शनिवार की शाम को पेपर ग्वालियर के एक होटल में पहुंच गया. यहां 2 एजेंट और 48 कैंडिडेट पेपर सॉल्व भी करने लगे थे.

दिल्ली में पहले ही देशभर से आए युवा एसएससी स्कैम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. (फोटोःपीटीआई)
दिल्ली में पहले ही देशभर से आए युवा एसएससी स्कैम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. (फोटोःपीटीआई)

पुलिस को पहले से अंदाज़ा था इसका

जिन 50 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, ग्वालियर पुलिस उनका इंतज़ार कर ही रही थी. पुलिस को ये खबर मिली थी कि एफसीआई का पर्चा लीक करने की कोशिश हो सकती है. इसलिए हफ्ते भर से पुलिस शहर भर के होटलों पर नज़र बनाए हुई थी. शनिवार को आखिर पुलिस को खबर मिली कि होटल सिध्दार्थ पैलेस में कैंडिडेट्स को पेपर सॉल्व कराया जा रहा है. इसके बाद पुलिस ने यहां छापा मारा और सभी को धर लिया. इन लोगों के पास से पुलिस को हाथ से लिखा एक पेपर और एक आंसर ‘की’ मिली.

ये तय करने के लिए कि क्या सचमुच पेपर लीक हुआ है, पुलिस ने रविवार का इंतज़ार किया. रविवार दोपहर दो बजे जब पेपर हो गया तब छापे में मिले पेपर और परीक्षा वाले पेपर का मिलान हुआ. इससे पक्का हुआ कि सचमुच पेपर लीक हुआ है. अब तक एफसीआई के सीनियर अधिकारियों को भी इस बारे में बता दिया गया था.

कुछ ही दिन पहले सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं का पेपर भी लीक हो गया था. (फोटोःपीटीआई)
कुछ ही दिन पहले सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं का पेपर भी लीक हो गया था. (फोटोःपीटीआई)

50 हज़ार रुपए एडवांस और 4.50 लाख नौकरी के बाद

छापेमारी में पकड़े गये सभी कैंडिडेट्स बिहार, उत्तर प्रदेश और हरियाणा के हैं. इन्होंने 5-5 लाख रुपए में पेपर खरीदा था. इस रकम में 50 हजार रुपए एडवांस और बची हुई रकम नौकरी लगने के बाद देना तय हुआ था. पकड़े गये दोनों एजेंट्स के नाम आशुतोष कुमार और हरीश कुमार हैं और दोनों दिल्ली के रहने वाले हैं. आशुतोष खुद को बीकॉम सेकंड ईयर का छात्र बताया है जबकि हरीश एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी में काम करता है. इनके मुताबिक इस ग्रुप का मास्टरमांइड किशोर कुमार है जो छापेमारी से पहले एडवांस के पैसे लेकर फ़रार हो गया.

दिल्ली से लीक हुआ था पेपर

गिरफ्तार एजेंट्स का कहना है कि किशोर ने पेपर दिल्ली से लीक किया था. उसी ने इन दोनों को ग्वालियर जाकर ग्राहक ढूंढने और उन्हें पेपर सॉल्व कराने को भेडा था. इसके एवज में उन्हें 30-30 हजार रुपये मिले थे. छात्रों से एडवांस लेने के साथ ही इन्होंने कैंडिडेट्स के ऑरिजिनल दस्तावेज और फोन अपने पास रख लिए थे. कैंडिडेट भोपाल से पेपर देकर लौटते, उसके बाद ही उन्हें ये सब वापस मिलता.

नौकरी लगती, तो सरकारी तन्ख्वाह पर इनका घर चलता. लेकिन फिलहाल ये 48 कैंडिडेट और दो एजेंट पुलिस के यहां सरकारी रोटी चबा रहे हैं. इन्हें आज अदालत में पेश भी किया जाएगा. एक गोदाम के बाहर ड्यूटी देने के लिए 5 लाख की घूस और पुलिस का चक्कर. सही में महंगा सौदा है.


 

ये स्टोरी ऋषभ ने की है.


ये भी पढ़ेंः

‘व्यापमं’ की अपार सफलता के बाद मध्यप्रदेश से पेश है – ‘MPPSC का झोल’

सात गोलियां खाने वाले इस जवान को चार साल बाद सही इलाज मिल ही गया

मोदीजी! आपके TOP का T दो रुपये किलो बिक रहा है

शिवराज के राज में सिर क्यों मुंडवा रही हैं महिलाएं?

मुस्लिमों द्वारा गाय को बम खिलाने की वो हकीकत जो आपको नहीं बताई गई

वीडियोः क्या है ई-वे बिल, जो 1 अप्रैल से पूरे देश में लागू होने वाला है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

चंद्रमा पर पहुंचने वाला है चंद्रयान-2, कैसे करेगा काम?

चंद्रयान के एक-एक दिन का हिसाब दे दिया है

विंग कमांडर अभिनंदन को पकड़ने वाला पाकिस्तानी सैनिक मारा गया!

पाकिस्तानी आर्मी की तस्वीर में अभिनंदन को पकड़े हुए दिखा था अहमद खान.

नकली दूध बेचा, पुलिस ने आतंकियों वाला NSA लगा दिया

सरकार ने तो पहले ही कह दिया था.

कांग्रेस और सपा छोड़कर भाजपा में आए नेताओं ने मोदी के बारे में क्या कहा?

वो भी कल लखनऊ में...

कश्मीर में बैन के बाद भी किसकी मेहरबानी से गिलानी इस्तेमाल कर रहे थे फोन-इंटरनेट?

बैन के चार दिन बाद तक गिलानी के पास इंटरनेट और फोन था. प्रशासन को इसकी भनक भी नहीं थी.

पीएम मोदी ने छठवीं बार लाल किले पर फहराया तिरंगा, 92 मिनट के भाषण में नया क्या था?

पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई.

बीफ़-पोर्क के नाम पर ज़ोमैटो कर्मचारियों को भड़काने वाले लोकल भाजपा नेता निकले!

और एक नहीं, कई हैं ऐसे. देखिए तो...

यूपी के एक और अस्पताल में 32 बच्चों की मौत, डॉक्टरों को कारण का पता नहीं

किसी ने कहा था, "अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं"

भगवान राम के इतने वंशज निकल आए हैं कि आप भी माथा पकड़ लेंगे

अभी राम पर खानदानी बहस हो रही है. खुद ही देखिए...

उन्नाव मामले में भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर अब लंबा फंस गए हैं

सीबीआई ने केस में रोचक खुलासे किए हैं