Submit your post

Follow Us

इस ऑक्सीजन टैंकर ड्राइवर की 'झपकी' से 400 लोगों की जान खतरे में थी!

क्रिटिकल कोरोना मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा जा रहा है. लेकिन राज्यों में ऑक्सीजन को लेकर भी भयंकर मारामारी मची है. अस्पताल और डॉक्टर अपने मरीजों को बचाना चाहते हैं, लेकिन पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं. इसलिए पड़ोसी राज्यों से मदद मांगते हैं. इंडस्ट्री से मदद मांगते हैं. कि ऑक्सीजन मुहैया करवाइए. ऑक्सीजन लाने वालों पर भी प्रेशर है. पूरे-पूरे दिन ट्रैवल करना पड़ रहा है. आराम की कोई गुंजाइश नहीं. आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा से भी ऐसा ही मामला सामने आया है. जहां ओडिशा से ऑक्सीजन लाने के लिए ऑक्सीजन टैंकर भेजा गया. लेकिन ड्राइवर इतना थक चुका था कि रास्ते में ही सो गया. पूरा मामला बताते हैं.

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक विजयवाड़ा के गवर्मेंट जनरल हॉस्पिटल में करीब 400 कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है. ऑक्सीजन खत्म होने लगी. मरीजों की हालत भी क्रिटिकल थी. फिर ओडिशा के अंगुल से ऑक्सीजन का प्रबंध कर लिया गया. 06 मई को अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन लाने के लिए अपनी ओर से एक ऑक्सीजन टैंकर भेजा. टैंकर ने अपना काम कर लिया. अब वापस लौटने की बारी थी. लेकिन आधी रात को लौटते वक्त टैंकर GPS ट्रैकिंग डिवाइस पर नज़र आना बंद हो गया.

Government General Hospital
गवर्मेंट जनरल हॉस्पिटल, जहां करीब 400 कोरोना मरीज भर्ती हैं. फोटो – आज तक

उधर अस्पताल प्रशासन तक भी ये खबर पहुंची. घबराहट मची. फौरन विजयवाड़ा सिटी कमिशनर को सूचित किया गया. कमिशनर ने जिला अधिकारियों को मुस्तैद कर दिया. कि जल्द-से-जल्द ड्राइवर को ढूंढा जाए. पुलिस हर ओर ऑक्सीजन टैंकर को ढूंढने लगी. बड़े पैमाने पर ये खोज चली. पुलिस की ये खोज समाप्त हुई एक ढाबे पर. दरअसल, टैंकर का ड्राइवर आंध्रप्रदेश के पूर्वी गोदावरी जिले के धर्मावरम स्थित एक ढाबे पर मिला. ड्राइवर ने पुलिस को बताया था कि भीषण गर्मी में पूरे दिन ट्रक चलाने के बाद वो बुरी तरह थक गया था. इसलिए कुछ देर आराम करने के लिए रुक गया.

ड्राइवर की परिस्थिति समझने के बाद पुलिस ने फैसला लिया. कि ऑक्सीजन टैंकर जल्द पहुंचाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया जाए. वो भी तुरंत. सारे प्रबंध होने के बाद टैंकर को हॉस्पिटल के लिए रवाना किया गया. पुलिस का काफिला भी टैंकर के साथ ही था. इन सारी तैयारियों समेत पुलिस ने एक होम गार्ड भी ड्राइवर के बगल में तैनात कर दिया. ताकि ड्राइवर को अकेलापन न महसूस हो.

Oxygen Supply
आज सुबह टैंकर पहुंचने के बाद सप्लाइ का काम शुरू किया गया. फोटो – आज तक

07 मई की सुबह ये टैंकर हॉस्पिटल पहुंच गया. समय रहते ऑक्सीजन पहुंच जाने की वजह से मरीजों की जान पर बना खतरा भी टल गया.


वीडियो: देश में कोरोना की तीसरी लहर पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने कौन सी डराने वाली बात कही है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.