Submit your post

Follow Us

नोटबंदी के बाद से कितने लोग बेरोजगार हुए हैं, जानकर शॉक लगेगा

11.15 K
शेयर्स

बेरोजगारी पर एक और रिपोर्ट सामने आई है. वैसे तो इसे जारी करने वाली एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी है, लेकिन सिर्फ प्राइवेट यूनिवर्सिटी की होने की वजह से रिपोर्ट की अहमियत कम नहीं हो जाती. इस रिपोर्ट को 16 अप्रैल के दिन बेंगलुरू की अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने जारी किया है. इसके मुताबिक बीते दो साल के दौरान करीब 50 लाख लोगों ने अपनी नौकरियां गंवा दी हैं. ये दावा द स्टेट ऑफ वर्किंग इंडिया यानी SWI-2019 नाम की इस रिपोर्ट में किया गया है.

और क्या कहा गया है रिपोर्ट में?

रिपोर्ट की अहम बातें जान लीजिए-
1-साल 2016 से 2018 के बीच करीब 50 लाख लोग बेरोजगार हुए.
2-बेरोजगारी बढ़ने की शुरुआत नवंबर 2016 में नोटबंदी के साथ हुई.
3-नोटबंदी और नौकरी कम होने के बीच कोई सीधा संबंध स्थापित नहीं हो पाया.
4-बेरोजगारी के शिकार ज्याद पढ़े और कम पढ़े-लिखे लोग दोनों हैं.
5-ये सर्वे सेंटर फॉर मॉनिटरिंग द इंडियन इकॉनमी यानी CMIE-CPDX ने कराया है.

इस रिपोर्ट पर राजनीति भी शुरू हो गई है. आल इंडिया महिला कांग्रेस नाम के एक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया-

नोटबंदी के बाद से 50 लाख लोग बेरोजगार हुए हैं. पिछले दशक से देश में बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है. साल 2016 से तो ये और भी बुरी हालत में पहुंच गई है. 

कंज्यूमर पिरामिड क्या होता है, जिसे सर्वे का आधार बनाया गया?
सेंटर फॉर मॉनिटरिंग द इंडियन इकॉनमी यानी CMIE हर 4 महीने में एक सर्वे कराता है. इसमें CMIE मुंबई की एक बिजनेस इन्फॉर्मेशन कंपनी और स्वतंत्र थिंक टैंक है. ये कंपनी ऐसा सर्वे हर 4 महीने में कराती है. इसमें 1.6 लाख परिवारों और 5.22 लाख लोगों को शामिल किया जाता है. साल 2015-16 में 1,58,624 घरों में सर्वे किया गया था. इसके बाद से इसे बढ़ाया गया है. सर्वे में घरों में पानी, बिजली, खर्च, आमदनी, संपत्ति और कर्ज आदि का ब्योरा जुटाया जाता है. साथ ही बेरोजगारी, उपभोक्ता की दिलचस्पी वगैरह का पता लगाया जाता है.
इसी सर्वे के आधार पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने ये रिपोर्ट तैयार की है. अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के सहायक प्रोफेसर अमित भोसले के मुताबिक- ‘हमारे पास पीरियॉडिक लेबर फोर्स सर्वे के आधिकारिक आंकड़े नहीं थे, इसलिए ऐसा करना पड़ा.’

क्या कहता है सर्वे?
सर्वे के आधार पर जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि बेरोजगारी 2011 के बाद से ही तेजी से बढ़ रही है. साल 2016 के बाद से ऊंची शिक्षा पा चुके लोगों के साथ-साथ कम पढ़े-लिखे लोगों की नौकरियां भी जाने लगीं. उनके लिए काम के मौके कम हो गए. शहरी महिलाओं में भी बेरोजगारी बढ़ी है. ग्रेजुएट महिलाओं में से 10 फीसदी ही काम कर रही हैं. और करीब 34 फीसदी बेरोजगार हैं. रिपोर्ट के मुताबिक 20 से 24 साल के शहरी युवाओं में बेरोजगारी ज्यादा है. अभी ऐसे करीब 60 फीसदी युवा बेरोजगार हैं. 2018 में कुल बेरोजगारी दर करीब 6 फीसदी रही. ये साल 2000 से  2011  के दशक से दोगुनी है. सितंबर-दिसंबर 2016 में शुरू हुआ गिरावट का दौर अब तक ठीक नहीं हुआ है.


वीडियोः कटिहार में नरेंद्र मोदी की नोटबंदी, रोजगार और पाकिस्तान पर हुई चुनावी बहस

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
More than 50 Lakh men have lost their jobs since demonetisation 2016, CMIE-CPDX survey

टॉप खबर

ड्यूटी पर लौटे विंग कमांडर अभिनंदन के साथियों का जोश देख आप भी खुश हो जाएंगे

अभिनंदन ने एक मैसेज भी दिया है.

सनी देओल ने 'ढाई किलो का हाथ' वाला डायलॉग मारा, कर्नल राठौड़ ने 'निशाना' कांग्रेस की ओर मोड़ दिया

राजस्थान के रोड शो में सनी को देखने के लिए 'बेताब' लोगों ने 'गदर' मचा रक्खा था, लेकिन सनी पाजी 'बॉर्डर' क्रॉस करके यूपी चले गए.

राहुल गांधी के पूर्व बिजनेस पार्टनर को कांग्रेस के वक्त मिला था डिफेंस ऑफसेट कॉन्ट्रेक्ट!

रफाल पर मोदी सरकार को घेर रहे थे, खुद वैसे ही आरोपों में घिर गए हैं.

499 नंबर पाकर हंसिका और करिश्मा ने CBSE टॉप किया

मेरिट लिस्ट में पहली पांच टॉपर लड़कियां हैं!

मसूद अज़हर के अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित होने से भारत को क्या फर्क पड़ेगा?

हर बार चीन रोक लगा देता था, इस बार चीन ने भी समर्थन कर दिया.

भारतीय आर्मी ने जिस 'हिम मानव' के पैर की तस्वीरें जारी की थी, उसके अब और कई फोटो आए हैं

नई तस्वीरों में हिम मानव के पैरों के निशान की लंबाई नापी जा रही है.

दिल्ली में कॉन्स्टेबल ने ट्रेन के नीचे कुचलने से महिलाओं-बच्चों को बचाया, लेकिन खुद नहीं बच पाया

ट्रैक पर एक नहीं बल्कि दोनों तरफ से ट्रेन आ रही थी.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने यौन उत्पीड़न के आरोपों के जवाब में ये 9 बातें बोलीं

एक महिला के गंभीर आरोपों को लेकर हुई सुनवाई में तीन जजों की बेंच ने एक बहुत बड़ा दावा किया.

BJP प्रवक्ता पर जूता फेंकने वाला क्यों नाराज था, 2 दिन पहले की 4 FB पोस्ट से पता चला

खुद आयकर के चंगुल में फंसा है जूता फेंकने वाला शक्ति भार्गव.

BJP प्रवक्ता पर जूते से हमला करने वाला कानपुर का बहुत नामी आदमी है

450 करोड़ की प्रॉपटी 11.5 करोड़ में खरीद चुका है!