Submit your post

Follow Us

सुप्रीम कोर्ट ने मुहर्रम के जुलूस की इजाजत देने से इनकार करते हुए बेहद जरूरी बात कही है

सुप्रीम कोर्ट ने मुहर्रम का जुलूस निकालने की इजाजत देने से इनकार कर दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोर्ट ने कहा कि पूरे देश के लिए सामान्य आदेश पारित करने से अराजकता फैलेगी. इससे एक समुदाय विशेष को कोरोना वायरस फैलाने के लिए टारगेट किया जा सकता है. शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने याचिका लगाई थी. पूरे देश में मुहर्रम जुलूस निकालने की मांग की थी.

चीफ जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस एएस बोपन्ना और जस्टिस वी. रामसुब्रह्मण्यन की बेंच ने मामले की सुनवाई की. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा-

आप एक सामान्य आदेश पारित करने के लिए कह रहे हैं. अगर हम इसकी इजाजत देते हैं, तो अराजकता फैलेगी. कोरोना फैलाने के लिए समुदाय विशेष को टारगेट किया जाएगा. हम ऐसा नहीं चाहते. हम एक अदालत के रूप में सभी लोगों के स्वास्थ्य को जोखिम में नहीं डाल सकते हैं.

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील ने जगन्नाथपुरी यात्रा की दलील दी. अदालत ने कहा कि आप पूरे देश के लिए इजाजत मांग रहे हैं. जगन्नाथपुरी यात्रा एक खास जगह पर होती है, जहां रथ एक जगह से दूसरी जगह जाता है. अगर किसी एक जगह की बात होती, तो खतरे का आकलन कर आदेश दे सकते थे.

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को सीमित संख्या में लोगों के साथ एक चिह्नित क्षेत्र में जुलूस निकालने की अनुमति के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने को कहा है. मुहर्रम इस साल 29 अगस्त, शनिवार को पड़ रहा है.

मोहर्रम क्या है

मोहर्रम इस्लामिक कैलंडर का पहला महीना है. यह बकरीद के आखिरी महीने के बाद आता है. मोहर्रम सिंबल है कर्बला की जंग का. इस जंग में इमाम हुसैन की कुर्बानी दी गई थी. वही हुसैन, जो सुन्नी मुस्लिमों के चौथे खलीफा और शिया मुस्लिम के पहले इमाम कहे जाने वाले हजरत अली के बेटे थे.

मोहर्रम मातम का महीना होता है. हुसैन पर हुए ज़ुल्मों को याद कर शिया मुस्लिम मोहर्रम महीने के 10वें दिन मातम मनाते हैं. मातमी जुलूस भी निकलता है. इसी जुलूस को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पूरे देश के लिए सामान्य आदेश देने से इनकार कर दिया.


मोहर्रम में शिया मुसलमान खुद को ज़ख़्मी क्यों करते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोर्ट ने कहा, ये शर्त पूरी किए बिना अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा पर दिल्ली दंगों में हेट स्पीच का केस नहीं

बीजेपी नेताओं के खिलाफ़ याचिका ख़ारिज करते हुए अदालत ने और क्या कहा, ये भी पढ़िए.

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!