Submit your post

Follow Us

प्राइवेट कॉलेजों में मेडिकल की फीस घटने वाली है?

मेडिकल की पढ़ाई. यानी डॉक्टर बनाने वाला कोर्स. डॉक्टर कि जिन्हें भगवान का दर्जा मिला हुआ है. ये पढ़ाई देश में सबसे महंगे कोर्सेस में से एक है.

मगर केंद्र सरकार का नया फैसला मेडिकल की पढ़ाई को सस्ता और आसान कर सकता है. अगर स्वास्थ्य मंत्रालय, बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स की रिपोर्ट को हरी झंडी दिखा दे, तो इस पढ़ाई के लिए लगने वाली फीस 90 प्रतिशत तक घट सकती है.

2018 में राष्ट्रपति ने मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया को भंग कर दिया था. उसके स्थान पर बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स को लाया गया था. जब तक मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया की जगह कोई नई संस्था नहीं आ जाती, ये बोर्ड ही देश में मेडिकल एजुकेशन से जुड़े मुद्दों पर काम करेगा. बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स ने रिकमेंड किया है कि प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में MBBS की फीस 8 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. ये फीस प्राइवेट कॉलेजों की 50 पर्सेंट सीटों पर लागू होगी.

6 नवंबर 2019 को हेल्थ मिनिस्ट्री ने मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स को निर्देश दिया. निर्देश कुछ ऐसा था, प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों और डीम्ड यूनिवर्सिटीज में पढ़ाई की फीस को रेगुलेट किया जाए. सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों की फीस में बहुत ज्यादा असंतुलन न हो. मेडिकल की पढ़ाई सबकी पहुंच में हो, प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स पैसों की कमी की वजह से शिक्षा के बुनियादी अधिकार से वंचित न रह जाएं. सरकार ने इसके लिए रास्ता निकालने की कोशिश की है.

National Medical Commission Bill
नेशनल मेडिकल कमीशन बिल का खूब विरोध हुआ था. (फोटो : पीटीआई)

ये निर्देश मिलने के बाद बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स ने क्या किया. उन्होंने कई पॉइंट्स पर बात की. सबसे खास पॉइंट ये था कि सरकारी कॉलेज और प्राइवेट कॉलेज में मेडिकल की फीस में कितना अंतर है? फिलहाल, प्राइवेट कॉलेजों में MBBS की पढ़ाई के लिए 30 लाख से 1.2 करोड़ तक की फीस ली जाती है. जबकि MS (मास्टर ऑफ़ साइंस) और MD (Doctorate of Medicine) के लिए 1 से 3 करोड़ रुपये तक की सालाना फीस ली जाती है.

सरकारी कॉलेजों की बात करें तो. एम्स यानी कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, देश के टॉपमटॉप मेडिकल कॉलेजों में से एक है. यहां MBBS की फीस लगभग 10 लाख रुपये सालाना है. आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल कॉलेज में इसी कोर्स की सालाना फीस 6 लाख रुपये है. सरकारी मेडिकल कॉलेजों में पूरे कोर्स की फीस 5 लाख रुपये के अंदर होती है. इन कॉलेजों में फीस इतनी कम इसलिए होती है क्योंकि इनमें केंद्र और राज्य सरकारें भारी मात्रा में सब्सिडी देती है.

8 अगस्त को संसद के पिछले सेशन में सरकार ने नेशनल मेडिकल काउंसिल बिल को पास करवाया था. नेशनल मेडिकल कमीशन नाम की  संस्था मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया की जगह लेगी. 1956 के इंडियन मेडिकल काउंसिल एक्ट में फीस के रेगुलेशन को लेकर कोई ज़िक्र ही नहीं था.

2019 के नेशनल मेडिकल कमीशन एक्ट में ये बात गंभीरता से दर्ज की गई थी. इस एक्ट का 10वां सेक्शन नेशनल मेडिकल कमीशन को अधिकार देता है. प्राइवेट मेडिकल कॉलेज और डीम्ड यूनिवर्सिटीज की 50 पर्सेंट सीटों की फीस और दूसरे चार्जेज को निर्धारित करने का.

नेशनल मेडिकल कमीशन अगले साल फरवरी-मार्च तक काम करना शुरू कर देगा. कमीशन के शुरू होते ही फीस वाला मामला सुलटा लिए जाने की उम्मीद है.


वीडियो : नेशनल मेडिकल बिल कमीशन 2019 में ऐसा क्या है जिसके विरोध में इतने डॉक्टर्स आ गए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.

लद्दाख में तकरार बढ़ी, तीन जगह चीनी सेना ने मोर्चा लगाया, तंबू गाड़े

दोनों ओर के सैनिकों ने मोर्चा संभाला.

पाताल लोक वेब सीरीज में फोटो से छेड़छाड़ पर BJP विधायक ने की अनुष्का से माफी की मांग

प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा पर रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की.

कानपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकी और खाने को लेकर आपस में भिड़ गए प्रवासी मज़दूर

दो कोचों के मज़दूर आपस में झगड़ पड़े. कुछ को खाना मिला, बाकी जमीन पर गिर गया.