Submit your post

Follow Us

लखनऊ में हजारों कोरोना मरीज 'लापता', संक्रमण बढ़ने के डर से प्रशासन ने बिठाई जांच

कोरोना वायरस से देश का बुरा हाल है. हर दिन लाखों नए केस सामने आ रहे हैं. हजारों लोगों की मौत हो रही है. इस सबके बीच कोरोना से संबंधित डेटा में हेरफेर की खबरें भी आ रही हैं. ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश से है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, राजधानी लखनऊ से 8876 कोरोना मरीज गायब हो गए हैं. इन सभी ने लखनऊ के तीन बड़े अस्पतालों में RT-PCR टेस्ट कराए थे. अब इनका कुछ पता नहीं चल रहा है. मामला बढ़ता देख अब प्रशासन ने जांच बिठा दी है.

इन सभी लोगों का कोरोना टेस्ट राम मनोहर लोहिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) और संजय गांधी पोस्ट ग्रैजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (PGI) में हुआ था. दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक़, स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड में इन लोगों का पता गलत निकला है. इन सभी 8876 मरीजों के बारे में 1 मई से 20 मई के बीच पता चला. प्रशासन को डर इस बात का भी है कि ये मरीज दूसरे लोगों में संक्रमण फैलाने का कारण न बन जाएं.

कहां पर कितनी गड़बड़?

लखनऊ जिले की नोडल अधिकारी रोशन जैकब ने चिकित्सा शिक्षा के महानिदेशक को इस बारे में जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना मरीजों को कोरोना किट भेजी जाती है, जो गलत पते पर जा रही है. लोग उसे वापस भी नहीं कर रहे हैं. जैकब की चिट्ठी के मुताबिक़, सबसे ज्यादा लोहिया संस्थान के मरीजों का डेटा गलत दर्ज है. यहां 4049 लोगों का पता गलत मिला. इसके अलावा KGMU में 3749 और PGI में 1078 लोगों के पते गलत पाए गए.

आखिर इसकी वजह क्या है?

इस गड़बड़ी के पीछे अधिकारियों ने दो प्रमुख कारण बताए हैं. दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, पहला कारण तो ये कि कुछ लोग जानबूझकर अपना गलत पता दर्ज कराते हैं. ऐसा शायद इसलिए कि उनके घर पर पोस्टर न चिपकाया जा सके. दूसरा कारण ये कि सरकारी अस्पतालों में काम करने वाले कर्मचारी पता नोट करते समय गलत डेटा फीड कर देते हैं. अस्पतालों में जांच कराने वालों की लंबी लाइन लगती है. शायद भीड़ की वजह से ये गलती हो जाती हो. अधिकारियों का कहना है कि कुछ समय पहले प्राइवेट हॉस्पिटल में टेस्टिंग के दौरान भी ऐसी ही गड़बड़ियां सामने आई थी.

लोग ठीक हुए या नहीं?

कोरोना टेस्ट कराने वालों के डेटा में इस गड़बड़ी के कारण ये भी पता नहीं चल रहा है कि जो लोग संक्रमित हुए थे, वे ठीक हुए हैं या नहीं. बहुत से मामलों में पते के साथ-साथ मोबाइल नम्बर तक गलत दर्ज हैं. दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक, चिकित्सा शिक्षा महानिदेशक सौरभ बाबू ने कोरोना के संभावित मरीजों के डेटा में इस गड़बड़ी के लिए तीनों संस्थानों से जवाब मांगा है. इन लोगों के नाम, पता, संपर्क नंबर इत्यादि सही तरीके से पोर्टल पर दर्ज करने के निर्देश भी दिए गए हैं.

यूपी में कोरोना का हाल

यूपी में कोरोना मरीजों की बात करें तो संक्रमण के दर्ज मामले तेजी से घट रहे हैं. रविवार को जारी बयान के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में कोरोना के 4,844 नए मामले सामने आए. 234 लोगों की मौत हुई. 14,086 लोग इलाज के बाद अस्पतालों से डिस्चार्ज हुए. राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 84,880 रह गई है. राजधानी लखनऊ में भी मामले काफी घटे हैं, पिछले 24 घंटे में यहां 301 नए केस दर्ज किए गए. इस दौरान मरने वालों की संख्या 18 रही शहर में अब तक कोरोना से मरने वालों का संख्या 2379 हो गई है.


विडियो- UP में शिक्षकों की मौत पर झांसी DM की चिट्ठी पर हंगामा, योगी आदित्यनाथ ने भी लिया बड़ा फैसला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

जनसंख्या नीति का समर्थन या विरोध करने से पहले ये खबर पढ़ लीजिए

बढ़ती जनसंख्या की चिंता असम के CM हेमंत बिस्वा सर्मा को भी है और यूपी के CM योगी आदित्यनाथ को भी.

अफगानिस्तान में तालिबान के बनने-बिखरने और फिर से ताकतवर होने की पूरी कहानी

अफगानिस्तान में भारत ने 22 हज़ार करोड़ रुपए से ज़्यादा की रकम इन्वेस्ट की थी.

भाजपा समर्थकों पर लाठीचार्ज करने वाले थानेदार की विदाई में नाचे पुलिसवाले भी सस्पेंड

थानेदार को किया गया था लाइन हाजिर.

कांवड़ यात्रा को उत्तराखंड की 'ना' लेकिन यूपी की 'हां', आखिर होगा क्या?

कोरोना संकट के चलते पिछले साल कांवड़ यात्रा पर ब्रेक लग गया था.

मोदी कैबिनेट फेरबदल: शपथ लेने वाले 43 मंत्रियों के बारे में जानिए

15 कैबिनेट मंत्रियों ने ली शपथ.

कैबिनेट विस्तार से पहले टीम मोदी के 2 कद्दावर मंत्रियों ने भी इस्तीफा दे दिया है

राष्ट्रपति ने 12 मंत्रियों के इस्तीफे मंजूर कर लिए हैं.

दलितों के घर ढहाने और महिलाओं से छेड़खानी के आरोपों पर क्या बोली आजमगढ़ पुलिस?

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने इसे 'पुलिस की गुंडागर्दी' करार दिया है.

मुस्लिम औरतों की बोली लगाने वाली वेबसाइट की लिंक शेयर कर घिरा राइट विंग 'पत्रकार'

बवाल हुआ तो शिकायत करने वाली औरतों को ही कोसने लगे.

नेमावर हत्याकांड: आरोपी सुरेंद्र चौहान की प्रॉपर्टी पर चली जेसीबी, CBI जांच की मांग उठी

कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा नेता होने के चलते सुरेंद्र चौहान को इस मामले में संरक्षण मिला.

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर धमाका, DGP दिलबाग सिंह बोले-ड्रोन से हुआ हमला

दो संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है.