Submit your post

Follow Us

32 साल पुराने केस में 5 महीने से कैद पप्पू यादव जेल से बाहर आकर क्या बोले?

बिहार के मधेपुरा से पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव (Pappu Yadav) लगभग पांच महीने बाद जेल से बाहर आ गए हैं. इसी साल 11 मई को उन्हें 32 साल पुराने किडनैपिंग के मामले में गिरफ्तार किया गया था. निचली अदालत ने उन्हें सबूतों के अभाव में बरी किया है.

जेल से बाहर आकर पप्पू यादव ने क्या कहा?

बरी होने के बाद पप्पू यादव ने ट्वीट करते हुए कहा,

“इंसाफ हुआ है. षड्यंत्र बेनकाब हुआ. जनता के आशीर्वाद से बाइज्जत बरी हो गया. साबित हो गया कि फर्जी मुकदमे में मुझे कैद किया गया था. न्यायालय के प्रति आभार. मैं रुकूंगा नहीं, झुकूंगा नहीं, थकूंगा नहीं, लड़ता रहूंगा. आज से फिर संघर्ष पथ पर आगे बढूंगा.”

पप्पू यादव के जेल से तुरंत बाहर आने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर पत्रकार उत्कर्ष सिंह ने डाला है. इस वीडियो में यादव अपनी रिहाई को सच्चाई की जीत बता रहे हैं. साथ ही कह रहे हैं कि देश में इस समय आपातकाल जैसे हालात हैं. उन्हें एक ऐसे मामले में पांच महीने जेल में रखा गया, जिसमें किसी आम आदमी को एक दिन भी नहीं रखा जा सकता.

दूसरी लहर के दौरान अरेस्ट हुए थे

पप्पू यादव को उस समय गिरफ्तार किया गया था, जब कोरोना महामारी की दूसरी लहर पूरे देश में तबाही मचा रही थी. उस दौरान पप्पू यादव भी लोगों की मदद कर रहे थे. साथ ही बिहार और केंद्र सरकार पर नाकाम साबित होने का आरोप भी लगा रहे थे. पप्पू यादव ने 7 मई को बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के अमनौर स्थित ऑफिस का वीडियो पोस्ट किया था. इस वीडियो में देखा जा सकता था कि बड़ी संख्या में एंबुलेंस बेकार खड़ी थीं जबकि कोरोना के दौरान इनकी सख्त जरूरत थी.

इस वीडियो को पोस्ट करते हुए पप्पू यादव ने सवाल भी उठाया था कि आखिर सांसद विकास निधि से खरीदी गईं एंबुलेंस गाड़ियां इस तरह बेकार क्यों खड़ी हैं? इसे लेकर पप्पू यादव और राजीव प्रताप रूडी के बीच ट्विवटर पर विवाद भी हुआ था. राजीव प्रताप रूडी ने दावा किया था कि ड्राइवरों की कमी की वजह से इन एंबुलेंस का इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है. पप्पू यादव ने भी पलटवार करते हुए रूडी से कहा था कि वो उन्हें 70 ड्राइवर उपलब्ध कराएंगे.

किस मामले में हुई गिरफ्तारी?

जिस मामले में पप्पू यादव को गिरफ्तार किया गया था, वो 1989 का है. आरोप है कि चुनाव के दौरान मुरलीगंज से दो लोगों का अपहरण कर लिया गया था. उस समय पप्पू यादव को इस मामले में तुरंत जमानत मिल गई थी. कुछ दिन बाद जिन युवकों की कथित तौर पर किडनैपिंग हुई थी, वो वापस आ गए थे. इस मामले के दो गवाहों की मौत पहले ही हो चुकी है. वहीं बाकी के दो गवाह इस बार अपने बयान से पलट गए.


वीडियो- बिहार: नल-जल योजना का 53 करोड़ का काम डिप्टी सीएम तारकिशोर ने परिवार में ही बांट दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.