Submit your post

Follow Us

कौन हैं नितिन अग्रवाल, जिन्हें बीजेपी ने विधानसभा उपाध्यक्ष बनाया है?

नितिन अग्रवाल यूपी विधानसभा के उपाध्यक्ष चुने गए हैं. समाजवादी पार्टी के विधायक हैं. लेकिन सपा ने इन्हें उम्मीदवार नहीं बनाया था. सपा ने उम्मीदवार बनाया था नरेंद्र वर्मा को. जिन्हें 60 वोट मिले. जबकि जीतने वाले नितिन अग्रवाल को 304 वोट मिले. नितिन वर्मा की उम्मीदवारी का सत्ताधारी बीजेपी के विधायकों ने समर्थन किया, जिस वजह से वे जीत दर्ज करने में कामयाब रहे.

दूसरी बार हुआ चुनाव

उत्तर प्रदेश विधानसभा के इतिहास में ये दूसरा मौका है जब डिप्टी स्पीकर के चुनाव के लिए वोटिंग हुई है. अब तक की राजनीतिक परंपरा के अनुसार विधानसभा अध्यक्ष (स्पीकर) का पद सत्तापक्ष और उपाध्यक्ष का पद मुख्य विपक्षी दल का होता रहा है. 1984 के एक अपवाद के अलावा कभी उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव कराने की नौबत नहीं आई थी. तब कांग्रेस ने परंपरा को तोड़ते हुए उपाध्यक्ष का पद विपक्षी दल को नहीं देने का फैसला किया था. कांग्रेस ने हुकुम सिंह और विपक्ष ने रियासत हुसैन को अपना उम्मीदवार बनाया था. कांग्रेस के पास संख्याबल अधिक था और हुकुम सिंह उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए थे.

अब 37 साल के बाद फिर से वोटिंग हुई है जिसमें बीजेपी समर्थित नितिन अग्रवाल विजयी हुए हैं. यूपी विधानसभा में उपाध्यक्ष का पद 2007 से ही खाली है. पहले मायावती फिर अखिलेश और अब योगी सरकार भी अपना कार्यकाल पूरा करने वाली है. लेकिन उपाध्यक्ष की कुर्सी खाली ही रही. अब चुनाव से पांच महीने पहले उपाध्यक्ष पद के लिए बीजेपी ने सपा के बागी विधायक नितिन अग्रवाल को मैदान में उतार दिया और समर्थन देकर जिता भी दिया.

कौन है नितिन अग्रवाल?

हरदोई सदर की सीट से 2017 में सपा के टिकट पर चुनाव जीते. इनके पिता नरेश अग्रवाल इस सीट से सात बार विधायक रह चुके हैं और दल बदल के मामले में यूपी के सर्वाधिक चर्चित नेताओं में से एक हैं. नितिन पहली बार 2008 में अपने पिता के इस्तीफे के बाद खाली हुई सीट से उपचुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे. बसपा के टिकट पर. उसके बाद पिता के साथ सपा में शामिल हो गए.

2012 में सपा के टिकट पर विधायक बने. अखिलेश यादव की सरकार में स्वास्थ्य राज्य मंत्री रहे. 2017 में सत्ता बदली तो पिता नरेश अग्रवाल 2018 में बीजेपी में शामिल हो गए. नितिन अग्रवाल लगातार सपा के खिलाफ बागी रूख अपनाए हुए थे. जिसकी वजह से सदन में सपा के नेता रामगोविंद चौधरी ने उनकी सदस्या खारिज करने की अपील की थी, लेकिन स्पीकर हृदयनारायण दीक्षित ने इसे खारिज कर दिया था.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में नामांकन करते नितिन अग्रवाल
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में नामांकन करते नितिन अग्रवाल

बीजेपी ने कहा- परंपरा नहीं तोड़ी

एक तरफ जहां विपक्षी दल बीजेपी पर परंपरा तोड़ने का आरोप लगा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ बीजेपी ने सपा पर परंपरा तोड़ने का आरोप लगाया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बीजेपी संसदीय परंपराओं का पालन कर रही है. उन्होंने कहा कि विधानसभा उपाध्यक्ष का पद विपक्ष के लिए रिजर्व होता है. सबसे बड़े विपक्षी दल से नितिन अग्रवाल प्रत्याशी आए हैं और उन्हीं को हमने प्रत्याशी माना.

दूसरी तरफ नेता विपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा कि सपा का प्रत्याशी कौन होगा, ये बीजेपी कैसे तय कर सकती है? अगर वो हमारे दल के हैं तो फिर हम तय करेंगे बीजेपी नहीं. सपा ने सीतापुर की महमूदाबाद सीट से विधायक नरेंद्र सिंह वर्मा को अपना उम्मीदवार घोषित किया था. जिन्हें 60 वोट मिले. कांग्रेस पार्टी ने परंपरा तोड़ने और अलोकतांत्रिक तरीके से चुनाव कराने का आरोप लगाते हुए वोटिंग का बहिष्कार किया. हालांकि कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने मतदान में हिस्सा लिया.


BSP नेता आरएस कुशवाहा ने समाजवादी पार्टी में शामिल होते ही कही बड़ी बात

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?