Submit your post

Follow Us

जम्मू-कश्मीर CID का ये सर्कुलर पत्थरबाजी में शामिल रहे युवाओं की मुश्किल बढ़ाने वाला है

जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी जैसी गतिविधियों में शामिल रहे युवाओं को सिक्युरिटी क्लियरेंस मिलने में दिक्कत हो सकती है. सरकारी नौकरियों और सरकारी योजनाओं का लाभ पाने के लिए सिक्युरिटी क्लियरेंस जरूरी होता है. जम्मू-कश्मीर पुलिस की CID विंग द्वारा जारी एक सर्कुलर में इसका जिक्र किया गया है. कश्मीर CID के SSP ने ये सर्कुलर जारी किया है. इसमें उन्होंने कहा है कि पासपोर्ट, सरकारी नौकरी या सरकारी योजनाओं से जुड़े मामलों में किसी व्यक्ति की सिक्योरिटी क्लियरेंस की रिपोर्ट तैयार करते समय इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि वो व्यक्ति पत्थरबाजी, कानून-व्यवस्था भंग करने या किसी दूसरे अपराध में शामिल न रहा हो. अगर कोई ऐसा मिलता है तो उसे सिक्योरिटी क्लियरेंस न दी जाए.

सर्कुलर में कहा गया है?

सर्कुलर में कहा गया है कि CID SB कश्मीर की सभी फील्ड यूनिट को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देश दिया जाता है कि पासपोर्ट, सेवा और सरकारी सेवाओं / योजनाओं से संबंधित किसी अन्य सत्यापन के दौरान, कानून और व्यवस्था, पथराव के मामलों और अन्य अपराधों में संलिप्तता को विशेष रूप से देखा जाए. स्थानीय पुलिस थाने के रिकॉर्ड से इसकी पुष्टि की जाए.

सर्कुलर में कहा गया है,

इसके अलावा, CCTV फुटेज, फोटो, वीडियो और ऑडियो क्लिप, पुलिस, सुरक्षा बलों और सुरक्षा एजेंसियों के रिकॉर्ड में उपलब्ध क्वाडकॉप्टर इमेज जैसे डिजिटल सबूतों को खंगाला जाए. कोई भी व्यक्ति अगर इस तरह की गतिविधियों में शामिल पाया जाता है तो उसे सिक्युरिटी क्लियरेंस न दी जाए.

K

हाल ही में जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने कहा था कि यह एक ‘बदलता कश्मीर’ है, जहां हर शुक्रवार को पत्थरबाजी इतिहास की बात हो गई है. निवेशक 20,000 करोड़ रुपये से अधिक के प्रस्तावों के साथ कतार में खड़े हैं. बेरोजगारी दर एक साल में आधी रह गई है. हजारों युवा आकांक्षी उद्यमी सरकार की वित्तीय सहायता योजनाओं का लाभ उठा रहे हैं.

दि प्रिंट को दिए एक इंटरव्यू में मनोज सिन्हा ने उन खबरों को निराधार बताया था जिसमें कहा गया था कि अनुच्छेद 370 अमान्य होने के बाद कश्मीरी युवाओं का एक वर्ग आतंकवाद के रास्ते पर चला गया है. उन्होंने कहा था कि यह आकलन गलत है. एक समय था जब हर शुक्रवार को केवल पथराव करने वाले लोग दिखते थे. यह अब इतिहास हो गया है. (आतंकी समूहों की तरफ से स्थानीय स्तर पर) भर्ती में कमी आई है. लोगों में डर की भावना खत्म हुई है. देशभर से सबसे ज्यादा संख्या में पर्यटक कश्मीर ही आ रहे हैं. यह बेहतर स्थिति का संकेत है. आज यहां सुरक्षा बलों का पलड़ा भारी है.


CBI ने जम्मू-कश्मीर के IAS शाहिद चौधरी के आवास पर छापेमारी की

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?