Submit your post

Follow Us

कौन है ये आदमी, जिसपर AIB ने मीम बनाया बवाल हो गया, अब ये दाढ़ी बनवाना चाहता है

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर धकापेल फैल रही थी. तस्वीर में एक आदमी रेलवे प्लेटफ़ॉर्म पर खड़ा हुआ, अपने मोबाइल में मशगूल दिख रहा था. तस्वीर में जो आदमी दिखाई दे रहा था वो एकदम नरेंद्र मोदी जैसा दिख रहा था. इस फोटो को लेकर खूब हल्ला हुआ. पुलिस केस भी हो गया. लेकिन ये आदमी नरेंद्र मोदी नहीं, बल्कि एम पी रामचंद्रन हैं. जो केरल के रहने वाले हैं. लुक में पीएम नरेंद्र मोदी जैसे दिखते हैं. रामचंद्रन चाहें बस स्टॉप पर हो या फिर रेलवे स्टेशन पर, उनके साथ सेल्फी लेने वाले जुट जाते हैं. जिसको वो अपने लिए परेशनी बताते हैं, लेकिन इस परेशानी को वो अब और नहीं बढ़ाना चाहते.

रामचंद्रन की रेलवे स्टेशन वाली फोटो को जब ऑल इंडिया बकचोद (AIB) के तन्मय भट्ट ने अपने फेसबुक और ट्विटर प्रोफाइल्स पर एक मीम बनाकर डाला. तो विवाद ही हो गया. उस मीम में ये बताया गया था कि मोदी जी (नकली वाले) उस मोबाइल में झांककर क्या कर रहे थे. अगली तस्वीर में तन्मय ने दिखाया कि मोदी जी असल में स्नैपचैट फ़िल्टर लगाकर तस्वीर खींच रहे थे. उन्होंने डॉग फ़िल्टर लगाया हुआ था.

तन्मय ने जो मीम बनाया वो ये था

tanmay bhat

मीम के अपलोड होने पर मोदी के फॉलोवर्स और भाजपा समर्थक तन्मय भट्ट और ऑल इंडिया बकचोद पर पिल पड़े. गाली-गलौज से लेकर क्या कुछ नहीं हुआ. विवाद इतना बढ़ा कि पुलिस ने फुर्ती दिखाते हुए मीम डिलीट कराए. तन्मय भट्ट के खिलाफ मुंबई पुलिस ने ‘पीएम मोदी का अपमान’ इल्ज़ाम में केस भी दर्ज कर लिया.

रामचंद्रन 61 साल के हैं. बेंगलुरु में जहां उनका बेटा काम करता है वहां पर हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए रामचंद्रन ने बताया,

‘वह प्रधानमंत्री जैसे न दिखाई दें, इसके लिए अब वह अगले हफ्ते दाढ़ी बनाएंगे. लोग मेरी तस्वीर का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं.’

मोबाइल चलाते वक़्त की वायरल फोटो के बारे में रामचंद्रन ने बताया कि वो बेंगलुरु जाने के लिए पय्यानूर (केरल) रेलवे स्टेशन पर खड़े थे. तब ये फोटो किसी ने क्लिक की थी. पय्यानूर उनका होमटाउन है.

कई साल गल्फ में काम करने के बाद रामचंद्रन अब रिटायर हैं. वो मोदी के उत्साही प्रशंसक हैं. उनका मानना है, मोदी एक सक्षम प्रशासक हैं. पहली बार हमें लगता है कि कोई शख्स इंचार्ज है.’

रामचंद्रन अपने साथ हुई घटनाओं के बारे में बताते हैं कि पहली बार लोगों ने उन्हें मोदी तब समझा था, जब दो साल पहले वो जम्मू जाने के लिए ट्रेन का इंतजार कर रहे थे. उनका कहना है, ‘एक लड़के ने मुझे देखा और फोटो खिंचवाने की बात करने लगा. वहां आर्मी के जवान भी थे. और फिर फोटो खिंचवाने वालों की भीड़ लग गई. मुझे अब भी याद है कि उस वक़्त मोदी जिंदाबाद के नारे भी लगे थे. लोगों ने मुझे नरेंद्र मोदी समझ लिया था.’

रामचंद्रन ही नरेंद्र मोदी के अकेले हमशक्ल नहीं हैं. मुंबई के मलाद इलाके के विकास महंत, वाराणसी के अभिनंदन पाठक भी मोदी जैसे ही दिखते हैं. नागपुर में तो पीएम मोदी के 66वें बर्थडे पर एक हमशक्ल ने केक काट दया था.


ये भी पढ़िए :

पीएम पर मजाक के चलते भारी दबाव का शिकार हुआ स्नैपचैट, खत्म करेगा ‘डॉग फिल्टर!’

इस देश में जब एक लड़की सामने लिंग हिलता देख रही होती है, मुंबई पुलिस मीम डिलीट करवा रही होती है

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

दोनों ओर के सैनिकों ने मोर्चा संभाला.

पाताल लोक वेब सीरीज में फोटो से छेड़छाड़ पर BJP विधायक ने की अनुष्का से माफी की मांग

प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा पर रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की.

कानपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकी और खाने को लेकर आपस में भिड़ गए प्रवासी मज़दूर

दो कोचों के मज़दूर आपस में झगड़ पड़े. कुछ को खाना मिला, बाकी जमीन पर गिर गया.

दुनिया का सबसे तेज़ इंटरनेट, एक सेकेंड में 1000 एचडी मूवी डाउनलोड का दावा

ऑस्ट्रेलिया की तीन यूनिवर्सिटी के टेक रिसर्चर्स ने मिलकर ये कनेक्शन तैयार किया है.

केंद्र से अक्सर लड़ने वाली ममता बनर्जी की पीएम मोदी ने किस बात पर तारीफ की?

पश्चिम बंगाल दौरे पर पीएम मोदी ने 'अमपन' को लेकर एक हज़ार करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया.

रिज़र्व बैंक ने एक बार फिर रेपो रेट घटाया, EMI से तीन महीने और छुटकारा

मार्च और अप्रैल महीने में रिज़र्व बैंक ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट घटाया था.

प्लेन और ट्रेन से जाने के लिए टिकट और किराए के नियम सरकार ने बताए हैं

जानिए, रेलवे के ऑफलाइन टिकट कहां से मिल सकते हैं.

क्या गुजरात में खराब वेंटीलेटर की वजह से 300 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई?

कांग्रेस ने विजय रूपाणी सरकार पर वेंटीलेटर घोटाले का आरोप लगाया है.

अब इस तारीख से देश के अंदर फ्लाइट्स से यात्रा कर सकेंगे

इससे पहले 200 नॉन एसी ट्रेन चलने की सूचना दी गई थी.

'अम्फान' आ चुका है, पश्चिम बंगाल में दो की मौत, कई घरों को नुकसान

ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में अपना असर दिखा रहा है.