Submit your post

Follow Us

नोटबंदी के बाद से कितने लोग बेरोजगार हुए हैं, जानकर शॉक लगेगा

बेरोजगारी पर एक और रिपोर्ट सामने आई है. वैसे तो इसे जारी करने वाली एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी है, लेकिन सिर्फ प्राइवेट यूनिवर्सिटी की होने की वजह से रिपोर्ट की अहमियत कम नहीं हो जाती. इस रिपोर्ट को 16 अप्रैल के दिन बेंगलुरू की अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने जारी किया है. इसके मुताबिक बीते दो साल के दौरान करीब 50 लाख लोगों ने अपनी नौकरियां गंवा दी हैं. ये दावा द स्टेट ऑफ वर्किंग इंडिया यानी SWI-2019 नाम की इस रिपोर्ट में किया गया है.

और क्या कहा गया है रिपोर्ट में?

रिपोर्ट की अहम बातें जान लीजिए-
1-साल 2016 से 2018 के बीच करीब 50 लाख लोग बेरोजगार हुए.
2-बेरोजगारी बढ़ने की शुरुआत नवंबर 2016 में नोटबंदी के साथ हुई.
3-नोटबंदी और नौकरी कम होने के बीच कोई सीधा संबंध स्थापित नहीं हो पाया.
4-बेरोजगारी के शिकार ज्याद पढ़े और कम पढ़े-लिखे लोग दोनों हैं.
5-ये सर्वे सेंटर फॉर मॉनिटरिंग द इंडियन इकॉनमी यानी CMIE-CPDX ने कराया है.

इस रिपोर्ट पर राजनीति भी शुरू हो गई है. आल इंडिया महिला कांग्रेस नाम के एक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया-

नोटबंदी के बाद से 50 लाख लोग बेरोजगार हुए हैं. पिछले दशक से देश में बेरोजगारी लगातार बढ़ रही है. साल 2016 से तो ये और भी बुरी हालत में पहुंच गई है. 

कंज्यूमर पिरामिड क्या होता है, जिसे सर्वे का आधार बनाया गया?
सेंटर फॉर मॉनिटरिंग द इंडियन इकॉनमी यानी CMIE हर 4 महीने में एक सर्वे कराता है. इसमें CMIE मुंबई की एक बिजनेस इन्फॉर्मेशन कंपनी और स्वतंत्र थिंक टैंक है. ये कंपनी ऐसा सर्वे हर 4 महीने में कराती है. इसमें 1.6 लाख परिवारों और 5.22 लाख लोगों को शामिल किया जाता है. साल 2015-16 में 1,58,624 घरों में सर्वे किया गया था. इसके बाद से इसे बढ़ाया गया है. सर्वे में घरों में पानी, बिजली, खर्च, आमदनी, संपत्ति और कर्ज आदि का ब्योरा जुटाया जाता है. साथ ही बेरोजगारी, उपभोक्ता की दिलचस्पी वगैरह का पता लगाया जाता है.
इसी सर्वे के आधार पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने ये रिपोर्ट तैयार की है. अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी के सहायक प्रोफेसर अमित भोसले के मुताबिक- ‘हमारे पास पीरियॉडिक लेबर फोर्स सर्वे के आधिकारिक आंकड़े नहीं थे, इसलिए ऐसा करना पड़ा.’

क्या कहता है सर्वे?
सर्वे के आधार पर जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि बेरोजगारी 2011 के बाद से ही तेजी से बढ़ रही है. साल 2016 के बाद से ऊंची शिक्षा पा चुके लोगों के साथ-साथ कम पढ़े-लिखे लोगों की नौकरियां भी जाने लगीं. उनके लिए काम के मौके कम हो गए. शहरी महिलाओं में भी बेरोजगारी बढ़ी है. ग्रेजुएट महिलाओं में से 10 फीसदी ही काम कर रही हैं. और करीब 34 फीसदी बेरोजगार हैं. रिपोर्ट के मुताबिक 20 से 24 साल के शहरी युवाओं में बेरोजगारी ज्यादा है. अभी ऐसे करीब 60 फीसदी युवा बेरोजगार हैं. 2018 में कुल बेरोजगारी दर करीब 6 फीसदी रही. ये साल 2000 से  2011  के दशक से दोगुनी है. सितंबर-दिसंबर 2016 में शुरू हुआ गिरावट का दौर अब तक ठीक नहीं हुआ है.


वीडियोः कटिहार में नरेंद्र मोदी की नोटबंदी, रोजगार और पाकिस्तान पर हुई चुनावी बहस

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.

दिल्ली चुनाव में BJP से गठबंधन पर JDU प्रवक्ता ने CM नीतीश को पुरानी बातें याद दिला दीं

चिट्ठी लिखी, जो अब वायरल हो रही है.

CAA और कश्मीर पर बोलने वाले मलयेशियाई PM अब खुद को छोटा क्यों बता रहे हैं?

हाल में भारत और मलयेशिया के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती गई है.