Submit your post

Follow Us

दिल्ली में कॉन्स्टेबल ने ट्रेन के नीचे कुचलने से महिलाओं-बच्चों को बचाया, लेकिन खुद नहीं बच पाया

25.03 K
शेयर्स

ख़ुशी होती है जब इस मतलबी जहान में कोई दूसरों के लिए जीता है. और ज़्यादा ख़ुशी होती है जब किसी ऐसे शख्स से मिलो जो दूसरे के लिए जान भी दे सकता है. लेकिन दोस्तो यकीन करो दुःख, बहुत दुःख होता है, जब ऐसे किसी नेकदिल इंसान की ज़िन्दगी चली जाती है. खूब मतलबी होकर सोचो तो भी, एक टीस उठती है कि अगर ये इंसान ज़िंदा होता तो हमारी दुनिया थोड़ी और खूबसूरत होती. तो ऐसे ही एक इंसान की मौत से मन बहुत व्यथित है.

आज तक के पत्रकार हिमांशु मिश्रा के अनुसार दिल्ली के आजादपुर इलाके में ऐसी घटना हुई कि जिससे यकीन हो गया कि दुनिया बची रहेगी, क्यूंकि अच्छे लोग उसे बचाने के लिए मारे जाएंगे.

जगबीर सिंह राणा. ये नाम है उस कांस्टेबल का जिसने बच्चों को बचाते हुए अपनी जान की आहुति दे दी.

रेलवे सुरक्षा बल के अधिकारियों के अनुसार कांस्टेबल जगबीर सिंह राणा की नाईट शिफ्ट चल रही थी – शाम के 8 बजे से लेकर अगले दिन के सुबह के 8 बजे तक.

सोमवार को रात साढ़े नौ बजे का समय रहा होगा. जगबीर की ड्यूटी आजादपुर रेलवे ट्रैक पर सिग्नल 7 के पास थी. सिग्नल ग्रीन था. उनके सामने ट्रैक पर एक नहीं बल्कि दोनों तरफ से ट्रेन आ रही थी. एक ट्रेन होशियारपुर दिल्ली से अम्बाला जा रही थी और दूसरी कालका से नई दिल्ली की तरफ. तभी जगबीर राणा की नजर ट्रैक पर कर रहे दो-तीन बच्चों और महिलाओं पर पड़ी.

इन लोगों को अम्बाला जा रही ट्रेन तो दिख रही थी पर कालका शताब्दी नजर नहीं आई. यही बात बताने के लिए जगबीर तेज़ी से उनकी तरफ दौड़े. वो चिल्ला भी रहे थे लेकिन ट्रेन की तेज़ आवाज़ के चलते किसी ने भी जगबीर को नहीं सुना.

जैसे-तैसे जगबीर उन तक पहुंच गए और बच्चों और महिलाओं को ट्रैक से दूर धकेल दिया. और इस दौरान इससे पहले कि वो खुद को बचा पाते, ट्रेन उनको रौंद कर चल दी.

जगबीर ऑरिजिनली सोनीपत, हरियाणा निवासी थे और उनकी उम्र 50 वर्ष थी . रेलवे पुलिस बल के अधिकारियों ने बताया कि –

इंजन से जगबीर के कंधे पर टक्कर लगी और वो उछल कर दूर गिर गए. इसकी वजह से उनके सिर पर गंभीर चोट लग गई और उनकी मौत हो गई. पुलिस बल उनके परिवार की पूरी मदद करेगा.


वीडियो देखें –

‘मायावती और मुलायम भाई-बहन हैं, झगड़ा तो होता रहता है’ –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

28 सितंबर को दिल्ली में इंडिया टुडे का 'माइंड रॉक्स', फिल्मी हस्तियां समेत कई दिग्गज होंगे शामिल

रजिस्ट्रेशन करने का तरीका समझ लें, सीधा अपने नेताओं से सवाल करने का मौका मिलने वाला है.

जिस परिवार पर 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' बनी थी, उसमें असल में पंगा हो गया

'फैजल खान' के भांजों ने अपना अलग गैंग बना लिया है.

ईद 2020 की रिलीज़ पर अक्षय-सलमान में जो लफड़ा हो रखा था, उसमें एक और ट्विस्ट आ गया

सलमान ने गोल-मोल ट्वीट करके सबको उलझा दिया है.

क्रिकेटर हर्शेल गिब्स ने आलिया भट्ट को नहीं पहचाना, आलिया ने जवाब दे दिया

हर्शेल गिब्स यानी 6 गेंदों में 6 छक्के और आलिया यानी गली बॉय की सफ़ीना.

प्रेगनेंट औरत 20 किलोमीटर पैदल चलकर डॉक्टर के पास पहुंची, लेकिन घर ज़िंदा न आ सकी

बेशक बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, लेकिन मां को न भूल जाओ.

'पति झगड़ता ही नहीं, मुझे तलाक़ चाहिए': एक ऐसा डिवोर्स केस जिसने जज को कन्फ्यूज कर दिया

दोनों तरफ की दलीलें सुनकर सर पकड़ लेंगे.

सौरव दादा ने दिवंगत नेता को शुभकामनाएं दे डालीं, ट्रोलर्स बोले,'हमें भी यही वाला स्टफ चाहिए'

'दादा, 2003 के वर्ल्ड कप में फील्डिंग चुनने के बाद ये आपकी दूसरी बड़ी ग़लती है.'

बीकानेर: रेप किया, फिर बॉडी जलाकर नहर में फेंक दी

रेप करने वाला कथित तौर पर सरपंच का रिश्तेदार है, इसलिए पुलिस चुप है.

क्रिकेटर संदीप पाटिल फेसबुक यूज़ नहीं करते, फिर भी उनके साथ फेसबुक पर कांड हो गया

हमें ये खबर इसलिए जाननी चाहिए क्यूंकि बहुत संभावन है कि ऐसा फ्रॉड हमारे-आपके साथ भी हो सकता है.

पतंजलि के प्रवक्ता ने कहा, अरुण जेटली को दुःख भरा प्रणाम कर रहा था, मेरा फोन चोरी हो गया

अमित शाह से कहा, मेरा फोन इस जगह है. पकड़ सकते हैं तो पकड़ लें.