Submit your post

Follow Us

गुजरात को न जाने किसकी नजर लगी है, अब शपथ ग्रहण से पहले हो गया हादसा

गुजरात में बीजेपी की नैया लगातार 7वीं बार पार लग गई. 99 पर अटके थे, मगर एक निर्दलीय मिलने से सेंचुरी पूरी हो गई. विजय रूपाणी एक बार फिर सीएम चुन लिए गए. 26 दिसंबर शपथ ग्रहण की तारीख मुकर्रर हुई. 18 मुख्यमंत्रियों और स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आना है. सो तैयारियां जोरों पर थीं. मगर इसी बीच एक कांड हो गया है. जहां ये पूरा प्रोग्राम होना है माने गांधीनगर सचिवालय का हैलिपैड ग्राउंड. वहां पर पंडाल बनाते एक हादसा हो गया. तीन मजदूर काफी ऊंचाई से गिर गए. इसमें एक की मौत भी हो गई. दो बुरी तरह घायल हो गए.

शपथ ग्रहण के लिए तैयार हो रहा पंडाल गिर गया है.
शपथ ग्रहण के लिए तैयार हो रहा पंडाल गिर गया है.

जानकारी की मुताबिक पंडाल तैयार करवाने का काम एक प्राइवेट कंपनी को दिया गया था. पंडाल को तैयार करते वक्त जो मजदूर क्रेन पर चढ़े थे, वो काफी ऊंचाई से नीचे गिर गए. घायल हालत में उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही एक मजदूर की मौत हो गई. हैरत की बात ये है कि ये मजदूर बिना किसी सेफ्टी किट को पहने काम कर रहे थे. सेफ्टी बेल्ट भी नहीं बांधे थे. तभी क्रेन में झटका लगने पर मजदूर डिसबैलंस हुए और नीचे गिर गए. एक सरकारी काम में इस तरह की लापरवाही घोर लापरवाही है. मामले में जिम्मेदारों पर कार्रवाई होनी चाहिए.


लल्लनटॉप  वीडियो देखें-

ये भी पढ़ें:

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इस कांग्रेसी ने 10वीं बार विधायकी जीतकर रिकॉर्ड बना दिया है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

‘नीची जाति’ वाले कमेंट पर नरेंद्र मोदी के वो चार झूठ, जो कोई पकड़ नहीं पाया

गुजरात चुनाव के पहले ही दिन EVM मशीनों के हैक होने का सच ये है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रियंका गांधी ने जो गाड़ियां यूपी भेजी हैं, उनमें कितनी बसें हैं, कितने ऑटो?

छह सूचियों में कुल 1049 गाड़ियों की डिटेल्स भेजी गई है.

देशभर में 200 और ट्रेनें चलने की तारीख़ आ गई है

इस बार ख़ुद रेल मंत्री ने बताया है.

लॉकडाउन 4: दफ़्तरों के लिए क्या गाइडलाइंस हैं?

इस लॉकडाउन में तमाम तरह की छूट दी गई हैं.

प्रियंका गांधी वाड्रा की 1000 बसों में कुछ नंबर ऑटो और कार के कैसे निकल गए?

हालांकि संबित पात्रा ने भी जिस बस को स्कूटर बताया, वहां एक पेच है.

मज़दूरों की लाश की ऐसी बेक़द्री पर झारखंड के सीएम कसके गुस्साए हैं

घायल मज़दूरों के साथ अमानवीय व्यवहार करने का आरोप.

कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर, जल्द ही आखिरी स्टेज का टेस्ट होने की उम्मीद

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!