Submit your post

Follow Us

बॉम्बे हाई कोर्ट से नारायण राणे को मिली राहत, बोले- देश में कानून का राज है

बॉम्बे हाई कोर्ट ने केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को राहत दी है. कोर्ट ने राणे को नासिक में उनके खिलाफ दर्ज मामले में गिरफ्तारी से छूट दे दी है. नारायण राणे के वकील सतीश मानेशिंदे ने मांग की थी कि उन्हें उनके खिलाफ दर्ज तीन अन्य मामलों में भी राहत दी जानी चाहिए. इस पर कोर्ट ने कहा कि नासिक में दर्ज FIR पर पुलिस 17 सितंबर तक कोई कार्रवाई न करे. साथ ही पुणे में दर्ज केस की सुनवाई भी टाल दी गई. अदालत अब राणे की याचिका पर 17 सितंबर को सुनवाई करेगी.

इससे पहले सीएम उद्धव ठाकरे पर टिप्पणी के मामले में गिरफ्तार किए गए केंद्रीय मंत्री नारायण राणे को कोर्ट से जमानत मिल गई थी. मंगलवार 24 अगस्त की दोपहर महाराष्ट्र पुलिस ने राणे को गिरफ्तार किया था और महाड दीवानी कोर्ट में पेश किया था. पुलिस ने कोर्ट से 7 दिन की रिमांड मांगी थी, लेकिन कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद राणे को जमानत दे दी.

बुधवार को कोर्ट में क्या हुआ?

आजतक संवाददाता विद्या की रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार 25 अगस्त को हुई सुनवाई में अदालत ने मामले में ज्यादा ढील देने से इनकार कर दिया. उसने कहा कि इससे पहले कि अन्य FIR को लेकर राहत मांगी जाए, याचिका में संशोधन की जरूरत है. इस पर सरकारी वकील अमित देसाई ने कहा कि चूंकि उन्हें सुनवाई से कुछ मिनट पहले याचिका मिली थी, इसलिए वो बहस नहीं कर पाएंगे. हालांकि अमित देसाई ने कहा कि वो ये बयान दे सकते हैं कि नासिक मामले में राणे के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं की जाएगी.

लेकिन अन्य FIR के संबंध में उन्होंने ये कहते हुए बयान देने से इनकार कर दिया कि मानेशिंदे को एक बयान देना चाहिए कि उनके मुवक्किल दोबारा इस तरह के आपत्तिजनक बयान नहीं देंगे. देसाई ने जोर देकर कहा, “ये राज्य में कानून और व्यवस्था का मामला है.”

वहीं, नारायण राणे के वकील मानेशिंदे ने ये कहते हुए बयान देने से इनकार कर दिया कि इससे राणे की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्रभावित होगी. इस पर देसाई ने कहा, “मैं उनकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के रास्ते में नहीं आ रहा हूं.” तो मानेशिंदे ने कहा, “अगर एक बयान इतना भ्रम पैदा करता है तो मुझे नहीं पता कि सच्चाई सामने आने पर क्या होगा.”

राणे की याचिका में कहा गया है कि वे निर्दोष हैं और उन्हें इस अपराध में झूठा फंसाया गया है. इसमें नासिक के पुलिस कमिश्नर पर आरोप लगाया गया है कि वे कानून की उचित प्रक्रिया का पालन करने के बजाय राज्य में सत्तारूढ़ दल के मार्गदर्शन और दबाव में काम कर रहे हैं.

नारायण राणे ने क्या कहा?

सीएम उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने वाले बयान का बचाव किया. बुधवार 25 अगस्त को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए नारायण राणे ने कहा कि उन्होंने कुछ गलत नहीं कहा है. उन्होंने कहा,

शिवसेना द्वारा मेरे खिलाफ दर्ज मामलों को लेकर आज (बुधवार) मैंने बॉम्बे हाई कोर्ट से संपर्क किया था. इसमें महादेव और बॉम्बे हाई कोर्ट ने मेरे पक्ष में फैसला सुनाया है. इससे पता चलता है कि देश में कानून का राज है.

रिपोर्ट के मुताबिक केंद्रीय मंत्री ने कहा,

कुछ लोगों ने मेरे अच्छे स्वभाव का फायदा उठाया है. लेकिन मैं अभी इसके बारे में बात नहीं करूंगा. मेरी यात्रा पिछले 7 सालों में मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं और ऐतिहासिक कदमों के बारे में प्रचार करने को लेकर थी. पीएम के निर्देश पर मैंने अपनी यात्रा शुरू कर दी है. दो दिन का अंतराल है, लेकिन मैं परसों सिंधुदुर्ग से अपनी यात्रा फिर से शुरू करूंगा.

क्या है मामला?

बीजेपी की जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान नारायण राणे ने सीएम उद्धव को थप्पड़ मारने की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि सीएम को ये भी नहीं पता देश कब आजाद हुआ था. केंद्रीय मंत्री यहां तक बोल गए कि अगर वे सीएम के भाषण के वक्त वहां होते तो उन्हें थप्पड़ मारते.

आजतक के मुताबिक, राणे ने दावा करते हुए कहा था,

आजादी का साल भूलने के बाद उद्धव ने अपने सहयोगी से इस बारे में पूछा था. ये शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को ये नहीं पता कि हमें आजाद हुए कितने साल हो गए. अपने भाषण के दौरान उन्होंने पीछे मुड़कर अपने सहयोगी से पूछा था. अगर मैं वहां होता तो उन्हें जोरदार थप्पड़ मारता.

राणे के इसी बयान पर महाराष्ट्र में बवाल है.


वीडियो- नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन क्या है, जिससे कई सेक्टर्स में निजी कंपनियों की भागीदारी बढ़ेगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?