Submit your post

Follow Us

'भारत में रेसिज्म होता है' ऐसे आरोपों पर क्या बोले शोएब अख्तर?

डैरेन सैमी द्वारा भारत में रेसिज्म झेलने के आरोपों के बाद अब इस मसले पर पूर्व पाकिस्तानी पेसर शोएब अख्तर ने भी कमेंट किया है. शोएब ने कहा कि उन्होंने अपने पूर्व इंटरनेशनल करियर में कभी भी रेसिज्म का सामना नहीं किया. अख्तर ने कहा कि पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के साथ किसी भी विदेशी दौरे पर उन्होंने रेसिज्म का सामना नहीं किया. अख्तर ने यह भी कहा कि उन्होंने कभी किसी पाकिस्तानी प्लेयर को भारत में या भारतीय प्लेयर को पाकिस्तान में निशाना बनते नहीं देखा.

इसके साथ ही शोएब ने यह भी कहा कि एक बार उन्हें 1999 में कोलकाता टेस्ट के दौरान भीड़ के गुस्से का सामना करना पड़ा था. यह अब खत्म की जा चुकी एशियन टेस्ट चैंपियनशिप का पहला टेस्ट मैच था. ईडन गार्डन की भीड़ के बुरे बर्ताव के चलते मैच के आखिरी दिन खेल रोकना पड़ा था. भीड़ सचिन तेंडुलकर के विवादास्पद तरीके से रनआउट होने के बाद गुस्सा गई थी.

# कभी नहीं हुआ

‘हेलो’ ऐप पर एक बातचीत के दौरान अख्तर ने कहा,

‘नहीं. मैंने कभी भी इसका सामना नहीं किया. एक बार मैंने इसे महसूस किया था, जब कोलकाता में सचिन रनआउट हो गए थे और लोगों को लगा कि यह मेरी ग़लती है. उस वक्त थोड़ा बहुत हुआ था. लेकिन इसके अलावा मैंने कभी भी इसका सामना नहीं किया. मैं डरा हुआ था कि शायद मुझे भारत में रेसिज्म का सामना करना पड़े या लोग पाकिस्तान के खिलाफ, कश्मीर के मुद्दे पर नारे लगाएंगे. लेकिन यह कभी नहीं हुआ. न ही ऐसा कुछ भारतीय प्लेयर्स के साथ पाकिस्तान में हुआ.’

अख्तर ने 2004-05 के इंडिया टूर का भी ज़िक्र किया. उन्होंने कहा,

‘2004-05 के भारत दौरे के लिए मैं थोड़ा हिचकिचाया था. मुझे डर लग रहा था कि कहीं मुझे लोगों के गुस्से का सामना न करना पड़े, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. दोनों तरफ से यह अच्छी बात थी. यहां हिंदू-मुस्लिम या सिख-मुस्लिम जैसे धार्मिक मामलों की टेंशन कभी नहीं थी. कोई हूटिंग नहीं होती थी, न ही कोई किसी के रंग, नस्ल या धर्म को लेकर कोई नारेबाजी करता था. मैंने ऐसा कुछ भी नहीं सुना. न भारत में, न पाकिस्तान में, ना ही ऑस्ट्रेलिया में.’

अख्तर के यह कमेंट्स ऐसे मौके पर आए हैं, जब वेस्टइंडियन क्रिकेटर्स ने भारत के खिलाफ मोर्चा सा खोल रखा है. डैरेन सैमी द्वारा सनराइजर्स हैदराबाद के अपने टीममेट्स पर रेसिस्ट कमेंट का आरोप लगाया था. इससे बाद उन्हें क्रिस गेल और ड्वेन ब्रावो जैसे सुपरस्टार्स का भी साथ मिला.


वेस्ट इंडीज के पूर्व क्रिकेटर डैरेन सैमी भी रंग के आधार पर भेदभाव झेल चुके हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

WHO ने कोरोना पर राहत देने वाली बात की तो दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने कहा, “अरी मोरी मईया!”

पलटकर WHO से ही सबूत मांग रहे हैं लोग.

ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना इंफेक्शन, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती

बीते कुछ दिनों से दोनों की तबीयत खराब थी.

बिहार: अमित शाह ने वर्चुअल रैली में तेजस्वी को घेरा, कहा-लालटेन राज से एलईडी युग में आ गए

तेजस्वी यादव ने रैली पर 144 करोड़ खर्च करने का आरोप लगाया.

गर्भवती ने 13 घंटे तक आठ अस्पतालों के चक्कर लगाए, किसी ने भर्ती नहीं किया, मौत हो गई

महिला की मौत के बाद अब जिला प्रशासन जांच की बात कर रहा है.

दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होगा

दिल्ली के बॉर्डर खोले जाने पर भी हुआ फैसला.

लद्दाख में तनाव: भारत-चीन सेना के कमांडरों की मीटिंग में क्या हुआ, विदेश मंत्रालय ने बताया

6 जून को दोनों देशों के सेना के कमांडरों की मीटिंग करीब 3 घंटे तक चली थी.

पहले से फंसी 69000 शिक्षक भर्ती में अब पता चला, रुमाल से हो रही थी नकल!

शुरू से विवादों में रही 69 हजार शिक्षक भर्ती में जुड़ा एक और विवाद

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.