Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार 2.0 के एक साल पूरे होने पर पीएम मोदी ने देश के नाम चिट्ठी में क्या लिखा है?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल को एक साल हो गया है. 30 मई 2019 को उन्होंने दूसरी बार शपथ ली थी. एक साल पूरा होने पर पीएम मोदी ने देश के नाम पत्र लिखा है. इसमें उन्होंने लिखा कि हालात सामान्य होते तो वे जनता के बीच आते. लेकिन अभी ऐसा नहीं हो सकता. पत्र में पीएम ने पहले कार्यकाल का जिक्र किया है. साथ ही दूसरी टर्म के पहले साल के काम भी गिनाए. जानते हैं पत्र की बड़ी बातें-

# एक साल पहले आज के दिन भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का स्वर्णिम अध्याय शुरू हुआ. कई दशकों बाद सरकार को पूर्ण बहुमत से फिर से चुना गया.

# साल 2014 में जनता ने बड़े परिवर्तन के लिए वोट किया. पिछले पांच साल में देश ने प्रशासन को पुराने तरीकों, भ्रष्टाचार और कुशासन को पीछे छोड़ते देखा है. अंत्योदय की भावना के चलते लाखों लोगों का जीवन बदला है.

# 2014 से 2019 के दौरान भारत का कद ऊंचा हुआ है. गरीबों का सम्मान बढ़ा है. देश ने फ्री गैस, बिजली कनेक्शन, साफ-सफाई के साथ ही सभी को घर मिलने की तरफ कदम बढ़ाए हैं.

# सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के जरिए भारत ने अपनी ताकत दिखाई. साथ ही वन रैंक वन पेंशन, एक देश एक टैक्स और किसानों को फसलों का बेहतर मूल्य मिलने जैसे काम हुए.

# 2019 में भारत की जनता ने देश को नई ऊंचाइयों पर जाने के लिए वोट किया. पिछले एक साल में लिए गए फैसले इन्हीं बड़े सपनों की उड़ान है. सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ मंत्र के जरिए भारत हर दिशा में आगे बढ़ रहा है.

# पिछले एक साल में कुछ निर्णय ज्यादा चर्चा में रहे. इनमें अनुच्छेद 370 का हटना, राम मंदिर पर आदेश, तीन तलाक कानून और नागरिकता संशोधन कानून में बदलाव शामिल है.

# चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ पोस्ट बनाने की मांग लंबे समय से चल रही थी. इसे भी पूरा किया. साथ ही मिशन गगनयान के लिए भी तैयारियां तेज हैं.

# किसानों के लिए पीएम किसान सम्मान निधि योजना लाई गई. इसमें एक साल में 72 हजार करोड़ रुपये 9.50 करोड़ किसानों के खाते में डाले गए. लोगों के घरों तक पीने का पानी पहुंचाने के लिए जल जीवन मिशन शुरू किया गया.

# देश के इतिहास में पहली बार किसान, खेत मजदूर, छोटे दुकानदार और असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए 3 हजार रुपये की मासिक पेंशन की सुविधा सुनिश्चित हुई है. यह रकम 60 साल की उम्र के बाद खाते में जाएगी.

# सामान्य जन के हित से जुड़े बेहतर कानून बनें. इसके लिए पिछले एक साल में तेजी से काम हुआ. इसने पिछला रिकॉर्ड तोड़ दिया. इस कारण कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट, चिटफंड कानून में संशोधन, दिव्यांगों, महिलाओं और बच्चों को अधिक सुरक्षा देने वाले कानून बन पाए.

# हम तेज गति से आगे बढ़ रहे थे तभी कोरोना वैश्विक महामारी ने भारत को भी घेर लिया. कई लोगों को आशंका थी कि कोरोना के चलते भारत पूरी दुनिया के लिए संकट बन जाएगा. लेकिन आपने भारत को देखने का नजरिया बदलकर रख दिया है.

# संकट के इस समय में कोई यह नहीं कह सकता कि किसी को दुख या परेशानी नहीं हुई. मजदूरों, प्रवासी वर्करों, कारीगरों, शिल्पकारों, रेहड़ी वालों, फेरी लगाने वालों को काफी तकलीफ उठानी पड़ी है.

# बंगाल और ओडिशा के लोगों ने इसी दौरान अमपन तूफान का सामना किया. उनके जज्बा उल्लेखनीय है.

Modi
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था. इसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पांच दिन लगातार प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि किसे-कितना मिला. (फोटो- PTI)

# ऐसे समय में अर्थव्यवस्था पर भी बहस चल रही है. भारत समेत बाकी देश इससे कैसे उभरेंगे? लेकिन जिस तरह से हमने कोरोना से लड़ाई में मिसाल पेश की है. वैसे ही अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर भी हम दुनिया के सामने उदाहरण पेश करेंगे.

# समय की जरूरत है कि हम आत्मनिर्भर बने. 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज इसी दिशा में उठाया गया कदम है. इससे देश के लोगों को नए अवसर मिलेंगे.

# कृतम्मेदक्षिणेहस्ते, जयोमेसव्यआहितः यानी यदि हम कर्म और कर्तव्य करते रहेंगे तो हमें सफलता भी मिलेगा.


Video: लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने की मुलाकात

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.