Submit your post

Follow Us

सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया गैंगरेप दोषियों के लिए क्यों कहा- थोड़ी तो मानवीय संवेदना रखिए

सुप्रीम कोर्ट ने 2012 के निर्भया गैंगरेप केस के दोषियों को अंगदान का विकल्प देने की याचिका खारिज कर दी. इस याचिका में मांग की गई थी कि दोषियों को अंगदान करने दिया जाए. इसी याचिका में लाश को मेडिकल रिसर्च के लिए देने का विकल्प भी मांगा गया था, जो सुप्रीम कोर्ट ने खारिज़ कर दिया. ये याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट के एक पूर्व जज ने दायर की थी.

# क्या कहा सुप्रीम कोर्ट ने?

जस्टिस आर. भानुमति और जस्टिस ए. एस. बोपन्ना की पीठ ने कहा-

जनहित याचिका के जरिए आप ऐसा निर्देश देने का अनुरोध नहीं कर सकते. अगर दोषी ऐसा करना चाहते हैं, वे खुद या अपने परिवार के सदस्यों के जरिए इस बारे में अपनी इच्छा व्यक्त कर सकते हैं.

# याचिका दायर करने वाले ने क्या कहा?

याचिकाकर्ता थे बॉम्बे हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जस्टिस माइकल एफ. सल्दाना. इनके वकील याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के सामने दलील दे रहे थे. वकील का कहना था कि अंगदान करके दोषी मानवता के लिए कुछ तो अच्छा करके जा सकेंगे. लेकिन इस दलील से सुप्रीम कोर्ट सहमत नहीं हुआ. सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा कि पूर्व जस्टिस की याचिका गलत अवधारणा पर आधारित है.

पीठ ने कहा-

किसी व्यक्ति को फांसी दिया जाना उसके परिवार के लिए बहुत ही दुखद है. याचिकाकर्ता के तौर पर आप चाहते हैं कि दोषियों के शव के टुकड़े किए जाएं. थोड़ी तो मानवीय संवेदना रखिए. अंगदान स्वेच्छा से होता है.

याचिकाकर्ता पूर्व जस्टिस सल्दाना ने शीर्ष अदालत से अनुरोध किया था कि मौत की सजा पर अमल से जुड़े सारे मामलों में इस तरह की शर्त लगाने पर विचार किया जाए.

निर्भया गैंगरेप और मर्डर केस में चारों दोषियों को 3 मार्च, मंगलवार की सुबह फांसी होनी थी, जो टल गई. निर्भया केस में दोषी पवन गुप्ता की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई. कोर्ट ने अगले आदेश तक फांसी पर रोक लगा दी है.

सुप्रीम कोर्ट में किसी दोषी की फांसी पर मुहर लगने के बाद फांसी से बचने के लिए उसके पास दो विकल्प होते हैं. दया याचिका- जो राष्ट्रपति के पास भेजी जाती है. और पुनर्विचार याचिका जो सुप्रीम कोर्ट में लगाई जाती है. ये दोनों याचिकाएं खारिज होने के बाद दोषी के पास क्यूरेटिव पिटीशन का ऑप्शन होता है. ये पिटीशन सुप्रीम कोर्ट में लगाई जाती है. इसमें कोर्ट ने जो सज़ा तय की है उसमें कमी के लिए रिक्वेस्ट की जाती है. यानी फांसी की सज़ा उम्रकैद में बदल सकती है.


वीडियो देखें:

CBI के हाथ कैसे लगा IAS राजीव रंजन, जिस पर हजारों लाइसेंस लाखों रुपए लेकर बांटने का आरोप?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

पाकिस्तान के किस बयान में इंडिया ने एक के बाद एक पांच झूठ पकड़ लिए हैं?

पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने में भारत का नाम ले लिया, बस हो गया काम.

सोनिया-राहुल को पत्र लिखने पर कांग्रेस मंत्री ने नेताओं से कहा, ‘खुल्लमखुल्ला टहलने नहीं दूंगा’

माफ़ी नहीं मांगने पर परिणाम भुगतने की बात कर डाली.

प्रशांत भूषण के खिलाफ़ अवमानना का मुक़दमा सुन रहे सुप्रीम कोर्ट के इन तीन जजों की कहानी क्या है?

पूरी रामकहानी यहां पढ़िए.

महाराष्ट्र: रायगढ़ में पांचमंज़िला इमारत ढही, 50 से ज़्यादा लोग दबे

एनडीआरएफ की तीन टीमें राहत के काम में जुटी हैं.

क्या 73 दिन में कोरोना वैक्सीन आ रही है? बनाने वाली कंपनी ने बताई सच्ची-सच्ची बात

कन्फ्यूजन है कि खुश होना है या अभी रुकना है?

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.