Submit your post

Follow Us

मुंबई: कोर्ट ने खराब सड़क का हवाला देकर जानलेवा ऐक्सिडेंट के आरोपी ड्राइवर को बरी किया

मुंबई की एक अदालत ने रोड एक्सिडेंट के एक मामले में आरोपी ऑटो ड्राइवर को बरी कर दिया है. मामला 2010 में हुई दुर्घटना से जुड़ा है. इस घटना में ऑटो खंभे से भिड़ गया था. इस वजह से ऑटो में बैठे व्यक्तियों में से एक की मौत हो गई थी और तीन घायल हुए थे. बाद में ऑटो ड्राइवर को आरोपी बनाया गया था. लेकिन अब अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा है कि इस मामले में ख़राब सड़क की वजह से हुई मौत के लिए ड्राइवर को ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता.

क्या हुआ था?

साल 2010, तारीख 7 जून. नसीम अबीब अपनी बेटी और दो पोतों के साथ ऑटो से मुंबई के मीरारोड पर अपने रिश्तेदार के घर जा रहे थे. ऑटो को सूरज कुमार जायसवाल चला रहा था. इंडिया टुडे से जुड़ीं विद्या की रिपोर्ट के मुताबिक, घटना के बाद पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया था कि सूरज तेज रफ्तार से ऑटो चला रहा था. वो वाहन को सीधा भी नहीं चला रहा था. परिवार ने दावा किया था कि इसी वजह से सूरज ने ऑटो पर नियंत्रण खो दिया और खंभे से जाकर टकरा गया.

इस दुर्घटना में नसीम की मृत्यु हो गई. उनकी बेटी और पोतों को चोटें आईं. इसके बाद परिवार ने ड्राइवर सूरज कुमार के खिलाफ लापरवाही से ऑटो चलाने का मामला दर्ज करवाया था. जांच के दौरान नसीम की बेटी का कहना था कि यह हादसा आरे कॉलोनी के पास हुआ था. उसका दावा था कि ऑटो ड्राइवर मदद करने के बजाय मौके से फरार हो गया. स्थानीय लोगों ने उनके पिता को अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन अगले ही दिन उनकी मृत्यु हो गई.

Accident In Delhi
हाल में दिल्ली के द्वारका में भारी बारिश के बाद सड़क में इतना बड़ा गड्ढा हो गया था कि उसमें एक कार समा गई थी. (तस्वीर- पीटीआई)

कोर्ट ने फैसले में क्या कहा?

मामला अदालत में पहुंचा. सुनवाई के दौरान ऑटो ड्राइवर सूरज कुमार के वकील संदीप पाटिल ने दलील दी कि यह बात रिकॉर्ड में मौजूद है कि वो सड़क ऊबड़-खाबड़ थी. संदीप ने रिकॉर्ड के हवाले से कहा कि सड़क ऐसी थी कि ड्राइवर की गलती न हो, तो भी दुर्घटना हो सकती है. इसलिए आरोपी को बरी किया जाना चाहिए.

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया. मेट्रोपॉलिटन मैजिस्ट्रेट एपी खानोरकर ने कहा कि गवाहों ने भी अपने बयानों में माना है कि सड़क खराब थी. लेकिन गवाहों ने यह नहीं बताया कि ऑटो ज़्यादा स्पीड में था. इससे इस बात को लेकर संदेह पैदा होता है कि ड्राइवर लापरवाह ढंग से ऑटो चला रहा था.

अदालत ने कहा,

“यह बात स्पष्ट है कि जिस सड़क पर आरोपी ऑटो रिक्शा चला रहा था, वह ऊबड़ खाबड़ थी. ऐसी सड़क की वजह से ड्राइवर ऑटो को सही ढंग से नहीं चला सकता. और इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि ऐसी परिस्थिति में ड्राइवर की गलती के बग़ैर भी दुर्घटना की संभावना है.”

Muddy Road After Heavy Rains In Patiala
पटियाला की एक सड़क की तस्वीर. (साभार- पीटीआई)

रोड एक्सिडेंट वाले टॉप 3 राज्यों में महाराष्ट्र

रोड एक्सिडेंट को लेकर हाल ही में एक रिपोर्ट आई थी. उसके अनुसार, महाराष्ट्र देश के उन 3 राज्यों में शामिल है, जहां सड़क दुर्घटना में सबसे ज़्यादा लोगों की मौत होती है. राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब ने यह जानकारी खुद साझा की थी. 2020 में महाराष्ट्र में सड़क हादसों की वजह से 11 हजार 452 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस पर चिंता भी जाहिर की थी.

(आपके लिए ये स्टोरी हमारे साथी साजिद ने लिखी है.)


वीडियो: एयर इंडिया की फ्लाइट में चींटियों का झुंड मिला, ट्रोल करते लोग क्या बोल गए!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

3 अक्टूबर को आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था.

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

वरुण गांधी ने कहा- UP में किसानों का फसल जलाना सरकार के लिए शर्म की बात, जेल कराऊंगा

किसानों के बहाने फिर बीजेपी पर निशाना साध रहे वरुण गांधी?